ब्रेकिंग
Gaziabad: 30 सितम्बर के बाद नहीं चलेंगी ये गाड़ियां, देना होगा भारी जुर्मानाUrvashi Rautela लॉन्ग बॉडीकोन गाउन में आई नजर, फैंस का चकराया सिरAgra: संदिग्ध परिस्थितियों में क्लीनिक संचालक डॉक्टर लापता, परिजनों ने जताई अनहोनी की आशंकाAyodhya: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति का किया अनावरणSitapur: पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयन्ती पर गरीब कल्याण किसान मेले का हुआ आयोजनSiddharthnagar: पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर किसान कल्याण मेले का हुआ आयोजनपं. दीनदयाल उपाध्याय ने राष्ट्र निर्माण के लिए अपना जीवन किया समर्पित: पीएम मोदीगुरू से लाखों ले उड़े चेले, अंधविश्वास में ठगी गई महिला टीचरपीएम मोदी और सीएम योगी समेत कई नेतायों ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर दी श्रद्धांजलिMathura: दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष, एक की मौत, आधा दर्जन घायल

केंद्र ने Auto-Telecom को दी राहत, 26000 करोड़ के पैकेज का किया ऐलान

Auto और Telecom Sector के लिए बड़ी खबर है। केंद्रीय कैबिनेट ने Automobile sector के लिए Production linked incentive scheme को स्वीकृति दे दी है। इतना ही नहीं Telecom Sector को भी सहायता दी गई है। इसका लाभ Airtel, Vodafone, Reliance, Jio, Idea और दूसरे Telecom operator को मिलेगा।

केंद्रीय कैबिनेट की वार्ता में केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने जानकारी दी है. कि सरकार भारत की ऑटो कंपोनेंट ग्लोबल मार्केट के 2% शेयर बढ़ाना चाहती है। ऑटो सेक्टर में आयात को कम करना चाहते हैं और कंपोनेंट की मैन्युफैक्चरिंग बढ़ाना चाहते हैं। PLI के अंतर्गत ऑटो सेक्टर को सरकार ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर को 26,058 करोड़ रुपये का इंसेटिव उपलब्ध कराएगी। इनमें उन कंपनियों को लाभ होगा जो कार, ऑटो पार्ट और दूसरे product बनाती हैं।

सूत्रों के अनुसार, PLI पैकेज ऑटो सेक्‍टर के लिए बड़ी राहत की बात है। इससे इलेक्ट्रिक व्‍हीकल की मैन्‍युफैक्‍चरिंग को भारत में बढ़ावा मिलेगा। साथ ही देश में 7.5 लाख से अधिक नौकरियां मिलेगी। वहीं, केंद्रीय मंत्री ने बताया कि पीएलआई स्‍कीम से भारत की विनिर्माण क्षमता मजबूत होगी। पर्यावरण ठीक होगा। इलेक्ट्रिक वाहन बाजार को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही बताया कि टेलिकॉम सेक्‍टर में 100 फीसद FDI को कुछ शर्तों के साथ मंजूरी दी गई है। पैकेज का उद्देश्य Vodafone Idea जैसी कंपनियों को राहत देना है, जिन्हें पिछले सांविधिक बकाया के रूप में हजारों करोड़ का अदायगी करना है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities