ब्रेकिंग
ताजनगरी में पुलिस ने जबरन उठाया किसानों का धरनास्कूल बना स्वीमिंग पूल, हेड मास्टर ने प्रधान को दोषी ठहरायाअंधविश्वास ने ली महिला की जान, नहीं मिला उपचारभारतीय संस्कृति सारे विश्व में निराली है : संघ संपर्क प्रमुख रामलालनरेंद्र गिरि का शव फांसी पर था तो कैसे चलता रहा पंखा? चौंकाने वाला वीडियो आया सामनेEtah: भारत से गए पाकिस्तानियों के नाम अभी भी दर्ज है जमीन, प्रशासन ने की कार्रवाईSiddharthnagar : हॉस्पिटल में हुई चोरी का हुआ खुलासा, पुलिस ने पांच चोरों को धरदबोचाएटा: खुलेआम अवैध शराब बिक्री करते युवक का वीडियो हुआ वायरल, आरोपी गिरफ्तारकुछ कहूं…लोकतंत्र में बाबूराज…आखिर ? अनिच्छा से पंच तत्व में विलीन हुए महंत नरेंद्र गिरि

केंद्र सरकार ने बढ़ाया रबी सीजन की छह फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य

नए कृषि कानूनों को लेकर केंद्र सरकार ने कुछ किसान संगठनों के कड़े विरोध के बीच रबी सीजन की छह फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी कर दी है। सबसे अधिक बढ़ोतरी मसूर और सरसों में 400-400 रुपये प्रति क्विंटल की हुई है, जबकि MSP में सबसे कम बढ़ोतरी जौ में हुई है। सरकार ने मसूर, सरसों, गेहूं, जौ, चना और सूरजमुखी के सरकारी खरीद दाम में बढ़त की है। वहीं, जौ की MSP 1600 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 1635 रुपये हुई है। चने की MSP में 130 रुपये की बढ़ोतरी की गई है। अब इसके भाव 5230 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किए गए है। सरसों की MSP 400 रुपये, मसूर की 400 रुपये, और सूरजमुखी की MSP में 114 रुपये की बढ़त करने का निर्णय किया गया है। इससे MSP को लेकर किसान संगठनों के कुछ लोगों के जरिये की जा रही झूठी बातों पर विराम लगना चाहिए।

सरकार मौजूदा समय में रबी और खरीफ दोनों सीजन में उगाई जाने वाली 23 फसलों के लिए एमएसपी निश्चित करती है। फसल की बोआई से पहले ही प्रतिवर्ष उसकी एमएसपी तय की जाती है। इसका एक उद्देश्य यह भी होता है कि इससे किसान बोआई के लिए फसलों का रकबा बढ़ाने या घटाने का निर्णय सरलता से कर सकें। यद्यपि, किसान नए न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर संतुष्ट नहीं दिखाई दे रहे है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities