ब्रेकिंग
विद्यालय शुल्क विवाद में प्राधिकरण गठन की मांग पूरी…कुछ कहूं… अब प्रभु कृपा करहु एहि भांति…प्लास्टिक कर रहा है धरती को नष्ट, हो रहा पर्यावरण दूषितAgra: पति-पत्नी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, एक ही फंदे पर लटके मिले नवदंपती के शवमहोबा जनपद के अर्जुन सिंह की नगरी में कम भीड़ के साथ मनाया गया जल विहारHamirpur: आजादी का अमृत महोत्सव और पोषण माह पर आयोजित हुआ जन जागरूकता कार्यक्रमनए फीचर के साथ WhatsApp बन जाएगा सुपर ऐपMahoba: बारिश में ढहा गरीब का आशियाना, परिवार हुआ बेघरभोपाल में पीएम मोदी के जन्मदिन पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने काटा 71 फीट लंबा केकराजनीतिक अटकलों के बीच पीएम मोदी से मिले सीएम मनोहर लाल

एटा के बिलसड गांव में मिले 1500 वर्ष पूर्व गुप्त कालीन मंदिर के अवशेष

विकास दुबे, एटा

जनपद एटा के बिलसड गांव में पुरातत्व विभाग की टीम को खुदाई के दौरान 1500 वर्ष पूर्व का गुप्त कालीन मंदिर के अवशेष मिले हैं। मंदिर के अवशेषों में दो खम्भें भी मिले हैं. जिनपर बारीकी से चित्रकारी हो रही हैं। खम्भें के साथ साथ कुछ पत्थर की मूर्तियां और मंदिर की सीढ़ियां भी खुदाई में मिली हैं।

आपको बता दें कि पांचवी शताब्दी का ऐतिहासिक नगर बिलसण जब टीले में तब्दील हुआ तो इसका पूरा नक्शा ही बदल गया। इसका एक भाग बिलसड पछाया दूसरा बिल्सड पवाया और तीसरा हिस्सा बिलसड पट्टी के नाम से बन गया। पुरातत्व विभाग को खुदाई के दौरान मंदिर के अवशेष इसी तीसरे भाग में मिले हैं। पीले को समतल कराने के दौरान पुरातत्व विभाग को गुप्तकालीन पांचवी शताब्दी के मंदिर के अवशेष मिलने के बाद विभाग द्वारा गहरी खुदाई कराई गई. जिसमें मंदिर के अवशेषों के साथ कुछ पुरानी एंटीक मूर्तियां और सीढ़ियां मिली हैं।

बिलसड का प्राचीन नाम वैराग्यं था. जो आज नाम बदलते बदलते विल्सन हो गया। विलसड गांव प्राचीन काल में बौद्ध परंपरा का मुख्य केंद्र भी बताया जा रहा है। गांव वालों ने बातचीत में बताया कि हजारों साल पहले महात्मा बुद्ध इस गांव में ठहरे थे. इसी कारण गुप्त साम्राज्य ने यह बुद्ध बिहार और मंदिरों का निर्माण कराया था आज भी बौद्ध भिक्षु यहां गांव में आते जाते रहते हैं।

वहीं, गांव के एक बुजुर्ग ने बताया कि बिलसड में अंग्रेजों के समय पर अंग्रेजों ने कई बार इस टीले की खुदाई की थी. जिसके चलते इस टीले का पूरा नक्शा ही बदल गया। गांव के लोगों का यह भी कहना हैं कि कुछ दशक पहले थाईलैंड की टीम भी इस गांव में आई थी. तब वहां पर मिले कुछ अवशेष बौद्ध कालीन बताए गए थे। यह अभिषेक भारत की महान धरोहर है. गांव के लोगों का मानना है कि विल्सन एक ऐतिहासिक महत्व की जगह है. हम चाहते हैं कि टीले की  खुदाई कर नीचे दफन इतिहास को निकाला जाए. वीर सर के सांस्कृतिक व धार्मिक विकास को पर्याप्त बजट भी उपलब्ध कराया जाए।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities