ब्रेकिंग
Gaziabad: 30 सितम्बर के बाद नहीं चलेंगी ये गाड़ियां, देना होगा भारी जुर्मानाUrvashi Rautela लॉन्ग बॉडीकोन गाउन में आई नजर, फैंस का चकराया सिरAgra: संदिग्ध परिस्थितियों में क्लीनिक संचालक डॉक्टर लापता, परिजनों ने जताई अनहोनी की आशंकाAyodhya: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पं. दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति का किया अनावरणSitapur: पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयन्ती पर गरीब कल्याण किसान मेले का हुआ आयोजनSiddharthnagar: पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर किसान कल्याण मेले का हुआ आयोजनपं. दीनदयाल उपाध्याय ने राष्ट्र निर्माण के लिए अपना जीवन किया समर्पित: पीएम मोदीगुरू से लाखों ले उड़े चेले, अंधविश्वास में ठगी गई महिला टीचरपीएम मोदी और सीएम योगी समेत कई नेतायों ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर दी श्रद्धांजलिMathura: दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष, एक की मौत, आधा दर्जन घायल

तालिबान का पहला फरमान, लड़के-लड़कियों के साथ पढ़ने पर लगाई लगाम

अफगानिस्तान की सत्ता को तालिबानियों ने अपने कब्जे में लेते ही जनता पर अपने तालिबानी फरमान थोपने शुरू कर दिए हैं। तालिबान ने अपना पहला फरमान जारी किया है। जिसमें हेरात प्रांत के सभी सरकारी और निजी कॉलेजों में लड़के-लड़कियों के साथ पढ़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस दौरान तालिबान ने कहा है कि समुदाय में सभी बुराइयों की नींव यही है। सूत्रों के अनुसार, तालिबान के सेनापतियों ने विश्वविद्यालय के प्राइवेट कॉलेजों, प्रोफेसरों के मालिकों के साथ सभा की, जिसके बाद यह निर्णय लिया गया कि अब स्कूल और कॉलेजों में लड़का-लड़की साथ नहीं पढ़ेंगे।

आपको बता दें, Taliban दूसरी बार सत्ता में काबिज होने के बाद उसने महिलाओं को सामान और बराबरी का दर्जा देने का राग अलापा था लेकिन सत्ता हाथ में आते हे तालिबान अपने पुराने रंग में आ गया उसने अपने पुराने फरमानो को जनता पर थोपना शुरू क्र दिया सबसे पहली मार AFGANISTAN की CO-EDUCATION पर पड़ी है, तालिबान ने अपने पहले आदेश में जो निर्णय लिया है उसके अनुसार लड़के और लड़कियों के लिए पृथक-पृथक संस्थान होंगे। इस फरमान को मुल्ला फरीद ने जारी किया। लड़कियों के शिक्षण संस्थानों में अब सिर्फ महिला प्रोफेसर ही छात्राओं को पढ़ा पाएंगी। किसी पुरूष कॉलेज में महिला शिक्षक है तो उनको भी तुरंत हटाया जाएगा हेरात में प्राइवेट और सरकारी विश्वविद्यालयों, कॉलेजों में 40,000 छात्र और 2,000 प्रवक्ता हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities