ब्रेकिंग
लड़की के साथ अश्लील फोटो का डर रहा मौत की वजह, सुसाइड नोट से उजागर हुए कई राजSitapur: तेज बारिश के चलते गिरी दीवार, मलबे में दबे पति-पत्नी समेत पांचSiddharthnagar: पूर्व प्रधान ने धोखाधड़ी से हड़पी सरकारी रकम, कागजों में पूरे दिखाए निर्माण कार्यऔरैया: बहन के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर भाई की पिटाईMahoba: अवैध अतिक्रमण पर चला बुलडोजर, जिला प्रशासन ने चलाई बड़ी मुहिमनरेंद्र गिरि मामले में सीबीआई जांच के लिए याचिका दायर, हो सकती है अधिकारियों से पूछताछमहंत नरेंद्र गिरि के मौत के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा: सीएम योगीमहंत की डेथ मिस्ट्री में कई राज,सपा के पूर्व मंत्री से लेकर बिल्डर तक जुड़े है तार  सऊदी विदेश मंत्री ने पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान तालिबानी हुकूमत पर की चर्चादेखिए कैसे संतों की मौतों से भरा रहा है निरंजनी अखाड़े का इतिहास, बेशुमार दौलत रही मौतों की वजह

Unnao: पुलिस ने किया चोर गिरोह का खुलासा, लेकिन पुलिस की थ्योरी पर खड़े हुए सवाल

निशानाथ पांडे, उन्नाव

उन्नाव पुलिस ने जिले में सक्रिय एक बड़े चोर गिरोह का खुलासा किया है. दरअसल, पुलिस ने 8 सितंबर से जिले में चोरों की धर पकड़ के लिए अभियान चलाया हुआ है. इसी के तहत स्वाट टीम के साथ सदर कोतवाली पुलिस ने मिलकर एक बड़े चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है. इस अभियान में पुलिस ने आठ लोगों की गिरफ्तारी के साथ एल्युमिनियम की सिल्लियां, असलहे और कारतूस के साथ एक लोडर और करीब 50 हजार की नगदी भी बरामद की है. सीओ नगर कृपा शंकर ने बताया कि 12 सितंबर को मुखबिर से मिली सूचना पर पुलिस की संयुक्त टीम ने मगरवारा रेलवे स्टेशन के पास खण्डहर से चोरों के गैंग को दबोचा. चोरों ने शहर और आसपास की कई जगहों से चोरियां करने की बात स्वीकार की है.

पुलिस ने इन चोरों की गिरफ्तारी के पीछे जो थ्योरी बनाई है. अब उस पर ही सवाल खड़े होने लगे है. दरअसल, आरोप है कि पुलिस जिस चोर गिरोह की गिरफ्तारी का दावा कर रही है. उनमें से कबाड़ का काम करने वाले रईश, आकाश गुप्ता समेत 4 आरोपियों को पुलिस ने अलग अलग जगह से गिरफ्तार किया गया है. जबकि तीन अन्य उसके अगले दिन उठाए गए थे. और एक कि गिरफ्तारी के लिए मिर्जा फैक्ट्री गेट पर स्वाट टीम लगी थी. तो फिर इतने दिनों तक सभी को पुलिस ने कहां रखा. साथ ही खंडहर से माल समेत चोरों की गिरफ्तारी की थ्योरी भी किसी के गले नहीं उतर रही. इस चोर गैंग की गिरफ्तारी में मुख्य रूप से जो माल बरामद दिखाया गया है. वो बीती 1 अगस्त को एक फैब्रिक फैक्ट्री से चोरी हुआ था. अब सवाल ये उठता है कि जो माल 1 अगस्त को चोरी हुआ वो कबाड़ी के पास से एलमयूनियम गलाने वाली फैक्ट्री तक पहुंच गया. ऐसे में सवाल ये उठता है कि ये माल वापस चोरों तक कैसे पहुंचा. इन्ही सब बातों से पुलिस की थ्योरी पर सवाल खड़े हो रहे हैं. अब सवाल ये है कि क्या पुलिस गुड वर्क दिखाने के लिए मन गडंथ कहानी बना रही है.

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities