ब्रेकिंग
खनन माफिया हाजी इकबाल और उसके बहनोई दिलशाद पर योगी सरकार ने कसा शिकंजा, बुलडोजर और संपत्ति पर एक्शन के बाद पुलिस ने किया अब तक का सबसे बड़ा ‘प्रहार’5 लाख की सुपारी लेकर इन खूंखार शूटर्स ने मध्य प्रदेश की पूजा मीणा का किया मर्डर, पति ने हत्या की पूरी फिल्मी कहानी बयां की तो ये चार लोग गदगदडेढ़ करोड़ के जेवरात मैंने नहीं किए पार प्लीज छोड़ दे ‘साहब’ पर नहीं माना थानेदार और थाने में मजदूर की दर्दनाक मौतAzadi ka Amrit Mahotsav : मरी नहीं जिंदा है दूसरा ’जलियां वाला बाग’ की गवाह ‘इमली’ जिस पर एक साथ 52 क्रांतिकारियों को दी गई थी फांसीSawan Special Story 2022 : यूपी के इस शहर में भू-गर्भ से प्रकट हुए नीलकंठ महादेव, महमूद गजनवी ने शिवलिंग पर खुदवा दिया ‘लाइलाह इलाल्लाह मोहम्मद उर रसूलल्लाह‘बीजेपी नेता बीएल वर्मा के जन्मदिन पर पीएम मोदी ने खास अंदाज में दी बधाईजनिए किस मामले में मंत्री राकेश सचान पर कोर्ट ने फैसला किया सुरक्षित, सपा ने ट्वीटर पर क्यों लिखा ‘गिट्टी चोर’देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़, वकालत से लेकर सियासत तक जाट नेता का ऐसा रहा सफरबीच सड़क पर आपस में भिड़े पुलिसवाले और एक-दूसरे को जड़े थप्पड़ ‘खाकीधारियों के दगंल’ की पिक्चर हुई रिलीज तो मच गया हड़कंपनदी के बीच नाव पर पका रहे थे भोजन तभी फटा गैस सिलेंडर, बालू के अवैध खनन में लगे पांच मजदूरों की जलकर दर्दनक मौत

बिजली विभाग को करोड़ों रुपए का चूना लगाने वाले इंजीनियरों पर बड़ी कार्रवाई, 55 बर्खास्त

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। अस्थायी कनेक्शन मामले में विभाग को करोड़ों रुपए का चूना लगाने वाले इंजीनियरों को लेकर सख्त कदम उठाया गया। जिसके चलते पावर कॉर्पोरेशन ने गलत कनेक्शन देने और विभाग को करोड़ों रुपए का चूना लगाने के साथ-साथ ड्यूटी में लापरवाही बरतने के मामले में 55 सरकारी इंजीनियरों को बर्खास्त कर दिया है। ये सभी इंजीनियर विभाग को चूना लगाने के साथ बिना इजाजत के काफी समय से ड्यूटी से लापता थे। अभियंताओं के ड्यूटी न आने का आलम ये रहा है कि कारपोरेशन को आरोप पत्र उनके घर के पते पर भेजना पड़ा फिर भी कोई उत्तर नहीं मिला जिसके बाद आरोप पत्र की सूचना समाचार पत्रों में प्रकाशित कराई गई।

आपको बता दें कि सही जानकारी मिलने पर सभी इंजीनियरों को ड्यूटी से निकाल दिया गया है। उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में कार्यरत 91 अवर अभियंता ऐसे मिले हैं जो पद पर कार्यरत रहने के दौरान बिना किसी पूर्व सूचना या उच्चाधिकारियों की अनुमति के पांच साल से अधिक समय से अनुपस्थित थे। लंबे समय से गायब रहने पर पावर कारपोरेशन प्रबंधन ने पिछले वर्ष 12 अप्रैल को मुख्य अभियंता जांच समिति को जांच के निर्देश दिए। जांच में पता चला कि कि अवर अभियंता पद पर तैनाती के बाद करीब दस साल से अधिक समय से वे कार्यालय नहीं आ रहे हैं।

इन इंजीनियरों ने न तो इस संबंध में किसी को जानकारी दी और न ही वरिष्ठ अफसरों से अवकाश स्वीकृत कराया था। अवर अभियंताओं की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट भी अफसरों के समक्ष प्रस्तुत नहीं की गई। बिजली विभाग में भ्रष्टाचार और लापरवाही बरतने को प्रबंधन ने कारपोरेशन के नियमों व उत्तर प्रदेश सरकारी कर्मचारी आचरण नियमावली 1956 के प्रविधानों का भी उल्लंघन माना है।

 

 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities