बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

बुंदेलखंड में सपा प्रत्याशी को गांव वालो ने दौड़ाया, ‘काम नहीं तो वोट नहीं’ के लगाए नारे

ज्ञानेन्द्र शर्मा, बांदा

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले की तिंदवारी विधानसभा में चुनाव प्रचार के लिए गए सपा प्रत्याशी बृजेश प्रजापति को पब्लिक ने उल्टे पैर दौड़ा दिया. दरअसल, इलाके की जनता उनके पिछले पांच साल के कार्यकाल से नाराज थी. बृजेश प्रजापति पहले बीजेपी में थे और यहां से मौजूदा विधायक हैं. लेकिन इस बार उन्होंने बीजेपी छोड़ सपा से टिकट ले लिया. अब जब वो चुनाव प्रचार के लिए जमालपुर गांव में पहुंचे तो ग्रामीणों ने ‘काम नहीं तो वोट नहीं’ का नारा देकर उनका विरोध करना शुरू कर दिया. (use ambience) इसी दौरान सपा प्रत्याशी के ड्राइवर ने गाड़ी भगा दी. जिसकी चपेट में आकर एक युवक घायल हो गया. इसके बाद ग्रामीणों का गुस्सा बढ़ गया और देखते ही देखते ग्रामीणों और सपा समर्थकों के बीच जमकर नोकझोंक शुरू हो गई. कुछ देर में सपा प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ गांव से भाग निकले. (use shots with ambience) ग्रामीणों का कहना था कि जिन्होंने काम नहीं कराया, उन्हें गांव में घुसने नहीं दिया जाएगा. ग्रामीणों का कहना था कि सपा प्रत्याशी गांव में बनवाई दो सड़कें दिखा दें. जिसके बाद वो मान जाएंगे कि उन्होंने क्षेत्र में कार्य किया है. मगर विधायक जी ऐसी दो सड़कें नहीं दिखा पाए. जिसके बाद गांव वालों ने उनका विरोध और तेज कर दिया. जिसके बाद आखिरकार सपा प्रत्याशी बृजेश प्रजापति को उतरा हुआ मुंह लेकर गांव से वापस लौटना पड़ा.

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities