ब्रेकिंग
नवाबगंज पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत तो पिता ने बेटे की खुद शुरू की पड़ताल, सीसीटीवी फुटेज देकर थाना प्रभारी से ‘घर के चिराग’ को बचाने की लगाई फरियाद, पर लाश मिली ‘सरकार’गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकी

योगी आदित्यनाथ ने लिया अपने आंसुओं का बदला, भरी संसद में रुलाने वालों के खिलाफ ठोकी ताल

ये साल 2007 की वो तस्वीर है जब योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से सांसद हुआ करते थे और गोरखपुर में खुद को असुरक्षित महसूस करते थे. भरी संसद में पूरे देश ने उनके इन आंसुओं को देखा था. भरी संसद में वो साफ कह रहे थे कि उन्हें गोरखपुर में डर लगता है. उन्हें अपराधी बनाया जा रहा है.

एक सांसद का भरी संसद में इस तरह रोना हर किसी को हैरान कर रहा था. लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी बार-बार योगी आदित्यनाथ को संभालने की कोशिश कर रहे थे. मगर, योगी का साफ कहना था कि उनके खिलाफ षडयंत्र हो रहा है और वो गोरखपुर में बहुत ही कमजोर महसूस करते हैं. मगर, योगी आदित्यनाथ ने खुद को संभाला और अपनी साधना जारी रखी. ऐसी साधना जिसे राजनीति में गेम चेंजर कहते हैं. इसी साधना का नतीजा है कि योगी आदित्यनाथ अब उसी गोरखपुर से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे जिस गोरखपुर में कभी वो असुरक्षित महसूस करते थे. जिन विरोधियों से कल तक उनको डर लगता था आज उन्हीं के खिलाफ उन्होंने ताल ठोक दी है. ये वही गोरखपुर है जहां कभी माफिया राज हुआ करता था लेकिन पांच साल में योगी आदित्यनाथ ने उन सबका सफाया कर दिया. याद कीजिए 2017 का वो दिन जब योगी आदित्यनाथ ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद ये प्रण ले लिया था कि प्रदेश से माफिया राज खत्म करेंगे.

योगी आदित्यनाथ ने खुद के आंसूओं का बदला लिया. उन्होंने प्रदेश में माफियाओं की शामत लाकर अपनी प्रतिज्ञा को पूरा किया. एक बार फिर सुनिए जब योगी आदित्यनाथ संसद में रो रहे थे और अपनी सुरक्षा की मांग कर रहे थे.

ये साल 2007 की तस्वीर है. मगर आज तस्वीर पूरी तरह से बदल चुकी है. प्रदेश में अब माफिया खुद की सलामती की दुआ मांगते हैं. वो पूर्वांचल जो कभी माफियाओं के सांये में रहता था आज वो पूर्वांचल माफियाओं की कब्रगाह बन चुका है. ज्यादातर अपराधी या तो जेल में हैं या प्रदेश छोड़ गए हैं. इतना ही नहीं गुंडों और बगमाशों के अंदर इतना भय है कि अब प्रदेश में बुल्डोजर से उन्हें डर लगने लगा है. योगी का बुल्डोजर जिधर घूम जाता है बदमाशों की सांसें अटक जाती हैं. राजनीति में इसे ही कहते हैं गेम चेंजर
अस्तित्व न्यूज़ के लिए प्रवीण तिवारी की रिपोर्ट

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities