बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

सीएम योगी के एक आदेश पर अपने ही कार्यालय में नजरबंद कर दिए गए DIOS, पुलिस के पहरे में बनाए नियुक्ति पत्र

दूसरी बार सत्ता संभालने के बाद से ही सीएम योगी आदित्यनाथ फिर से फुलफॉम में हैं. अपनी जीरो टोलरेंस की नीति पर काम करते हुए सीएम योगी लगातार ये संदेश दे रहे हैं कि जनता से जुड़ा कोई भी काम रुकना नहीं चाहिए. मगर, कुछ अधिकारी हैं जो सीएम के इस संदेश को समझने में भूल कर रहे हैं. अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐसे अधिकारियों को अपने रडार पर ले लिया है. योगी अब खुद ऐसे अधिकारियों को सबक सिखाने का मन बना चुके हैं. इसके ताजा शिकार हुए हैं उन्नाव के डीआईओएस. शिकार भी ऐसे की अपने ही दफ्तर में नजरबंद कर दिए गए. जी हां, सही सुना आपने डीआईओएस उनके ही दफ्तर में नजरबंद कर दिए गए. वो भी सीएम के आदेश पर. दरअसल, उन्नाव में टीजीटी पास अभ्यर्थियों को 6 महीने बाद भी नियुक्ति पत्र नहीं मिले. और वो नियुक्ति पत्र के लिए लगातार डीआईओएस दफ्तर के चक्कर काट रहे थे. इस बात की जानकारी योगी आदित्यनाथ को लग गई. बस फिर क्या था. योगी जी का पारा बढ़ गया और सीधे उन्नाव डीएम के पास फोन पहुंचा. फोन पहुंचते ही डीएम भी हरकत में आए और फोन पर मिले निर्देशों के मुताबिक डीआईओएस को उनके ही कक्ष में नजरबंद करते हुए उनके कक्ष में पुलिस का पहरा लगा दिया. कहा गया कि जब तक सभी अभ्यर्थियों के नियुक्ति पत्र तैयार नहीं होते वे कार्यालय से बाहर नहीं जाएंगे. नजरबंद होते ही डीआईओएस ने अभिलेखीय कार्रवाई शुरू करा दी.


आपको बता दें कि टीजीटी और पीजीटी अभ्यर्थियों का 31 अक्टूबर 2021 को रिजल्ट आया था. इसके बाद जिले के अलग-अलग स्कूलों में 150 अभ्यर्थियों की नियुक्ति होनी थी, लेकिन स्कूलों में तदर्थ शिक्षकों के तैनात होने से अभ्यर्थियों को नियुक्ति नहीं मिल पा रही थी. अभ्यर्थी महीनों तक डीआईओएस कार्यालय के चक्कर लगाते रहे. जब कुछ हल नहीं निकला तो कुछ अभ्यर्थियों ने कोर्ट का सहारा लिया. इस दौरान 114 अभ्यर्थियों को स्कूलों में नियुक्ति दे दी गई, लेकिन 36 टीजीटी अभ्यर्थियों को अभी तक नियुक्ति नहीं मिल पाई. ये सब आठ नवंबर 2021 से भटक रहे थे. डीआईओस कार्यालय के चक्कर लगाते थक चुके सभी 36 अभ्यर्थी सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले और डीआईओएस की शिकायत की. मुख्यमंत्री ने सभी को आश्वासन दिया कि जिले में पहुंचें, आज ही नियुक्ति होगी. कुछ ही देर में सीएम कार्यालय से डीएम के पास फोन पहुंचा. इसके बाद डीएम ने डीआईओएस पर पुलिस का पहरा बैठा दिया. और निर्देश दिए कि जब तक सभी अभ्यर्थियों की नियुक्ति प्रक्रिया पूरी नहीं कर लेते, कार्यालय से नहीं जाएंगे. जो स्कूल प्रबंधक नियुक्ति देने में आनाकानी करे उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएं. सीडीओ ने अभिलेखीय कार्रवाई पूरी होते ही उसी समय अपने कार्यालय आने को कहा. जिसके बाद रात नौ बजे तक कार्रवाई जारी रही. तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस कार्रवाई से प्रदेश के अधिकारियों को एक बार फिर ये कड़ा संदेश दे दिया कि वो काम कोताही बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं करेंगे.

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities