ब्रेकिंग
ससुराल पहुंची नई-नवेली दुल्हन ने तमंचे से की फायरिंग, हाथ पकड़ कर देवर ने कहा ‘अब ट्रिगर मत दबाना भाभी जी’Rajasthan Paper Leak: कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा रद्द, 8 लोग गिरफ्तार, कल हुई परीक्षा पर भी खतरे का सायाहरिद्वार में अस्थियां विसर्जित करके जयपुर लौट रहे 17 लोग सड़क हादसे के शिकार, 5 की मौत, 12 घायलमध्यप्रदेश के नीमच में दो समुदायों में हिंसा, दरगाह के पास हनुमानजी की मूर्ति लगाने को लेकर बवाल, जमकर हुई पत्थरबाजी और आगजनीबाबा मिल गए… आखिरकार ज्ञानवापी में मिल गया सैकड़ों साल से गायब शिवलिंग !मथुरा में मनाया जा रहा है प्रभु राधारमण लाल का प्रकट्य उत्सव, वृंदावन में विराजित हैं भगवान राधारमण लालआज बेणेश्वर में राहुल गांधी करेंगे जनसभा, बड़ा सियासी संदेश देने की होगी कोशिशज्ञानवापी में जानकारी लीक करने के मामले में टीम का एक सदस्य हटाया गया, आज है सर्वे का तीसरा दिनकोतवाली-कल्याणपुर थाने की ‘खाकी’ ने महकमें की करवाई किरकिरी, बात बिगड़ी तो दरोगा ने SHO पर जमकर लाठियां बरसाईंGyanvapi Mosque Survey : ज्ञानवापी मस्जिद से दूसरे दिन मिले पुख्ता साक्ष्य, सर्वे के वक्त दोनों पक्षो के बीच विवाद

योगी आदित्यनाथ ने लिया अपने आंसुओं का बदला, भरी संसद में रुलाने वालों के खिलाफ ठोकी ताल

ये साल 2007 की वो तस्वीर है जब योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से सांसद हुआ करते थे और गोरखपुर में खुद को असुरक्षित महसूस करते थे. भरी संसद में पूरे देश ने उनके इन आंसुओं को देखा था. भरी संसद में वो साफ कह रहे थे कि उन्हें गोरखपुर में डर लगता है. उन्हें अपराधी बनाया जा रहा है.

एक सांसद का भरी संसद में इस तरह रोना हर किसी को हैरान कर रहा था. लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी बार-बार योगी आदित्यनाथ को संभालने की कोशिश कर रहे थे. मगर, योगी का साफ कहना था कि उनके खिलाफ षडयंत्र हो रहा है और वो गोरखपुर में बहुत ही कमजोर महसूस करते हैं. मगर, योगी आदित्यनाथ ने खुद को संभाला और अपनी साधना जारी रखी. ऐसी साधना जिसे राजनीति में गेम चेंजर कहते हैं. इसी साधना का नतीजा है कि योगी आदित्यनाथ अब उसी गोरखपुर से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे जिस गोरखपुर में कभी वो असुरक्षित महसूस करते थे. जिन विरोधियों से कल तक उनको डर लगता था आज उन्हीं के खिलाफ उन्होंने ताल ठोक दी है. ये वही गोरखपुर है जहां कभी माफिया राज हुआ करता था लेकिन पांच साल में योगी आदित्यनाथ ने उन सबका सफाया कर दिया. याद कीजिए 2017 का वो दिन जब योगी आदित्यनाथ ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद ये प्रण ले लिया था कि प्रदेश से माफिया राज खत्म करेंगे.

योगी आदित्यनाथ ने खुद के आंसूओं का बदला लिया. उन्होंने प्रदेश में माफियाओं की शामत लाकर अपनी प्रतिज्ञा को पूरा किया. एक बार फिर सुनिए जब योगी आदित्यनाथ संसद में रो रहे थे और अपनी सुरक्षा की मांग कर रहे थे.

ये साल 2007 की तस्वीर है. मगर आज तस्वीर पूरी तरह से बदल चुकी है. प्रदेश में अब माफिया खुद की सलामती की दुआ मांगते हैं. वो पूर्वांचल जो कभी माफियाओं के सांये में रहता था आज वो पूर्वांचल माफियाओं की कब्रगाह बन चुका है. ज्यादातर अपराधी या तो जेल में हैं या प्रदेश छोड़ गए हैं. इतना ही नहीं गुंडों और बगमाशों के अंदर इतना भय है कि अब प्रदेश में बुल्डोजर से उन्हें डर लगने लगा है. योगी का बुल्डोजर जिधर घूम जाता है बदमाशों की सांसें अटक जाती हैं. राजनीति में इसे ही कहते हैं गेम चेंजर
अस्तित्व न्यूज़ के लिए प्रवीण तिवारी की रिपोर्ट

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities