बड़ी ख़बरें
किसान नेताओं पर दिए गए विवादित बयान से घिरे जेपी दलाल, तमाम खापों ने सुनाई खरी-खरी; जानें क्या क्या कहा ?मनोहर लाल सरकार ने प्रदेश में दो नए पुलिस स्टेशन खोलने और 6 नए फास्टट्रैक कोर्ट्स स्थापित करने की मिली मंजूरी, जानें आगे क्या हुआलॉ अफसरों की भर्ती में लागू होगा आरक्षण, आरक्षण नीति से भरी जाएंगी 178 भर्तियों में से 58 सीटें17 दिन तक टनल के अंदर ‘यमराज’ से कुछ इस तरह से लड़ते रहे 41 बहादुर, खिचड़ी-दलिया खाकर अंधेरी कोठरी में जांबाज खेलते थे क्रिकेटहरियाणा कांग्रेस विधायक दल की 6 दिसंबर को बैठक, सत्ता पक्ष को घेरने की रणनीति पर होगी चर्चाशीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी सीएम ने नहीं की गन्ने की कीमत की घोषणा, लॉरेंस-SYL समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चाविकसित भारत संकल्प यात्रा में साथ-साथ दिखाई देंगे भाजपा-जजपा-निर्दलीय, जानें किन जिलों में मंत्री रहेंगे मौजूदअरविंद केजरीवाल और भगवंत मान दो दिसंबर को गुरदासपुर में विकास कार्यों का करने जा रहे उद्घाटन, जानें क्या हैं खास तैयारीSKY की एक गलती ने गायकवाड़ के शतक पर फेर दिया पानी, मैक्सवेल की वेरी-वेरी स्पेशल पारी के चलते तीसरा टी 20 मैच आस्ट्रेलिया टीम जीतीजहां विज्ञान हारा वहां आस्था का दिखा चमत्कार,महादेव के चमत्कार ने सिलक्यारा टनल में बचा ली 41 जिंदगियां!

पीएम मोदी ने बुलाई उच्च स्तरीय आपात बैठक, यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजे जाएंगे केंद्रीय मंत्री

यूक्रेन के हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं। ऐसे माहौल में वहां पर फंसे भारतीयों नागरिकों और छात्रों की चिंता भी बढ़ रही है। इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उच्च स्तरीय आपात बैठक बुलाई है। सूत्रों के अनुसार, यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों की वापसी के लिए केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, किरण रिजिजू और जनरल वीके सिंह को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजा जा सकता है। ये मंत्री फंसे सभी नागरिकों की वतन वापसी मिशन के लिए अन्य देशों के साथ बातचीत करेंगे और वहां फंसे भारतीय छात्रों की मदद करेंगे।

यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए सरकार ने ऑपरेशन गंगा की शुरुआत की थी। इस मिशन के तहत अभी तक पांच फ्लाइट यूक्रेन में फंसे छात्रों को लेकर दिल्ली लौट चुकी हैं। सोमवार सुबह ही एक फ्लाइट 249 छात्रों को लेकर दिल्ली पहुंची। इससे पहले 26 फरवरी को एक और 27 फरवरी को तीन फ्लाइट दिल्ली लौटी थीं। इन्हें रोमानिया के रास्ते दिल्ली लाया गया है। अब तक करीब 1100 छात्रों को यूक्रेन से निकाला जा चुका है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities