बड़ी ख़बरें
मनोहर लाल सरकार ने प्रदेश में दो नए पुलिस स्टेशन खोलने और 6 नए फास्टट्रैक कोर्ट्स स्थापित करने की मिली मंजूरी, जानें आगे क्या हुआलॉ अफसरों की भर्ती में लागू होगा आरक्षण, आरक्षण नीति से भरी जाएंगी 178 भर्तियों में से 58 सीटें17 दिन तक टनल के अंदर ‘यमराज’ से कुछ इस तरह से लड़ते रहे 41 बहादुर, खिचड़ी-दलिया खाकर अंधेरी कोठरी में जांबाज खेलते थे क्रिकेटहरियाणा कांग्रेस विधायक दल की 6 दिसंबर को बैठक, सत्ता पक्ष को घेरने की रणनीति पर होगी चर्चाशीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी सीएम ने नहीं की गन्ने की कीमत की घोषणा, लॉरेंस-SYL समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चाविकसित भारत संकल्प यात्रा में साथ-साथ दिखाई देंगे भाजपा-जजपा-निर्दलीय, जानें किन जिलों में मंत्री रहेंगे मौजूदअरविंद केजरीवाल और भगवंत मान दो दिसंबर को गुरदासपुर में विकास कार्यों का करने जा रहे उद्घाटन, जानें क्या हैं खास तैयारीSKY की एक गलती ने गायकवाड़ के शतक पर फेर दिया पानी, मैक्सवेल की वेरी-वेरी स्पेशल पारी के चलते तीसरा टी 20 मैच आस्ट्रेलिया टीम जीतीजहां विज्ञान हारा वहां आस्था का दिखा चमत्कार,महादेव के चमत्कार ने सिलक्यारा टनल में बचा ली 41 जिंदगियां!‘बीजेपी का बस चले तो पंजाब को जन-गण-मन से भी निकाल दे…’ सदन में जमकर बरसे मुख्यमंत्री मान

भारतीय हवाई सीमा उल्लंघन की कोशिश कर रहा था चीन… तवांग में खूनी झड़प के बाद… एक्शन में इंडिया एयरफोर्स

भारतीय और चीनी सैनिकों बीच बीते 09 दिसंबर को तवांग सेक्टर में हुई खूनी झड़प के बाद दोनों के बीच देशों में तनाव की स्थिति बनी हुई है। तवांग सेक्टर में झड़प के बाद चीन की करतूत सामने आई। जिसमें पता चला है कि चीन लंबे समय से हवाई सीमा के उल्लघंन की कोशिश कर रहा था। बीते कुछ समय से चीन की तरफ से अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर ड्रोन्स भेजने की भी सूचनाएं सामने आ रहीं थीं। भीषण सर्दी के बीच चीन रेकी को कोशिश कर रहा था।

भारत ने चीन की इन हरकतों का जवाब देने के लिए कई बार क्षेत्र में तैनात अपने फाइटर जेट्स को उतारना पड़ा था। रक्षा मंत्रालय के एक सूत्र ने बताया कि बीते कुछ हफ्तों में दो-तीन बार ऐसा हुआ, जब वायुसेना को एलएसी के पार आने की कोशिश कर रहे ड्रोन्स को खदेड़ने के लिए लड़ाकू विमान उतारने पड़ा था। वायुसेना को इन खतरों से निपटने के लिए सुखोई-30 एमकेआई जेट्स का सहारा लेना पड़ा।

चीनी ड्रोन्स कर रहे थे रेकी
इंडियन एयरफोर्स लगातार चीन से लगी सीमा पर ड्रोन की गतिविधियों की निगरानी रख रहा था। हवाई सीमा के उल्लंघन की संभावना को देखते हुए भारतीय सेना भी मुस्तैद एलर्ट मोड पर थी। ड्रोन एलएसी की बराबरी पर उड़ता दिखता है, तो भारत को कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन अगर कोई एयरक्राफ्ट या ड्रोन भारतीय सीमा की तरफ आने की कोशिश में रडार पर आ जाता है, तो उसे खदेड़ने के लिए जरूरी कार्रवाई की जाती है।

एक्शन में इंडिया एयरफोर्स  
इंडियन एयरफोर्स ने पूर्वोत्तर के स्टेट में मजबूत पहुंच बना रखी है। मौजूदा समय में असम के तेजपुर से लेकर छाबुआ में सुखोई-30 फाइटर जेट्स के स्क्वाड्रन्स को तैनात किया गया है। इसके अलावा पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में राफेल लड़ाकू विमानों को भी रखा गया है। चीन को मुहंतोड़ जवाब देने के लिए असम सेक्टर में रूस से खरीदा गया एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम भी स्थापित है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities