बड़ी ख़बरें
मनोहर लाल सरकार ने प्रदेश में दो नए पुलिस स्टेशन खोलने और 6 नए फास्टट्रैक कोर्ट्स स्थापित करने की मिली मंजूरी, जानें आगे क्या हुआलॉ अफसरों की भर्ती में लागू होगा आरक्षण, आरक्षण नीति से भरी जाएंगी 178 भर्तियों में से 58 सीटें17 दिन तक टनल के अंदर ‘यमराज’ से कुछ इस तरह से लड़ते रहे 41 बहादुर, खिचड़ी-दलिया खाकर अंधेरी कोठरी में जांबाज खेलते थे क्रिकेटहरियाणा कांग्रेस विधायक दल की 6 दिसंबर को बैठक, सत्ता पक्ष को घेरने की रणनीति पर होगी चर्चाशीतकालीन सत्र के दूसरे दिन भी सीएम ने नहीं की गन्ने की कीमत की घोषणा, लॉरेंस-SYL समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चाविकसित भारत संकल्प यात्रा में साथ-साथ दिखाई देंगे भाजपा-जजपा-निर्दलीय, जानें किन जिलों में मंत्री रहेंगे मौजूदअरविंद केजरीवाल और भगवंत मान दो दिसंबर को गुरदासपुर में विकास कार्यों का करने जा रहे उद्घाटन, जानें क्या हैं खास तैयारीSKY की एक गलती ने गायकवाड़ के शतक पर फेर दिया पानी, मैक्सवेल की वेरी-वेरी स्पेशल पारी के चलते तीसरा टी 20 मैच आस्ट्रेलिया टीम जीतीजहां विज्ञान हारा वहां आस्था का दिखा चमत्कार,महादेव के चमत्कार ने सिलक्यारा टनल में बचा ली 41 जिंदगियां!‘बीजेपी का बस चले तो पंजाब को जन-गण-मन से भी निकाल दे…’ सदन में जमकर बरसे मुख्यमंत्री मान

Enforcement Directorate: सारदा मनी लॉन्ड्रिग मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम की पत्नी की समेत इनकी संपत्ति हुई कुर्क

Saradha Money Laundering: प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) (ईडी) ने सारदा मनी लॉन्ड्रिग (Saradha Money Laundering) मामले में बड़ी कार्रवाई की है। पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम (P. Chidambaram), सीपीएस के पूर्व विधायक देबेंद्रनाथ बिस्वास (Debendranath Biswas) और अन्य लाभर्थियों की संपत्ति कुर्क की है। सभी लाभार्थियों समेत असम के पूर्व मंत्री अंजान दत्ता की कंपनी की कुल 6 करोड़ (6 Crore) से अधिक की संपत्ति कुर्क की गई है।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने एक बयान में कहा कि धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत 3.30 करोड़ रुपये की चल संपत्ति और तीन करोड़ रुपये की अचल संपत्ति कुर्क करने का अस्थायी आदेश जारी किया गया है। ईडी के मुताबिक, इन संपत्तियों पर सारदा समूह और अन्य लोगों का स्वामित्व था, जो समूह द्वारा धोखाधड़ी से अर्जित की गई थी।

लाभार्थियों में नलिनी चिदंबरम, देवव्रत सरकार (ईस्ट बंगाल क्लब के अधिकारी), देबेंद्रनाथ बिस्वास (पूर्व आईपीएस अधिकारी और पूर्व सीपीएम विधायक) और अनुभूति प्रिंटर और प्रकाशन शामिल हैं। अनुभूति प्रिंटर और प्रकाशन कंपनी का मालिकाना हक असम के पूर्व कैबिनेट मंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष दत्ता के पास था।

मनी लॉन्ड्रिंग का मामला 2013 तक पश्चिम बंगाल, असम और ओडिशा में सारदा समूह द्वारा कथित चिट फंड घोटाले से संबंधित है। ईडी ने कहा कि इस समूह की कंपनी द्वारा जुटाए गए कुल धन की मात्रा लगभग 2,459 करोड़ रुपये है, जिसमें से लगभग 1,983 करोड़ रुपये जमाकर्ताओं को अभ भी बकाया है। ईडी इस मामले में अब तक करीब 600 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क कर चुका है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities