ब्रेकिंग
पश्चिम में मचा कोहराम, ध्रुवीकरण की सियासत में कौन किस पर भारी!Goa Election: बीजेपी ने छह प्रत्याशियों की लिस्ट की जारी, जानिए किसे-किसे मिला टिकटMouni Roy Haldi Ceremony: मौनी रॉय-सूरज नांबियार की हल्दी फोटोज-वीडियोज हुए वायरलरेल मंत्री अश्विनी वैष्णव की छात्रों से अपील, रेलवे आपकी संपत्ति हैं, इसे सुरक्षित रखेंRRB NTPC: धांधली के विरोध में छात्रों का लगातार तीसरे दिन प्रदर्शन जारी, ट्रेन में लगाई आगपति से बगावत स्वाति को पड़ा महंगा, कटा टिकट! क्या पति के खिलाफ लड़ेंगी चुनाव?Chhattisgarh: सीएम भूपेश बघेल ने कर्मचारियों को दी बड़ी सौगातराफेल विमान पायलट शिवांगी सिंह ने गणतंत्र दिवस परेड में लिया हिस्सायूपी में सरकारी दफ्तरों के कर्मचारियों के लिए नई गाइडलाइन जारीजम्मू-कश्मीर के लाल चौक पर पहली बार फहराया गया तिरंगा, लोगों में दिखा जोश

सरकार ने सात खाद्य वस्तुओं के वायदा कारोबार पर लगाई रोक

सरकार ने महंगाई में बढ़ोतरी को देखते हुए सात खाद्य वस्तुओं के वायदा कारोबार पर प्रतिबंध लगा दिया है। इनमें गेहूं, चना, गैर बासमती चावल, सरसों, सोयाबीन, कच्चे पाम तेल, और मूंग शामिल है। वित्त मंत्रालय ने इन सभी सात वस्तुओं के वायदा कारोबार पर अगले एक साल के लिए रोक लगा दी है। दूसरी ओर, लोक सभा में सोमवार को अनुदान की पूरक मांग की मंजूरी के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खाद्य तेल और अन्य जरुरी वस्तुओं की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाने के लिए सरकार की तरफ से आवश्यक फैसले लेने का आश्वासन दिया।

आपको बता दें कि नवंबर माह की थोक महंगाई दर 14.23 प्रतिशत के साथ वर्ष 2005 अप्रैल के बाद अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। वहीं, नवंबर की खुदरा महंगाई दर भी बढ़ोतरी के साथ 4.91 फीसद पर पहुंच गई। इस दौरान खाद्य तेल के दाम में भारी वृद्धि देखने को मिली और नवंबर माह में खाद्य तेल और वनस्पति की खुदरा महंगाई दर में 29 फीसद से अधिक की वृद्धि रही। दाल के खुदरा दाम में इस अवधि में 3.18 फीसद का बढ़ोतरी हुई है। इसीलिए सरकार ने कच्चे पाम तेल के साथ सरसों और सोया के वायदा कारोबार पर प्रतिबंध लगा दिया है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities