ब्रेकिंग
Siddharthnagar: भाकियू ने केंद्रिय मंत्री अजय मिश्रा को हटाने के विरोध में जाम किया रेलवे ट्रैकHamirpur: किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, तैनात की गई जीआरपी और पुलिसAuraiya: किसान यूनियन द्वारा रेल रोकने के मामले में पुलिस प्रशासन सख्तUnnao: किसानों की ओर से रेल रोको आंदोलन का आह्वान, पुलिस और प्रशासनिक टीमें अलर्टHamirpur: आकाशीय बिजली गिरने से बेटे की मौत, मां की हालत गंभीरAgra: किसान आंदोलन के मद्देनजर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामAgra: युवक के ऊपर टूट कर गिरा बिजली का तार, करंट लगने से युवक की मौतJhansi: रजत पदक विजेता शैली सिंह का गुरु पद्मश्री अंजु बॉबी जार्ज के साथ हुआ भव्य सम्मानआगरा: सरकारी हैडपम्प पर दो पक्षों में हुआ विवाद, दबंगों ने युवती को जमकर पीटाAgra: एक्टिव मोड दिखी BSP, बसपाई ने दिया कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र

अफगानिस्तान का आईटी मिनिस्टर, जर्मनी में पिज़्ज़ा डिलीवरी करने को मजबूर

क्या आप यकीन कर सकते हैं कि किसी देश का आईटी मिनिस्टर delivery boy बन सकता है , साइकिल पर घर घर जाकर पिज़्ज़ा की डिलीवरी भी कर सकता है।
शायद यह सोचना भी कल्पना से परे है लेकिन यह हकीकत है , सोशल मीडिया में इस समय अफगानिस्तान के पूर्व आईटी मिनिस्टर सैयद अहमद शाह सादात की कुछ तस्वीरें जबरदस्त सुर्खियां बटोर रही हैं, सादात इस समय जर्मनी में पिज़्ज़ा डिलीवरी ब्वॉय की नौकरी कर रहे हैं और साइकिल पर घर-घर जाकर पिज़्ज़ा की डिलीवरी दे रहे हैं अभी महज कुछ दिनों पहले तक वे अफगानिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अशरफ गनी की सरकार में आईटी मिनिस्टर थे कुछ दिनों पहले तक वे अफगानिस्तान में इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के अपने बेहतर काम के लिए दुनिया में चर्चा में थे और आज एक पिज़्ज़ा ब्वॉय के तौर पर जर्मनी में काम कर रहे हैं.
साल 2018 में अफगानिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अशरफ गनी की सरकार में सादात को आईटी और कम्युनिकेशन मिनिस्टर बनाया गया था, सादात ने आईटी मिनिस्टर रहते हुए अफगानिस्तान में टैली नेटवर्किंग में उल्लेखनीय कार्य किए इसके साथ ही उन्होंने इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी में अफगानिस्तान को आगे ले जाने में बड़ी भूमिका अदा की लेकिन नवंबर 2020 में अशरफ गनी के मतभेदों के चलते उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और अपने परिवार के साथ जर्मनी चले गए.
सादात हाईली क्वालिफाइड है उनके पास टेक्निकल के क्षेत्र में उच्च डिग्री भी है सादात ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से कम्युनिकेशन में मास्टर डिग्री किया है साथ ही उन्होंने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग भी की है सैयद अहमद शाह ने दुनिया भर के कई बड़े मुल्कों में दो दशकों तक कई बड़ी कंपनियों में काम भी किया है लेकिन समय बदला और उन्हें जर्मनी में परिवार के साथ बसना पड़ा लेकिन जर्मन भाषा ना आने की वजह से जर्मनी में उन्हें कोई अच्छी नौकरी नहीं मिल रही है उनके सामने सबसे बड़ी समस्या है जर्मन भाषा नाना इस वक्त सादात जर्मनी के लीपजिंग शहर में अपने परिवार के साथ रह रहे हैं,
लगातार नौकरी की तलाश करने के बाद भी जब सादात को नौकरी नहीं मिली तब उन्होंने जर्मन की एक मशहूर पिज़्ज़ा कंपनी में डिलीवरी ब्वॉय की नौकरी करना शुरू कर दिया लेकिन इसे लेकर उन्हें कोई शर्मिंदगी या फिर खेद नहीं है वे कहते हैं कि कोई भी काम छोटा और बड़ा नहीं होता डिलीवरीबॉय की नौकरी उन्होंने जर्मन भाषा सीखने के लिए भी की है वे कहते हैं कि मैंने कई कंपनियों में आवेदन किया है लेकिन अभी तक कोई रिस्पांस नहीं आया वह आईटी कंपनी में ही जॉब करना चाहते हैं.
ऐसे वक्त में जब उनके मुल्क अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा हो चुका है पूरे अफगानिस्तान में त्राहिमाम की स्थिति है सादात ईश्वर का शुक्रिया अदा करते हैं कि वह समय रहते देश से बाहर निकल आए लेकिन वह अफगानिस्तान के हालातों को लेकर चिंतित जरूर है.

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities