ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

बिकरू कांड पर एक और खुलासा : विकास दुबे ने एसटीएफ के सीओ को सीने पर मारी थी गोली, बुलेटप्रूफ जैकैट के चलते जांबाज अफसर की बची थी जान

कानपुर। बिकरू गांव का गैंगस्टर आठ पुलिसकर्मियों को शहीद करने के बाद उज्जैन से पकड़ा गया था। पुलिस और यूपी एसटीएफ की टीम अपराधी को लेकर कानपुर आ रही थी। तभी भौंती के पास कार पलट गई। विकास ने बगल में बैठे इंस्पेक्टर रमाकांत पचौरी की पिस्टल छीन ली और फरार होने का प्रयास किया। पुलिस ने उसे सरेंडर करने को कहा, लेकिन शातिर ने एसटीएफ के सीओ तेज बहादुर सिंह के सीने पर फायर किया था। बुलेटप्रूफ जैकैट पहले होने के चलते जाबांज अफसर की जान बच गई थी और जवाबी कार्रवाई में इनाममिया गैंगस्टर मारा गया था। ये बातें तेज बहादुर की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर से सामने आई हैं।

सीओ तेज बहादुर पर चलाई गोली
यूपी एसटीफ के सीओ तेज बहादुर की एफआईआर में कहा गया है कि विकास दुबे को उज्जैन से कानपुर लाते समय सुरक्षा कारणों से उसके वाहन बदले जा रहे थे। एक वाहन में इंस्पेक्टर रमाकांत और कॉन्सटेबल प्रदीप कुमार के बीच विकास दुबे को बैठाकर लाया जा रहा था। बाराजोर टोल प्लाजा पार करने के बाद तेज बारिश होने लगी। उसी दौरान जानवरों का झुंड भागता हुआ सड़क पार करने लगा। विकास दुबे जिस वाहन में था, उसका ड्राइवर नियंत्रण खो बैठा और गाड़ी पलट गई। मौके का फायदा उठाते हुए दुबे इंस्पेक्टर का पिस्टल छीनकर गाड़ी के पिछले दरवाजे से भाग निकला। पुलिसकर्मी उसके पीछे दौड़े पर वह उन पर गोलियां बरसाने लगा। इसी दौरान दुबे ने सीओ तेजबहादुर सिंह के सीने पर फायरिंग कर दी।

जवाबी कार्रवाई में मारा गया गैंगस्टर
सीओ की एफआईआर में कहा गया है कि यूपी एसटीएफ और पुलिस ने विकास को हथियार फेंक कर सरेंड करने को कहा गया पर वह नहीं माना। जवाबी कार्रवाई में विकास मारा गया। विकास की मौत से पहले पुलिस ने अमर दुबे समेत उसके गैंग से जुड़े से अन्य पांच अपराधियों को मुठभेड़ में मार गिराया था। विकास की कोठी को बुलडोजर से ढहा दिया गया। विकास की मदद करने वाले करीब चार दर्जन से ज्यादा आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

बहाया था पुलिसवालो का खून
बता दें, बिकरू गांव में विकास दुबे ने अपने घर पर छापा मारने आई पुलिस टीम पर घात लगाकर हमला कर दिया था। इस हमले में सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। इसके बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दुबे के कई साथियों को एनकाउंटर में मार गिराया था। बाद में विकास दुबे उज्जैन में पकड़ा गया। उसे वहां से कानपुर लाते समय पुलिस का वाहन पलट गया और एनकाउंटर में दुबे मार गिराया गया।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities