बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

Ayodhya: 27 फरवरी को मतदाता क्यों नहीं करेंगे मतदान, जानें क्या है वजह

Ayodhya: अयोध्या से एक बड़ी चौंका देने वाली खबर सामने आई है। मिली जानकारी के मुताबिक, अयोध्या के गोशाईगंज विधानसभा के करीब 5000 वोटर 27 फरवरी को वोट नहीं डालेंगे। आपको बता दें कि माझा काजीपुर और माझा रामपुर पुवारी के ग्रामीणों का राजस्व विभाग ने अपने विभाग से इन लोगों का नाम खारिज कर दिया है। दोनों ग्राम पंचायतों को चिराग रहित ग्राम पंचायत बता रही है। इसी कारण से गुस्साए ग्रामीणों ने 2022 के विधानसभा चुनाव में मतदान बहिष्कार किया है। 2008 में चकबंदी के समय में कानूनगो व प्रधान में कहासुनी होने के कारण पूरे गांव को कानूनगो के कोप का भाजन बनना पड़ा। ग्रामीणों का कहना है कि कानूनगो ने कहा था यह विवाद बहुत महंगा पड़ेगा और उसने उसको कर दिखाया। सीमा विवाद में माझा काजीपुर ग्राम पंचायत को न तो अयोध्या जनपद में रखा गया और न ही बस्ती जनपद में. दरअसल, ग्रामीणों की जमीन सरयू नदी के किनारे अयोध्या जनपद व बस्ती जनपद की सीमा पर है जिसको लेकर आए दिन विवाद होता रहता है। राजस्व विभाग ने इन ग्रामीणों की जमीन को सरयू जल क्षेत्र बताया है। जबकि इनकी कई पीढ़ियां मालगुजारी और लगान इस जमीन की जमा करती आ रही है। माझा काजीपुर ग्राम पंचायत के आसपास चारों तरफ के ग्राम पंचायत की खतौनी निकलती है। लेकिन कई ग्राम पंचायतों के बीच में माझा काजीपुर की खतौनी दो हजार अट्ठारह से नहीं निकली है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities