ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट के इस जज ने नूपुर शर्मा को सुनाई खरी-खरी, याचिका खरिज कर कहा टीवी में जाकर देश से मांगे माफी‘चायवाले’ ने पवार के ‘पॉवर’ और ठाकरे के ‘इमोशन’ का निकाला तोड़, ‘ऑटो चालक’ को इस वजह से बनाया महाराष्ट्र का चीफ मिनीस्टरउदयपुर घटना को लेकर कानपुर के मुस्लिम संगठन के साथ अन्य लोगों में उबाल, कन्हैयालाल के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलवाए ‘सरकार’महाराष्ट्र में फिर से बड़ा उलटफेर, शिंदे के साथ फडणवीस लेंगे शपथBIG BREAKING – देवेंद्र फडणवीस नहीं, एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, शाम को अकेले लेंगे शपथशिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहींPanchang: आज का पंचांग 30 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयMonsoon Update: गाजियाबाद और आसपास के जिलों को करना होगा बारिश का इंतजार, पूर्वी यूपी में हल्की बारिश शुरूउदयपुर हिंसा का सायां यूपी तक पहुंचा, यूपी के मेरठ जोन में अलर्ट, सोशल मीडिया पर खाास नजरCorona Update: कोरोना ने बढ़ाई देश की टेंशन, एक ही दिन में बढ़ 25 फीसदी मरीज बढ़े, 30 लोगों की मौत

BIG NEWS- कुख्यात करोड़पति गैंगस्टर मुख्तार की भूख-प्यास से तड़प-तड़पकर दर्दनाक मौत

जयपुर। झालावाड़ इलाके में मध्य प्रदेश के कुख्यात करोड़पति गैंगस्टर मुख्तार मलिक की दर्दनाक मौत हो गई। बताया जा रहा है कि, यहां के भीमसागर बांध के नदी क्षेत्र में मछलियां पकड़ने का ठेका भोपाल के मुख्तार मलिक ने लिया था। इसी दौरान राजस्थान के बंटी गैंग से उसकी गैंगवार हो गई। जान बचाने के लिए मलिक जंगल में छिप गया। दो दिन तक खाना-पानी नहीं मिलने से उसकी तड़प-तड़पकर मौत हो गई।

मछली पकड़ने का लिए था ठेका
मध्य प्रदेश के गैंगस्टर मुख्तार मलिक ने राजस्थान के झालावाड़ स्थित भीमसागर बांध के नदी क्षेत्र में मछलियां पकड़ने का ठेका लिया हुआ था। मलिक अपने साथियों के साथ मंगलवार को मछली पकड़ रहा था। इसी दौरान राजस्थान के बंटी गैंग से उसकी गैंगवार हो गई। दोनों गैंग के बीच मछली पकड़ने को लेकर विवाद हुआ था। इसके बाद मुख्तार जंगल की तरफ भाग गया। बंटी के गुर्गों ने मलिक का पीछा किया, लेकिन वह हाथ नहीं लगा।

ग्रामीणों ने दी पुलिस को सूचना
मामले पर झालावाड़ के डीएसपी गिरधर सिंह ने बताया कि अगले दिन मुख्तार मलिक को भीमसागर बांध के नदी क्षेत्र के ग्रामीणों ने देखा और पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने जंगल में उतरी। पुलिस से बचने के लिए मलिक दो दिन तक भूख-प्लास से तड़पते हुए जंगल में भटकता रहा। पुलिस भी उसे पकड़ने के लिए करीब 12 किलोमीटर दूर तक जंगल में पैदल गई। इस दौरान देखा कि मुख्तार जंगल में घिसट रहा था, उसके पैरों से खून बह रहा था। उसकी हालत इतनी खराब हो चुकी थी कि कुछ बोल भी नहीं पा रहा था। उसके दोनों पैरों की चमड़ी उधड़ चुकी थी।

गैंगस्टर विक्की वाहिद पत्नी के साथ भाग आया
झालावाड़ के डीएसपी गिरिधर सिंह के मुताबिक मंगलवार देर रात गैंगवार में मुख्तार के साथ उसका साथी विक्की वाहिद भी घायल हुआ था। विक्की ने मुख्तार की पत्नी शिबा मलिक को गैंगवार के बारे में जानकारी दी। पति की मदद के लिए बुधवार सुबह शिबा मलिक कार से भीमसागर बांध एरिया में पहुंची। शिबा को यहां विक्की मिला। उसने बताया कि मुख्तार भाई ठीक हैं, वह दरगाह में छिपे हैं। पुलिस पहुंचने से पहले शिबा मलिक ने विक्की को कार से मध्यप्रदेश बॉर्डर पर छोड़ दिया। इसके बाद शिबा ने पुलिस को सूचना दी। बुधवार से परिजन के साथ पुलिस मुख्तार की तलाश करती रही, लेकिन पता नहीं चला।

एक दर्जन आरोपियों को गिरफ्तार किया
झालावाड़ जिला पुलिस अधीक्षक मोनिका सेन ने बताया कि इस मामले में अब तक एक दर्जन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। गैंगवार होने के बाद गैंगस्टर मुख्तार मलिक और विक्की गायब हो गए थे। शुक्रवार को मुख्तार मलिक घायल अवस्था में मिल गया। लेकिन विक्की का अभी तक कोई पता नहीं लग पाया है। मुख्तार मलिक के साथ उसके गुट का सदस्य कमल किशोर की भी मौत हो गई थी। फिलहाल पुलिस लगातार ऑपरेशन चलाए हुए है। जल्द ही सभी आरोपी सलाखों के पीछे पहुंचाए जाएंगे।

58 से ज्यादा मामले दर्ज थे
मृतक मुख्तार मलिक मूलरूप से एमपी के रायसेन जिले के गोहरगंज का रहने वाला था। मुख्तार की उम्र 61 साल थी और वह 21 साल की उम्र में पहली बार रेप केस में जेल गया था। मध्य प्रदेश के साथ साथ वो यूपी से लगी सीमा वाले इलाकों में भी अपराधिक घटनाओं को अंजाम देता था। रायसेन और भोपाल, समेत यूपी के कई जिलों में उसके ऊपर 58 से ज्यादा मामले दर्ज थे।

पूर्व मुख्यमंत्री को दे चुका था जान से मारने की धमकी
मुख्तार मलिक पूर्व और दिवगंत मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा को धमकी देकर चर्चा में आया था। इसके बाद ही उसने अपराध की दुनिया में कदम रखा था। मलिक ने मध्य प्रदेश के कई जिलों में वारदात को अंजाम दिया। पिछले कुछ सालों से वह राजस्थान में अपना ठिकाना बनाए हुए थे। मलिक, यहां पर मछली का कारोबार करता था, जिसको लेकर उसका अक्सर बिक्की गैंग से मुकाबला होता रहता था।

फांसी की कोर्ट ने सुनाई थी सजा
भोपाल की जिला अदालत में मुन्ने पेंटर गैंग के बीच हुए गैंगवार में मुख्तार को 2006-07 में हाईकोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी। लेकिन उसको सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई थी। मुख्तार के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, ज्यादती, अपहरण और अड़ीबाजी समेत दर्जनों मामले दर्ज हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities