बड़ी ख़बरें
अब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कपआखिरकार यूपी में पकड़ी गई झारखंड-बिहार के रियल लाइफ वाली ‘बंटी-बबली’ की जोड़ी, फेरों के फंदे में फांसकर 35 अफसर व कारोबारियों से ठगे 1.16 करोड़ की नकदी

Bihar Live News : सावन के महिने में एक बार फिर नीतीश ने बीजेपी को कहा ‘बाय-बाय’ ‘सुशासन बाबू’ से दोस्ती पर लालू की बेटी बोलीं आ रहे हैं ‘लालटेनधारी’

पटना। बिहार में बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है। जेडीयू ने अपने को एनडीए से अगल कर लिया। विधायक व सांसदों के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा फैसला लेते हुए बीजेपी को बाय-बाय कह दिया। सूत्रों की मानें तो मंगलवार शाम चार बजे नीतीश कुमार व राष्ट्रीय जनता दल नेता तेजस्वी यावद के साथ राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। महागठबंधन की सरकार बनाए जाने को लेकर पत्र भी सौंप सकते हैं। इनसब के बीच लालू यादव की बेटी ने ट्वूट के जरिए बड़ा संदेश दिया है। उन्होंने लिखा है कि, बिहार में फिर से लालटेनधारी आ रहे हैं।

बिहार में 5 साल बाद फिर से नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू और बीजेपी के बीच गठबंधन टूट गया है। मुख्यमंत्री आवास पर जेडीयू के सांसदों और विधायकों की मीटिंग में इसकी घोषणा की गई है। अब से थोड़ी में जदयू नेताओं के साथ मुख्यमंत्री राजभवन जाएंगे। तेजस्वी भी उनके साथ होंगे। राजभवन के पास पुलिस ने बैरिकेडिंग की है। भारी पुलिस फोर्स भी तैनात किया गया है। इधर, राजद, कांग्रेस और वामदलों ने नीतीश सरकार को समर्थन देने के लिए पत्र तैयार कर लिया है। सूत्रों की मानें को नीतीश कुमार अपने पद इस्तीफा देकर नई सरकार के गटन को लेकर राज्यपाल फागू सिंह चौहान को पत्र दे सकते हैं।

नीतीश कुमार के मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी, कांग्रेस और लेफ्ट के साथ मिलकर नई सरकार बनाने की खबरें हैं। हालांकि ये कोई पहली दफा नहीं है, जब नीतीश कुमार के बीजेपी से मतभेद और आरजेडी से नजदीकियां बढ़ी हो। करीब 40 साल के सियासी सफर में नीतीश कुमार ने कई मौके पर अपने विचार बदले हैं साथ ही उनकी निष्ठा भी बदली है।

बिहार की राजनीति में कई ऐसे मौके आए जब नीतीश कुमार ने पाला बदला है। साल 2013 में बीजेपी की ओर से लोकसभा चुनाव 2014 के लिए नरेंद्र मोदी को आगे बढ़ाना नीतीश को रास नहीं आया। 16 जून 2013 को बीजेपी ने मोदी को लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया तो नीतीश कुमार खफा हो गए और उन्होंने बीजेपी के साथ अपने 17 साल पुराने नाते को तोड़ दिया और आरजेडी के साथ मिलकर सरकार बनाई। नीतीश कुमार ने साल 2015 में लालू प्रसाद यादव और कांग्रेस के साथ महागठबंधन बनाकर विधानसभा का चुनाव लड़ा। इस चुनाव में महागठबंधन ने शानदार जीत हासिल की और नीतीश कुमार 5वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

साल 2017 में महागठबंधन में दरार पड़ गई. 26 जुलाई को नीतीश कुमार ने प्रदेश के सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। उस दौरान भ्रष्टाचार के आरोप में डिप्टी सीएम तेजस्वी से इस्तीफे की मांग बढ़ने लगी थी। उस दौरान भी सावान का महिना चल रहा था। बाद में नीतीश कुमार ने कहा था कि ऐसे माहौल में काम करना मुश्किल हो गया था. नीतीश कुमार ने फिर बीजेपी और सहयोगी पार्टियों की मदद से सरकार बनाई और 27 जुलाई को एक बार फिर बिहार के सीएम बने।

साल 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू को कम सीटों पर जीत हासिल हुई थी.। बीजेपी ने उन्हें चुनाव में 43 सीटों पर जीत के बाद भी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठाया, लेकिन महज दो साल बाद ही मतभेद फिर से उभरकर सामने आए हैं। बताया जा रहा है कि, आरसीपी सिंह से नीतीश कुमार काफी नाराज हैं। आरोप ये भी है कि बीजेपी आरसीपी सिंह के सहारे नई चाल चल सकती है। इसके अलावा जेडीयू और बीजेपी की हाल के दिनों में अग्निपथ योजना, जाति जनगणना, जनसंख्या कानून और लाउडस्पीकर पर प्रतिबंध जैसे मुद्दों पर अलग-अलग राय रही है।

सूत्रों के मुताबिक नीतीश कैबिनेट में शामिल बीजेपी कोटे के मंत्रियों को बर्खास्त किया जा सकता है। राज्यपाल को मुख्यमंत्री इस संदर्भ में पत्र सौंप सकते हैं। नीतीश कैबिनेट में वर्तमान में बीजेपी कोटे के 16 मंत्री है, जिसमें 2 डिप्टी सीएम भी है। गठबंधन टूटने के बाद नीतीश कुमार अब फ्लोर टेस्ट कराने की भी तैयारी में है। सूत्रों के अनुसार सभी विधायकों को पटना में अगले 72 घंटों तक रहने का निर्देश दिया गया है। जदयू के पास बिहार विधानसभा में 45 विधायक हैं। वहीं रारजेडी, कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों ने अपने-अपने विधायकों को पटना में ही रहने को कहा है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities