बड़ी ख़बरें
Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी बोले कश्मीर मेरी टी शर्ट लाल करना हो कर दो… लेकिन बच्चों-बुजुर्गों ने आंसुओं से स्वागत कियाBBC Documentary: बीबीसी डॉक्यूमेंट्री मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट… याचिका दाखिल कर रोक हटाने की मांग… 6 फरवरी को होगी सुनवाईBharat Jodo Yatra: प्रियंका और राहुल गांधी बर्फबारी का लुफ्त  उठाते आए नजर… भाई-बहन ने एक दूसरे को बर्फ के गोले फेंककर मारे… वीडियो सोशल मीडिया पर वायरलExtended weekend: ‘पठान’ ने 5वें दिन तोड़े सभी रेकॉड… बॉलीवुड के इतिहास में वीकेंड में सर्वाधिक कमाई करने वाली बनी फिल्मBeating the Retreat Ceremony: बारिश के बीच बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी कार्यक्रम की शुरूआत… 3500 स्वदेशी ड्रोन आसमान दिखाएंगे इंडियन कल्चरRakhi mother passes away:राखी सावंत की मां का निधन… भावुक पोस्ट में रोते हुए दिखीं एक्ट्रेस… आखिरी समय में दर्द में थी मांNational Executive of SP declared: अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल को दी बड़ी जिम्मेदारी…. स्वामी प्रसाद मौर्य को भी मिली जगह… सपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषितRohit Sharma: पाकिस्तान के बल्लेबाज शाहिद आफरीदी के इस रेकॉड पर रोहित शर्मा की नजर… इस साल टूट जाएगा रेकॉडIndia vs New Zealand T20 Series: टीम इंडिया सीरीज में वापसी करने उतरेगी… जाने क्या है इंडिया-न्यूजीलैंड की संभावित प्लेइंग-11Flag Hoisting at Lal Chowk: लाल चौक पर राहुल गांधी ने फहराया तिरंगा… पं नेहरू के बाद झंडा रोहण करने वाले राहुल बने दूसरे कांग्रेसी नेता

Bikeru scandal: खुशी की रिहाई पर कौन अटका रहा रोड़ा… अधिवक्ता बोले मानवता के नाते इसे व्यक्तिगत नहीं लें रहम करें

Bikeru scandal update:  बिकरू कांड (Bikeru scanda) की आरोपी खुशी दुबे (khushi dubey) को सुप्रीम कोर्ट (suprim cort) से जमानत मिल चुकी है। जमानत मिलने के 11 दिन बाद भी उसकी रिहाई नहीं हो पाई है। खुशी दुबे के अधिवक्ता शिवाकांत दीक्षित (Advocate Shivakant Dixit) का आरोप है कि पुलिस जमानतगीरों की सत्यापन रिपोर्ट नहीं भेज रही है। जिसकी वजह से खुशी की रिहाई नहीं हो पा रही है। उन्होने अपील की है कि इसे व्यक्तिगत नहीं ले, उस बच्ची पर रहम करें। मानवता के नाते उसकी रिहाई में मदद करें।

हिस्ट्रीशीटर विकास (vikas dubey) दुबे ने बीते 2 जुलाई 2020 की रात अपने गुर्गों के साथ मिलकर सीओ समेत 8 पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी थी। बिकरू कांड के बाद एसटीएफ ने विकास दुबे समेत 6 बदमाशों को एनकाउंटर में मार गिराया था। बिकरू कांड के पांचवे दिन एसटीएफ ने हमीरपुर जिले में खुशी दुबे के पति अमर दुबे (amar dubey) को एनकाउंटर में मार दिया था। वहीं कोर्ट ने भी माना था कि बिकरू कांड के दौरान खुशी नाबालिक थी। नाबालिग होने कि वजह से खुशी को बालसुधार गृह में रखा गया था। जब खुशी बालिग हो गई, तो उसे कानपुर देहात की माती जेल में शिफ्ट कर दिया गया था।

डेढ़-डेढ़ लाख की दो जमानते दाखिल
खुशी दुबे के अधिवक्ता शिवाकांत दीक्षित ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट से खुशी दुबे को बीते 4 जनवरी को जमानत मिल गई थी। कोर्ट ने 6 जनवरी को डेढ़-डेढ़ लाख की जमानते दाखिल कर करने के निर्देश दिए थे। खुशी की बहन नेहा और पिता श्यामलाल तिवारी ने 09 जनवरी को दो जमानतें दाखिल कर दी थीं। इसके साथ ही किशोर न्याय बोर्ड में खुशी के भाई पूर्णेश और बहन नेहा ने 35-35 हजार की दो जमानतें दाखिल की गईं थीं। कोर्ट ने जमानतों के सत्यापन की रिपोर्ट पनकी और नौबस्ता थाने से मांगी थी।

डाक नहीं मिलने की बात कह कर टरकाया जा रहा है
शिवाकांत दीक्षित के मुताबिक खुशी के पिता और भाई पनकी थाना क्षेत्र में रहते हैं। जबकि बहन नौबस्ता थाना क्षेत्र में रहती है। कोर्ट ने पनकी और नौबस्ता थाने से सत्यापन की रिपोर्ट मांगी थी। खुशी के पिता और भाई जब थाने जाकर पूछते हैं कि खुशी के प्रपत्र आए हैं क्या। इस पर थाने से यह कहकर टरका दिया जाता है कि अभी डाक नहीं मिली है। जबकि डाक की ट्रैक रिपोर्ट बताती है कि 11 जनवरी को प्रपत्र थाने पहुंच चुके हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities