बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

नवाबगंज पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत तो पिता ने बेटे की खुद शुरू की पड़ताल, सीसीटीवी फुटेज देकर थाना प्रभारी से ‘घर के चिराग’ को बचाने की लगाई फरियाद, पर लाश मिली ‘सरकार’

कानपुर। नवाबगंज थानाक्षेत्र निवासी केस्को कर्मचारी रमेश वर्मा के बेटे गोविंद (24) का एक जुलाई को अपराधियों ने अपहरण कर लिया। पिता पुलिस के पास पहुंचा अैर बेटे की गुमशुदगी की शिकायत की, लेकिन उसकी सुनवाई नहीं हुई। थक-हार कर वह अपने भतीजे के साथ लापता बेटे की खोजबीन के लिए निकल पड़ा। उन्नाव जाकर एटीएम में लगे सीसीटीवी फुटेज लेकर थाना प्रभारी के पास पहुंचा और घर के चिराग को बचाए जाने की गुहार लगाई। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की तो गोविंद का शव अकबरपुर से बरामद किया।

क्या है पूरा मामला
न्वाबगंज निवासी केस्को कर्मचारी रमेश वर्मा का बेटा गोविंद बीए सेकंड इयर का छात्र था। वह एक जुलाई की शाम जन्मदिन मनाने को कहकर अपने घर से बलेनो कार लेकर निकला था। देररात तक जब गोविंद घर नहीं लौटा तो बहन ने फोनकर उससे बातचीत की। गोविंद ने बहन को बताया कि, वह जल्द घर आ रहा है। एक घंटा बीत जाने के बाद जब गोविंद घर नहीं लौटा तो उसकी मां ने फोन किया, लेकिन नंबर स्विच ऑफ था। परिवारवाले डर गए और भागकर थाने पहुंचे। उन्होंने पुलिस से बेटे की गुमशुदगी की शिकायत की, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। शनिवार को बेटे का शव अकबरपुर से पुलिस ने बरामद किया।

पिता ने लगाया पुलिस पर आरोप
मृतक के पिता रमेश ने कहा, “एक जुलाई शक्रवार की शाम गोविंद (24) दोस्त के जन्मदिन में जाने की बात कहकर घर से निकला था। बहन से बातचीत हुई। मां ने फोन लगाया तो मोबाइल बंद था। फोन बंद होने पर अनहोनी की आशंका पर नवाबगंज थाने में तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने ध्यान नहीं दिया। रमेश ने बताया, “बेटा गोविंद मेरा एटीएम लिए हुए था। शुक्रवार रात 12ः30 बजे एटीएस से तीन बार में 20-20 हजार रुपए निकले तो शक बढ़ गया। भतीजे धर्मेन्द्र के साथ खुद ही छानबीन करते हुए उन्नाव के उस एटीएम में पहुंचे जहां से पैसे निकाले थे। मकान में लगे सीसीटीवी कैमरे का फुटेज देखा तो कार सवार चार युवक मुंह पर कपड़ा बांधे हुए थे और उसे जबरन एटीएम से पैसे निकलवाने के लिए ले जा रहे थे। गोविंद के पैर में चप्पल नहीं थी, लंगड़ाकर चल रहा था।

सब अपना चेहरा कवर किए हुए थे
पिता ने बताया कि इसके बाद सीसीटीवी फुटेज नवाबगंज थाना प्रभारी आशीष द्विवेदी को सौंपा। इसके बाद मामले में मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू हुई। पुलिस ने पता किया तो रनिया में एक युवक का अज्ञात शव मिलने की जानकारी मिली। शनिवार सुबह गोविंद के परिवार वाले अकबरपुर पहुंचे। वहां शव देखा तो वह गोविंद का था। किडनैपिंग और हत्या के बाद क्राइम ब्रांच की टीम भी जांच में लगा दी गई है। पिता रमेश वर्मा ने बताया कि उनके बेटे के पास एटीएम कार्ड, एप्पल का मोबाइल, चेन, अंगूठी, घड़ी थी। हत्या के बाद बदमाश कार समेत सारा कीमती सामान लूटकर ले गए। पिता ने बताया कि सीसीटीवी में उनके बेटे के साथ कौन-कौन थे। वह पहचान नहीं आ रहे हैं। सब अपना चेहरा कवर किए हुए थे।

हत्या से पहले पीटा
पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला कि बदमाशों ने गला दबाकर गोविंद की हत्या की थी। उसके शरीर पर सात जख्म भी मिले हैं, जिसमें से तीन सिर पर हैं। हाथों में खरोंच के निशान मिले हैं। मतलब गोविंद ने बचने के लिए काफी संघर्ष भी किया था। पुलिस को आशंका है कि हत्या में मृतक के करीबी शामिल हैं। तीन से पांच लोग शामिल हो सकते हैं। पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है। जिनके साथ पुलिस पूछताछ कर रही है।

खुलासे के लिए तीन टीमें लगाई गई
पुलिस ने मोबाइल कॉल डिटेल्स के आधार पर जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि शरीर पर कई घाव हैं। इससे लग रहा है कि हत्या से पहले मारपीट भी की है। किसी नजदीकी या परिचित के इस वारदात में शामिल होने का अंदेशा है। ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर कानून-व्यवस्था, आनंद प्रकाश तिवारी के मुताबिक, हत्याकांड के खुलासे के लिए तीन टीमें लगाई गई हैं। कुछ संदिग्ध हिरासत में भी लिए गए हैं, जो तथ्य सामने आए हैं, उस आधार पर तहकीकात जारी है। जल्द आरोपी पकड़े जाएंगे।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities