बड़ी ख़बरें
एक दुनिया का सबसे बड़ा ग्लोबल लीडर तो दूसरा देश का सबसे पॉपुलर पॉलिटिशियन, पर दोनों ‘आदिशक्ति’ के भक्त और 9 दिन बिना अन्न ‘दुर्गा’ की करते हैं उपासना, जानें पिछले 45 वर्षों की कठिन तपस्या के पीछे का रहस्यअब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कप

सीएम नीतीश कुमार की पत्नी थीं स्कूल टीचर और बेटा है इंजीनियर, फैमिली राजनीति से दूर ‘सुशासन बाबू’ की बारे में जानें सबकुछ

पटना। नीतीश कुमार ने बीते बुधवार को बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। आज मंगलवार को नीतीश कैबिनेट का विस्तार किया गया। जिसमें 31 मंत्रियों ने शपथ ली। इस मौके पर हम आपको बिहार के ‘सुशासन बाबू’ के राजनीतिक कॅरियर, परिवार और अन्य पहलुओं से रूबरू कराने जा रहे हैं। सीएम नीतीश कुमार के परिवार का एक भी सदस्य राजनीति में नहीं है। सीएम की पत्नी स्कूल टीचर थीं। जबकि बेटा इंजीनियर है। रिश्तेदार भी राजनीति से दूर हैं।

नीतीश कुमार के पिता पेश से थे डॉक्टर
नीतीश कुमार का जन्म एक मार्च 1951 को बिहार के बख्तियारपुर में हुआ था। नीतीश कुमार की मां का नाम परमेश्वरी देवी था। पिता राम लखन सिंह आयुर्वेदिक डॉक्टर थे। कुर्मी (पिछड़ी) जाति से आने वाले नीतीश की शुरुआती पढ़ाई गांव में ही हुई। बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकैनिकल इंजीनियरिंग करने के बाद नीतीश इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में काम करने लगे। नीतीश कुमार के परिवार में पांच भाई-बहन हैं। नीतीश के बड़े भाई सतीश कुमार किसान हैं। इसके अलावा नीतीश की तीन छोटी बहनें उषा देवी, इंदु देवी और प्रभा देवी हैं। सतीश की तरह बहनें भी राजनीति से दूर हैं।

नीतीश कुमार की पत्नी थीं स्कूल टीचर
नीतीश कुमार का विवाह 22 फरवरी 1973 को मंजू कुमारी सिन्हा के साथ हुआ था। मंजू बिहार में सरकारी स्कूल टीचर थीं। नीतीश कुमार की पत्नी मंजू का 2007 में निधन हो चुका है। मंजू और नीतीश के इकलौते बेटे निशांत कुमार ने बीआईटी से इंजीनियरिंग की है। निशांत राजनीति से दूर रहते हैं। निशांत खुद कह चुके हैं कि वो कभी भी राजनीति में नहीं आएंगे। नीतीश कुमार के बेटे कभी मीडिया में नहीं आते। वह अपने परिवार के साथ अलग रहते हैं। नौकरी से जो वेतन मिलता है, उसी से गृहस्थी चलाते हैं।

पहला विधानसभा चुनाव हार गए थे नीतीश कुमार
नीतीश कुमार जय प्रकाश नारायण के आंदोलन से जुड़े और राजनीति में आ गए। नीतीश कुमार को राजनीति में लाने में अहम भूमिका लालू यादव ने निभाई थी। कहा जाता है कि, लालू यादव से नीतीश कुमार से सियासत का ककहरा सीखा। नीतीश ने पहली बार 1977 का बिहार विधानसभा चुनाव लड़ा, लेकिन वह चुनाव हार गए। 1985 में फिर से विधानसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। 1987 में लोक दल के प्रदेश अध्यक्ष बने। 1989 में बिहार की बाढ़ लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने गए। अप्रैल 1990 से नवंबर 1990 तक केंद्रीय कृषि और सहकारिता मंत्री रहे। 1991 में दूसरी बार सांसद चुने गए।

लालू यादव के खिलाफ लड़ी सियासी जंग
1995 में बिहार विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव के खिलाफ लड़ाई लड़ी। जॉर्ज फर्नांडीस के साथ समता पार्टी की शुरुआत की। तब चुनाव में उनकी पार्टी केवल छह सीटें ही जीत सकी थी। 1996 में लोकसभा चुनाव लड़ा और सांसद चुने गए। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में केंद्रीय रेल मंत्री, भूतल परिवहन मंत्री और कृषि मंत्री रहे। दो अगस्त 1999 में गैसल ट्रेन दुर्घटना की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए नीतीश कुमार ने केंद्रीय रेल मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया।

2000 में पहली बार नीतीश कुमार बने मुख्यमंत्री
मार्च 2000 में वह पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने। हालांकि, केवल सात दिनों तक ही उनका कार्यकाल रहा। इसके बाद 2005, 2010, 2013, 2015, 2017, 2020 में और 2022 में आठवीं बार मुख्यमंत्री बने। नीतीश कुमार की छवि एक इमानदार नेता को तौर पर गिनी जाती है। 16 फीसदी वोट रखने वानी जेडीयू पिछले कई वर्षों से बिहार की सत्ता में विराजमान है। नीतीश ही वह नेता हैं, जिन्होंने बिहार से लालू यादव को शिकस्त देकर सियासत से दूर कर दिया। हालांकि, 2022 में दोनों दल फिर एक साथ आए हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities