ब्रेकिंग
गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकीEmergency Landing: दिल्ली एयरपोर्ट पर स्पाइस जेट के विमान की इमरजेंसी लैंडिंग, प्लेन में भरा धुआं

Delhi: ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर मनीष सिसोदिया ने भाजपा पर साधा निशाना

फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर राजनिति में लगातार खींचतान मची हुई है। इसी बीच उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भाजपा को आड़े हाथ लिया है। उन्होंने विधानसभा में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव में भाग लेते हुए कहा कि कश्मीरी पंडितों के नाम पर राजनीति की रोटी सेंकने वाली भाजपा ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर तो बहुत चीखती-चिल्लाती रही, लेकिन जब दिल्ली विधानसभा में कश्मीरी पंडितों के वेलफेयर की बात आई तो सदन से उठकर भाग गई।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि यह भाजपा की दोहरी राजनिति है। उन्होंने कहा कि भाजपा केवल ‘द कश्मीर फाइल्स’ की बात करती है और हम कश्मीरी पंडितों के कल्याण की बात करते हैं। केंद्र में बैठी भाजपा सरकार, कश्मीरी पंडितों पर गलत राजनीति करने के बजाय उनकी बेहतरी के लिए तीन मांगों को पूरा करे। केंद्र सरकर विस्थापितों का पुनर्वास करे, फिल्म से कमाए 200 करोड़ रुपये कश्मीरी पंडितों के वेलफेयर के लिए खर्च करे और पूरा देश कश्मीरी पंडितों के दुख -दर्द को समझ सके, इसलिए फिल्म को यू-ट्यूब पर डालें।

इसके अलावा सत्तापक्ष ने सदन में ‘द कश्मीर फाइल्स’ को लेकर लाए गए प्रस्ताव का समर्थन किया। भाजपा पर यह बहुत बड़ा सवाल है कि 32 साल बाद भी कश्मीरी पंडितों को अपने ही देश में विस्थापित होकर क्यों रहना पड़ रहा है? भाजपा हमेशा अपने घोषणा पत्रों में लिखती रही है कि सत्ता में आने के बाद कश्मीरी विस्थापितों की मदद कर उनका पुनर्वास करने का काम करेगी, लेकिन पिछले आठ सालों से केंद्र सरकार में है और कुछ समय से कश्मीर में सरकार में होने के बाद भी भाजपा आज तक यह क्यों नहीं करवा सकी।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities