ब्रेकिंग
नवाबगंज पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत तो पिता ने बेटे की खुद शुरू की पड़ताल, सीसीटीवी फुटेज देकर थाना प्रभारी से ‘घर के चिराग’ को बचाने की लगाई फरियाद, पर लाश मिली ‘सरकार’गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकी

आषाढ़ी अमावस्या पर करें पितरों का तर्पण, घर में आएगी सुख और शांति, पढ़ें तिथि और पूजा विधि

Ashadh Amavasya Vrat Niyam: हिंदू पंचांग के अनुसार, आषाढ़ माह की अमावस्या को अषाढ़ी अमावस्या या हलहारिणी अमावस्या कहा जाता है। इस बार आषाढ़ मास की अमावस्या तिथि 28 जून 2022 को है। चंद्र मास के अनुसार आषाढ़ वर्ष का चौथा माह होता है। इसके बाद वर्षा ऋतु की शुरुआत हो जाती है। हिंदू धर्म में आषाढ़ मास की अमावस्या बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस दिन किसी पवित्र नदी, सरोवर में स्नान और पितरों के निमित्त दान और तर्पण करने का विधान है। इसके अलावा इस दिन पितरों के लिए व्रत करने का भी विधान है। इससे आपके ऊपर पितरों का आशीर्वाद बना रहता है। अमावस्या तिथि पितृदोष और कालसर्प दोष को दूर करने के लिए काफी शुभ मानी जाती है। ऐसे में इस मास की अमावस्या पितरों का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए बेहद खास है। इस दिन पितरों की शांति के लिए किया गया स्नान-दान और तर्पण उत्तम माना जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से पितृ बहुत खुश होते हैं और आशीर्वाद प्रदान करते हैं। पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। पितरों के आशीर्वाद से मान-सम्मान में वृद्धि होती है।

आषाढ़ अमावस्या की तिथि
आषाढ़ मास अमावस्या तिथि प्रारंभ: 28 जून, मंगलवार, प्रातः 5:53 से
आषाढ़ मास अमावस्या तिथि समाप्त: 29 जून, बुधवार, प्रातः 8:23

आषाढ़ अमावस्या की पूजा का महत्व
अमावस्या तिथि पर कई लोग अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्राद्ध कर्म करते हैं। इस दिन पितृ तर्पण, नदी स्नान और दान-पुण्य आदि करना ज्यादा फलदायी माना जाता है। इतना ही नहीं यह तिथि पितृ दोष से मुक्ति दिलाने में सहायक मानी गई है। अत: पितृ कर्म के लिए यह तिथि बेहद शुभ मानी जाती है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities