बड़ी ख़बरें
Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी बोले कश्मीर मेरी टी शर्ट लाल करना हो कर दो… लेकिन बच्चों-बुजुर्गों ने आंसुओं से स्वागत कियाBBC Documentary: बीबीसी डॉक्यूमेंट्री मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट… याचिका दाखिल कर रोक हटाने की मांग… 6 फरवरी को होगी सुनवाईBharat Jodo Yatra: प्रियंका और राहुल गांधी बर्फबारी का लुफ्त  उठाते आए नजर… भाई-बहन ने एक दूसरे को बर्फ के गोले फेंककर मारे… वीडियो सोशल मीडिया पर वायरलExtended weekend: ‘पठान’ ने 5वें दिन तोड़े सभी रेकॉड… बॉलीवुड के इतिहास में वीकेंड में सर्वाधिक कमाई करने वाली बनी फिल्मBeating the Retreat Ceremony: बारिश के बीच बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी कार्यक्रम की शुरूआत… 3500 स्वदेशी ड्रोन आसमान दिखाएंगे इंडियन कल्चरRakhi mother passes away:राखी सावंत की मां का निधन… भावुक पोस्ट में रोते हुए दिखीं एक्ट्रेस… आखिरी समय में दर्द में थी मांNational Executive of SP declared: अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल को दी बड़ी जिम्मेदारी…. स्वामी प्रसाद मौर्य को भी मिली जगह… सपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषितRohit Sharma: पाकिस्तान के बल्लेबाज शाहिद आफरीदी के इस रेकॉड पर रोहित शर्मा की नजर… इस साल टूट जाएगा रेकॉडIndia vs New Zealand T20 Series: टीम इंडिया सीरीज में वापसी करने उतरेगी… जाने क्या है इंडिया-न्यूजीलैंड की संभावित प्लेइंग-11Flag Hoisting at Lal Chowk: लाल चौक पर राहुल गांधी ने फहराया तिरंगा… पं नेहरू के बाद झंडा रोहण करने वाले राहुल बने दूसरे कांग्रेसी नेता

डंडे से मार खाने के बाद बौखलाया ‘ड्रैगन’… राफेल और एस-400 ने बढाई चीन की मुश्किलें

अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में एलएसी पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद स्थिति तनावपूर्ण है मगर नियंत्रण में है। बीते कई महीने से एलएसी पर चीन के फाइटर जेट और ड्रोन्स भारतीय सीमा की रेकी कर रहे थे। भारतीय सेना ने तवांग सेक्टर में ड्रैगन को डंडो से खदेड़ दिया, तो वहीं दूसरी तरफ एयरफोर्स अलर्ट मोड पर है। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि ये 1962 का भारत नहीं है, हमारे बहादुर जवान 2022 में भी लट्ठ मारकर चीनी सैनिकों को खदेड़ रहे हैं। चीन कई मोर्चों पर घिर चुका है। चीन कई मोर्चों पर यथास्थिति को बिगाड़ने का प्रयास कर रहा है। चीन एलएसी पर अपनी सैन्य क्षमता को लगातार बढ़ाने का काम कर रहा था।

रक्षा विशेषज्ञ प्रफुल्ल बख्शी के मुताबिक, चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आएगा। खासतौर से 2020 के बाद एलएसी पर तनाव बढ़ता जा रहा है। कई बार ऐसी खबरें भी मिलती हैं कि चीन, एलएसी के करीब सामरिक महत्व वाले स्थानों पर तेजी से निर्माण कार्य बढ़ा रहा है। अगर भारत को इस तरह की टकराव से छुटकारा पाना है, तो उसे सबसे पहला काम, मौजूदा पेट्रोलिंग पॉइंट्स को स्थायी नियंत्रण रेखा बनाना होगा। इसके लिए भारत को कुछ मामलों में कदम आगे बढ़ाना पड़ेगा। आज भारत के पास एक मजबूत थल, जल और वायु सेना है। कुछ मोर्चों पर हमें अपने संसाधनों को तकनीकी तौर पर उन्नत बनाना होगा।

सैन्य विशेषज्ञ कहते हैं कि चीन कहां मानने वाला है। वह तो अतीत से ही विस्तारवादी नीति पर चल रहा है। जब भी उस देश में कोई आंतरिक संकट आता है, तो राजनीतिक नेतृत्व, एलएसी पर अपना फोकस कर लेता है। मौजूदा राजनीतिक नेतृत्व भी कुछ वैसा ही कर रहा है। कोविड संक्रमण को लेकर आज भी वह देश भंवर में फंसा है। ताइवान पर किरकिरी हो चुकी है। अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भी सब कुछ ठीक नहीं है। ऐसे में भारत को सजग रहते हुए चीन की किसी भी हरकत का मजबूती से जवाब देना होगा।

उकसावे का खेल रहा है चीन
चीन शुरू से ही उकसावे का खेल खेलता रहा है। गलवान घाटी, पैंगोंग और गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स जैसे क्षेत्रों में दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने आ चुकी हैं। गलवान की हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे। चीन को भी बड़ा नुकसान झेलना पड़ा था। ये अलग बात है कि चीन ने लगभग आधा दर्जन सैनिकों के मारे जाने की बात स्वीकार की थी। गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स, डेमचोक और डेपसांग जैसे क्षेत्रों को लेकर भी चीन विवाद खड़ा करता रहता है।

रक्षा विशेषज्ञ एसबी अस्थाना के मुताबिक ये न तो पहला फेसऑफ है और न ही आखिरी। चीन की ये कोशिशें आगे भी जारी रहेंगी। दोनों देश अपने अनुसार, एलएसी पर पेट्रोलिंग करते हैं। एक दूसरे के क्षेत्र में प्रवेश करते ही टकराव शुरू हो जाता है। समझौते के अनुसार, टकराव की स्थिति में शारीरिक तौर तरीकों का ही इस्तेमाल होना चाहिए। भारत इसमें सदैव संयम बरतता है। आमतौर पर सर्दियों में पेट्रोलिंग पर ज्यादा जोर नहीं रहता, लेकिन इस बार अधिक पेट्रोलिंग हो रही है। चीन, अर्थव्यवस्था और कोरोना के संकट में फंसा है। लोग सड़कों पर उतर रहे हैं। नतीजा, चीन एलएसी पर आक्रामक रवैया अख्तियार कर लेता है। तवांग की घटना के बाद सर्दियों में एलएसी पर दोनों देशों के सैनिकों की तैनाती बढ़ जाएगी।

बौखलाया है चीन
एयर कमोडोर बीएस सिवाच (रिटायर्ड) के अनुसार, चीन आर्थिक मोर्चे पर कमजोर पड़ रहा है। दूसरा, भारत को मिले राफेल और एस-400 मिसाइल प्रणाली से ड्रैगन बौखला उठा है। वर्ल्ड डायरेक्टरी ऑफ मॉडर्न मिलिट्री एयरक्राफ्ट (डब्ल्यूडीएमएमए) ने अपनी ’ग्लोबल एयर पॉवर्स रैंकिंग’ रिपोर्ट में भारतीय वायु सेना को चीन की एयरफोर्स के मुकाबले बेहतर रैंक प्रदान किया था। अमेरिका की प्रतिनिधि सभा ने भारत को रूस से एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिए ’काटसा’ प्रतिबंधों से छूट दिलाने वाला संशोधित विधेयक पारित किया तो चीन की टेंशन बढ़ गई। इसके बाद रूस से एस-400 मिसाइल सिस्टम खरीदना आसान हो गया। चीन ने प्रयास किया था कि एस-400 मिसाइल, भारत को न मिल पाए। कई मोर्चों पर कमजोर पड़ रहा चीन, भारत के साथ सीमा विवाद को बड़ा आकार नहीं देगा।

एलएसी पर अपने हिस्से में भारतीय मिग-29, सुखोई, मिराज 2000 और राफेल जैसे शक्तिशाली लड़ाकू विमान गश्त कर रहे हैं। एस-400 मिसाइल को महज पांच मिनट में ही युद्ध के लिए तैयार किया जा सकता है। खास बात ये है कि इस मिसाइल को जमीन, अत्याधिक ऊंचाई और समुद्री प्लेटफॉर्म, कहीं से भी सफलतापूर्वक दागा जा सकता है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities