ब्रेकिंग
Siddharthnagar: भाकियू ने केंद्रिय मंत्री अजय मिश्रा को हटाने के विरोध में जाम किया रेलवे ट्रैकHamirpur: किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, तैनात की गई जीआरपी और पुलिसAuraiya: किसान यूनियन द्वारा रेल रोकने के मामले में पुलिस प्रशासन सख्तUnnao: किसानों की ओर से रेल रोको आंदोलन का आह्वान, पुलिस और प्रशासनिक टीमें अलर्टHamirpur: आकाशीय बिजली गिरने से बेटे की मौत, मां की हालत गंभीरAgra: किसान आंदोलन के मद्देनजर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामAgra: युवक के ऊपर टूट कर गिरा बिजली का तार, करंट लगने से युवक की मौतJhansi: रजत पदक विजेता शैली सिंह का गुरु पद्मश्री अंजु बॉबी जार्ज के साथ हुआ भव्य सम्मानआगरा: सरकारी हैडपम्प पर दो पक्षों में हुआ विवाद, दबंगों ने युवती को जमकर पीटाAgra: एक्टिव मोड दिखी BSP, बसपाई ने दिया कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र

Mathura: माननीयों की उपेक्षा से कृष्ण की नगरी बेहाल, ग्रामीणों ने किया वोट का बहिष्कार

मनोज चाहर, आगरा

Mathura: कृष्ण की नगरी मथुरा उसमें भी गोवर्धन परक्षेत्र जिसे भगवान कृष्ण ने अंगुली पर उठा लिया। आज बेहाल है वहां पर रहने वाले आस-पास के गांव माननीयों के इंतजार में आंखें गड़ाए बैठे हैं। लेकिन मथुरा से सांसद फिल्म अभिनेत्री हेमा मालिनी एवं ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा को गोवर्धन की बदहाली नहीं नजर आई। यहां पर आसपास के गांव वाले माननीयों के दर्शन के लिए लालायित हो रहे है। लेकिन पूरा कार्यकाल बीतने के बावजूद भी ना तो मंत्रियों ना ही स्थानीय विधायकों ने यहां की बदहाली पर दो संवेदनाओं के बोल भी नहीं बोल पाए। ऐसी क्या मजबूरी है। यह एक प्रश्न है। जिससे दुखी ग्रामवासी इस बार माननीय मुख्यमंत्री योगी जी को सूचित करते हुए वोट बहिष्कार का फैसला किए हैं जो भरी पंचायत में सर्वसम्मति से पास किया गया।

आजादी के सात दशक बीत जाने के बाद भी गोवर्धन विधानसभा के गांव कोन्हई में विकास नहीं तो एकजुट ग्रामीणों ने चुनाव में वोट न देने का फैसला कर लिया है। करीब सात हजार आबादी के गांव में अपनी समस्याओं को लेकर पहले पंचायत की और पंचायत के सर्वसम्मति से लोकतांत्रिक प्रक्रिया चुनाव का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया। इस दौरान ग्रामीणों का कहना था कि वोट देने के बाद जनप्रतिनिधि चुनने से कोई फायदा नहीं है। गांव से निकलने का रास्ता ही नहीं है। स्कूल में पढ़ने वाले नौनिहाल दल-दल कीचड़ और गड्डे युक्त सड़क पर चलने को मजबूर हैं। यहां एक नहीं बल्कि तीन-तीन सम्पर्क मार्गं वर्षों से टूटे पड़े हैं। यहां गड्डा मुक्त नहीं अपितु गड्डा युक्त सड़क हैं। गांव में माननीय विधायक और सांसद के पांच साल से दर्शन नहीं है। अब गांव वाले अपने वोट का अहसास दिलाएंगे। जब वोट नहीं डालेंगे तो ध्यान उनकी समस्याओं की ओर जाएगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities