ब्रेकिंग
खनन माफिया हाजी इकबाल और उसके बहनोई दिलशाद पर योगी सरकार ने कसा शिकंजा, बुलडोजर और संपत्ति पर एक्शन के बाद पुलिस ने किया अब तक का सबसे बड़ा ‘प्रहार’5 लाख की सुपारी लेकर इन खूंखार शूटर्स ने मध्य प्रदेश की पूजा मीणा का किया मर्डर, पति ने हत्या की पूरी फिल्मी कहानी बयां की तो ये चार लोग गदगदडेढ़ करोड़ के जेवरात मैंने नहीं किए पार प्लीज छोड़ दे ‘साहब’ पर नहीं माना थानेदार और थाने में मजदूर की दर्दनाक मौतAzadi ka Amrit Mahotsav : मरी नहीं जिंदा है दूसरा ’जलियां वाला बाग’ की गवाह ‘इमली’ जिस पर एक साथ 52 क्रांतिकारियों को दी गई थी फांसीSawan Special Story 2022 : यूपी के इस शहर में भू-गर्भ से प्रकट हुए नीलकंठ महादेव, महमूद गजनवी ने शिवलिंग पर खुदवा दिया ‘लाइलाह इलाल्लाह मोहम्मद उर रसूलल्लाह‘बीजेपी नेता बीएल वर्मा के जन्मदिन पर पीएम मोदी ने खास अंदाज में दी बधाईजनिए किस मामले में मंत्री राकेश सचान पर कोर्ट ने फैसला किया सुरक्षित, सपा ने ट्वीटर पर क्यों लिखा ‘गिट्टी चोर’देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़, वकालत से लेकर सियासत तक जाट नेता का ऐसा रहा सफरबीच सड़क पर आपस में भिड़े पुलिसवाले और एक-दूसरे को जड़े थप्पड़ ‘खाकीधारियों के दगंल’ की पिक्चर हुई रिलीज तो मच गया हड़कंपनदी के बीच नाव पर पका रहे थे भोजन तभी फटा गैस सिलेंडर, बालू के अवैध खनन में लगे पांच मजदूरों की जलकर दर्दनक मौत

शिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहीं

मुम्बई। महाराष्ट्र की राजनीति के नए ‘बाहुबली’ के रूप में एकनाथ शिंदें निकल कर सामने आए हैं। शिवसेना के इस नेता ने जिस तरह से करीब 31 माह पुरानी उद्धव ठाकरे नीत महाविकास अघाड़ी सरकार की विदाई की नींव रखी, इसके बाद अब बाला साहेब के चेले शिंदे की चर्चा पूरे देश में हो रही है। जल्द वह देवेंद्र फडणवीस के साथ नई सराकर में डिप्टी सीएम के पद पर विराजमान होंगे। जानकारों का कहना है कि देवेंद्र और शिंदे का सियासी कॅरियर पार्षद पद से शुरू हुआ और दोनों ने आरएसएस की शाखा में जाकर राजनीति का मंत्र पढ़ा।

फडणवीस सूबे के अगले मुख्यमंत्री होंगे

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार बनने की बस अब केवल औपचारिकताएं बाकी हैं। इस बीच, शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे और बीजेपी देवेंद्र फडणवीस के बीच नई सरकार के गठन को लेकर बातचीत का दौर लगभग-लगभग पूरा हो गया है। देवेंद्र फडणवीस सूबे के अगले मुख्यमंत्री होंगे तो वहीं एकनाथ शिंदे उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। बतादें, देररात सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उद्धव ठाकरे ने सीएम पद से रिजाइन कर दिया था। इसके बाद महाराष्ट्र में शिंदे गुट और बीजेपी की सरकार बनने की उल्टी गिनती शुरू हो गई थी।

विधानसभा का गणित अब पूरी तरह से बीजेपी के साथ

बता दें, 288 सीटों वाले विधानसभा में इस वक्त एक सदस्य के निधन के कारण 287 विधायक हैं। ऐसे में बहुमत का आंकड़ा 144 सीटों का है। बीजेपी के पास 106 विधायक हैं। शिंदे के समर्थन वाले विधायकों की संख्या 39 है। 12 निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी बीजेपी को है। इसके अलावा बीवीए के 3 और एमएनएस के 1 विधायक भी बीजेपी खेमे में हैं। इस तरह बीजेपी का कुल आंकड़ा 161 पहुंच जाता है। वहीं, विपक्ष में शिवसेना के 16, एनसीपी के 53, कांग्रेस के 44, समाजवादी पार्टी के 2 विधायक हैं। इसके अलावा ओवैसी की पार्टी के 2, निर्दलीय 2 विधायक हैं। यानी विधानसभा का गणित अब पूरी तरह से बीजेपी के साथ है।

कौन हैं एकनाथ शिंदे
एकनाथ शिंदे का जन्म 9 फरवरी 1964 में महाराष्ट्र के सतारा जिले में हुआ था। सतारा के पहाड़ी जवाली तालुका के पास उनका परिवार रहता था। उन्होंने ठाणे में मंगला हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज से पढ़ाई की। इसके बाद आजीविका चलाने के लिए वह ऑटो रिक्शा चलाया करते थे। एकनाथ शिंदे 1997 में ठाणे महानगर पालिका से पार्षद चुने गए और 2001 में नगर निगम सदन में विपक्ष के नेता बने। एकनाथ शिंदे साल 2004 में पहली बार विधायक निर्वाचित हुए थे। 2009, 2014 और 2019 में भी विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुए।

आरएसएस की पाठशाला से निकले देवेंद्र
देवेंद्र फडणवीस इस वक्त महाराष्ट्र की सियासत का जाना-पहचाना और पॉपुलर चेहरा हैं। फडणवीस के पिता गंगाधर राव फडणवीस नागपुर से एमएलसी थे। देवेंद्र फडणवीस के सयासी उभार में आरएसएस की बड़ी भूमिका है। देवेंद्र ने आरएसएस से ही सियासत का ककहरा सीखा। साल 1989 में 19 साल की उम्र में फडणवीस एबीवीपी के साथ जुड़ गए। साल 1990 में नागपुर बीजेपी युवा मोर्चा के पदाधिकारी बने। देवेंद्र ने साल 1992 में नागपुर के रामनगर वार्ड से निकाय चुनाव लड़ा और जीत हासिल की.।साल 1994 में देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र बीजेपी युवा मोर्चा का उपाध्यक्ष बनाया गया।

सबसे युवा पार्षद और मेयर बने देवेंद्र
1991 में 22 साल की उम्र में नागपुर नगर निगम का सबसे युवा पार्षद बने। साल 1999 में पहली बार युवा मेयर चुने गए। साल 1999 में पहली बार विधानसभा का चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। साल 2001 में बीजेपी युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चुना गया। साल 2010 में महाराष्ट्र में बीजेपी के महासचिव बनाए गए। इसके बाद 12 अप्रैल 2013 को उनको पार्टी की जिम्मेदारी सौंप दी गई और उनको बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया।

5 साल तक रहे मुख्यमंत्री
विधानसभा चुनाव 2014 में बीजेपी महाराष्ट्र की सबसे बड़ी पार्टी बन गई। बीजेपी ने अकेले चुनाव लड़ा और 122 सीटों पर जीत हासिल की। हालांकि बाद में बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर सरकार बनाई। 47 साल के देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाया गया। देवेंद्र फडणवीस 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाले महाराष्ट्र के दूसरे मुख्यमंत्री बने। हालांकि 2019 में विधानसभा चुनाव के बाद देवेंद्र फडणवीस सबसे कम दिन के सीएम बने।

फडणवीस का शायरना अंदाज देखने को मिला
साल 2019 में भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना ने जब मिलकर चुनाव लड़ा था और परिणाम आने के बाद एकदम तय माना जा रहा था कि महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन की सरकार बनेगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कांग्रेस, एनसीपी के साथ शिवसेना ने सरकार बना ली। इसके बाद महाराष्ट्र विधानसभा के विशेष सत्र में पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का शायरना अंदाज देखने को मिला था। फडणवीस ने उस समय कहा था, ’मेरा पानी उतरता देख, मेरे किनारे पर घर मत बसा लेना… मैं समंदर हूं, लौट कर वापस आऊंगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities