ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट के इस जज ने नूपुर शर्मा को सुनाई खरी-खरी, याचिका खरिज कर कहा टीवी में जाकर देश से मांगे माफी‘चायवाले’ ने पवार के ‘पॉवर’ और ठाकरे के ‘इमोशन’ का निकाला तोड़, ‘ऑटो चालक’ को इस वजह से बनाया महाराष्ट्र का चीफ मिनीस्टरउदयपुर घटना को लेकर कानपुर के मुस्लिम संगठन के साथ अन्य लोगों में उबाल, कन्हैयालाल के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलवाए ‘सरकार’महाराष्ट्र में फिर से बड़ा उलटफेर, शिंदे के साथ फडणवीस लेंगे शपथBIG BREAKING – देवेंद्र फडणवीस नहीं, एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, शाम को अकेले लेंगे शपथशिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहींPanchang: आज का पंचांग 30 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयMonsoon Update: गाजियाबाद और आसपास के जिलों को करना होगा बारिश का इंतजार, पूर्वी यूपी में हल्की बारिश शुरूउदयपुर हिंसा का सायां यूपी तक पहुंचा, यूपी के मेरठ जोन में अलर्ट, सोशल मीडिया पर खाास नजरCorona Update: कोरोना ने बढ़ाई देश की टेंशन, एक ही दिन में बढ़ 25 फीसदी मरीज बढ़े, 30 लोगों की मौत

Etawah: जसवंतनगर के तीन MBBS छात्र यूक्रेन में फंसे, परिजनों ने सरकार से मांगी मदद

रजत गुप्ता, इटावा

रूस और यूक्रेन में हमले के बीच पल-पल बदल रहे हालातों को लेकर वहां फंसे भारतीय नागरिकों और छात्रों के परिजनों को उनकी चिंता सता रही है। इसी कड़ी में जसवंतनगर के तीन छात्र यूक्रेन में फंसे हैं, उनके परिजनों ने भारत सरकार से उन्हें वापस लाने की  गुहार लगाई है।

नगर के यादव नगर मोहल्ले में रहने वाले शिक्षक अमरपाल सिंह यादव के दो जुड़वां बेटे अमित और सुमित यूक्रेन की विनीट्सिया यूनिवर्सिटी में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं जिनका तीसरा वर्ष है उनके परिजनों ने उन्हें पिछली बार करीब 5 माह पहले दिल्ली से फ्लाइट के जरिए विदा किया था। अक्सर फोन पर बातचीत होती रहती थी लेकिन 20 तारीख को अचानक जब भयभीत अवस्था में बेटों ने कॉल कर अपने पिता को बताया कि उनकी टिकट करा दो रूस कभी भी यहां हमला कर सकता है तो परिजनों ने 27 फरवरी की टिकट भी करा दी लेकिन 2 दिन में जब उनकी यूनिवर्सिटी से 20- 25 किलोमीटर की दूरी पर दो हमले हुए तो यूनिवर्सिटी प्रशासन ने उन्हें नजदीक में बने बंकरों सुरक्षित कर दिया। इधर परिजन परेशान हैं कि कब उनके बेटों की घर वापसी आएंगें।

इसी तरह इसी मोहल्ले के योगेश यादव की एमबीबीएस की चौथी साल हैं जो यूक्रेन की राजधानी कीव में अध्ययनरत है। उसके पिता चरन सिंह यादव ने बताया कि करीब 10 माह पहले गया बेटा अभी 22 फरबरी को दहशत में था। उसने काल कर बोला कि मुझे वापस बुला लो तो 26 फरबरी के लिए फ्लाइट बुक कर दी थी लेकिन अब युद्ध के बाद तो सारी फ्लाइट रद्द कर दी गई हैं। योगेश के बड़े भाई लोकेंद्र ने बताया कि वह भाई से लगातार संपर्क बनाए हुए है। ऑडियो वीडियो कॉल करके हालचाल ले रहे हैं। फिलहाल योगेश को अन्य सहपाठियों के साथ बंकर में सुरक्षित रखा गया है। उन्होंने भी भारत सरकार से अपेक्षा की है कि योगेश को किसी तरह वापस लाया जाए।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities