ब्रेकिंग
Kanpur: डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने परियोजनाओं का किया लोकार्पण, सरकार की गिनाई उपलब्धियांBadaun: एनएचएम संविदा कर्मचारियों की हड़ताल, मांगों को लेकर प्रदर्शनBadaun: पुलिस के हाथ लगी बड़ी सफलता, तीन शातिर लुटेरे गिरफ्तारSiddharthnagar: आनंदी बेन पटेल ने आंगनवाडी केंद्र का किया निरीक्षण, अधिकारियों को दिए आवश्यक निर्देशकानपुर पहुंचे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, विपक्षियों पर कसा तंजहमीरपुर पहुचीं उमा भारती, स्वामी ब्रह्मानंद जी के जन्मोत्सव में हुईं शामिलAgra: दारू के लिए पैसे ना देने पर दोस्तों ने की दोस्त की पिटाईआगरा पुलिस ने संवेदनशील और अतिसंवेदनशील बूथों का किया निरीक्षणAgra: रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के गड्ढे बने मुसीबत, हादसे को दावत दे रहे हैं दावतदिशा पाटनी ग्लैमरस तस्वीरों में दिखी बोल्ड, सोशल मीडिया पर छाया हॉट लुक

तीनों कृषि बिल वापस होने के बाद भी किसान है नाराज

किसान आंदोलन को लेकर आज से पूरी एक साल पूरी हो गई है। इस अवसर पर दिल्ली की सीमाओं पर किसानों ने एकत्रित होने की घोषणा की है। इसको देखते हुए हर स्थान पर सुरक्षा व्‍यवस्‍था के कड़े इंतजाम किये गए हैं। किसान नेता राकेश टिकैत कहना है कि सिर्फ तीन कृषि कानूनों के वापस लेने से किसानों की परेशानी दूर नहीं हुई है। इसलिए केंद्र सरकार जब तक किसानों से खुद बातचीत नहीं करेगी और एमएसपी पर कानून नहीं बनाएगी तब तक यह आंदोलन लागू रहेगा।

आपको बता दें कि कभी-कभी ऐसा लगता है कि किसान आंदोलन अब खत्म हो गया है। लेकिन बार-बार किसानों का गुस्सा फूट उठता है। दरअसल, इस आंदोलन के दौरान लाल किला पर जो कुछ हुआ वो भी बहुत ही शर्मनाक है। सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ शुरू हुआ ये आंदोलन इन कानूनों को वापस लेने के बाद भी लगातार जारी है। अब किसानों ने घोषणा कर दी है कि वो अपनी दूसरी मांगों को लेकर आंदोलन करते रहेगें और जब तक सदन में इन कानूनों को वापस नहीं ले लिया जाता है तब तक वो भी डटे रहेंगे। किसानों ने यह भी कह दिया है कि उन्‍हें पीएम मोदी की घोषणा के बाद इस बात पर यकीन नहीं है कि ये कानून वापस होंगे। इसके साथ ही किसान एमएसपी पर कानून चाहते हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities