ब्रेकिंग
Siddharthnagar: भाकियू ने केंद्रिय मंत्री अजय मिश्रा को हटाने के विरोध में जाम किया रेलवे ट्रैकHamirpur: किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर प्रशासन अलर्ट, तैनात की गई जीआरपी और पुलिसAuraiya: किसान यूनियन द्वारा रेल रोकने के मामले में पुलिस प्रशासन सख्तUnnao: किसानों की ओर से रेल रोको आंदोलन का आह्वान, पुलिस और प्रशासनिक टीमें अलर्टHamirpur: आकाशीय बिजली गिरने से बेटे की मौत, मां की हालत गंभीरAgra: किसान आंदोलन के मद्देनजर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजामAgra: युवक के ऊपर टूट कर गिरा बिजली का तार, करंट लगने से युवक की मौतJhansi: रजत पदक विजेता शैली सिंह का गुरु पद्मश्री अंजु बॉबी जार्ज के साथ हुआ भव्य सम्मानआगरा: सरकारी हैडपम्प पर दो पक्षों में हुआ विवाद, दबंगों ने युवती को जमकर पीटाAgra: एक्टिव मोड दिखी BSP, बसपाई ने दिया कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र

Hapur: भ्रष्ट डिप्टी रेंजर के पाप का भण्डाफोड़, वन दरोगा समेत चार पर मुकदमा दर्ज

पैसे से पद ,पद से पैसा ,अजब गठजोड़  है , ऐसा नहीं है की डिप्टी रेंजर अशोक कुमार गुप्ता ही भ्रष्ट है ,विगत ३० साल से गाजियाबाद जमे  जिले में गुप्ता का कोई तो आँका होगा। आपको बता दें कि देहात थाना क्षेत्र के गढ़ रोड स्थित एक प्लाईवुड फैक्ट्री में घुसकर रिश्वत मांगने व विरोध पर मजदूरों से मारपीट करने के मामले में पुलिस ने वन विभाग के डिप्टी रेंजर, दो वन दरोगा सहित चार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मारपीट के दौरान तीन मजदूर गंभीर रुप से घायल हो गए हैं।  पुलिस ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। यह कार्रवाई उच्चाधिकारियों के निर्देश  के बाद हुई  है। गांव जरौठी निवासी अरविंद की देहात थाने के पास प्लाईवुड फैक्ट्री है।  फैक्ट्री में मजदूर काम कर रहे थे। इस दौरान कार सवार आधा दर्जन से अधिक युवक वर्दी और सादी कपड़ों में फैक्ट्री में घुस आए। उन्होंने अपने आप को वन विभाग के डिप्टी रेंजर व कर्मचारी बताकर मजदूरों से अवैध उगाहीं  करने लगे। विरोध करने पर अभद्रता करते हुए मजदूरों के साथ लाठी डंडों से मारपीट कर दी।  मारपीट में वहां काम करने वाले दो मजदूर गंभीर रूप से  घायल हो गए। सूचना पर घटना स्थल पर पहुंचे फैक्टरी मालिक  ने थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है।

देहात थाना प्रभारी एमके उपाध्याय ने कहा कि तहरीर के आधार पर पुलिस ने डिप्टी रेंजर अशोक कुमार, वन दरोगा गौरव व सरिता और एक अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल पुलिस नामजद आरोपियों की तलाश में जुट गई है। बताते चलें की पूर्व में अशोक कुमार का आपराधिक इतिहास रहा है लोनी में वन महोत्सव के दैरान फायरिंग को लेकर इसका ट्रांसफर हापुड़ कर  दिया गया था वन विभाग के रेंजर अशोक कुमार गुप्ता ने अब तक 37 साल की सेवा की है और सेवानिवृत्ति के ढाई साल बाकी हैं। इसमें से गाजियाबाद जिले में 30 साल का काम पूरा हो चुका है। जबकि मानक के मुताबिक जिले में ही नहीं बल्कि संभाग में भी सात साल से ज्यादा कोई काम नहीं कर सकता है. विभाग में उनकी ऐसी पकड़ है कि पदोन्नति के बाद भी उन्होंने तबादला नहीं होने दिया। बीच में उनका तबादला हापुड़ और नोएडा कर दिया गया, वहां  जिले में 30 साल की नौकरी पूरी कर ली है. इस दौरान वह कई बार विवादों में भी रह चुके हैं। पिछले साल उसके खिलाफ कविनगर थाने में 307 का मामला दर्ज किया गया था, जिसे बाद में अपनी ऊंची पकड़ के चलते हर बार बच जाता है  आरोप है कि इसने पिस्टल की बट से उसे घायल कर दिया। आरा मशीन के लाइसेंस के हस्तांतरण को लेकर विवाद हुआ था। गुप्ता  पर रूपये  के लेन-देन का भी आरोप लगाया गया था। विचारणीय है की ऐसे क्रिमिनल मानसिकता के व्यक्ति को किसी जिम्मेदार पद पर सस्पेंसन के बाद बार बार कैसी तैनाती हो जाती है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities