ब्रेकिंग
Siddharthnagar: बिजली के खंभे से गिरने पर विद्युत कर्मचारी की मौत, नाराज लोगों ने दिया धरनाAuraiya: राजा भैया ने किया रोड शो, विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं में भरा जोशइस शहर को कहा जाता है विधवा महिलाओं की घाटीAgra: बच्चों से भरी वैन के गड्ढे में गिरने से हुआ हादसाJhansi: युवा मोर्चा की जिला झाँसी महानगर कार्यसमिति की बैठक हुई सम्पन्नHamirpur: NH34 पर अतिक्रमण हटाने पहुंची कंपनी, विधायक ने मांगी मोहलतAyodhya: पांचवे दीपोत्सव को भव्य बनाने के लिए अवध यूनिवर्सिटी में तैयारी शुरूEtah: 100 प्रतिशत टीकाकरण करवा कर ग्रामीणों ने की मिसाल कायमMahoba: झाड़ियों में लावारिस पड़ा मिला नवजात शिशु, गांव में एक साल के अंदर यह दूसरी घटनाMahoba: सिंचाई विभाग का अजब कारनामा, मृतक किसानों के खिलाफ पुलिस को दी तहरीर

हिंदू और मुस्लिम एक ही वंश के हैं और भारत का प्रत्येक नागरिक एक हिंदू है: RSS

मुंबई में  पुणे स्थित ग्लोबल स्ट्रेटेजिक पॉलिसी फाउंडेशन की तरफ से हो रहे एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कि कहा कि हिंदू और मुस्लिम एक ही वंशज के हैं और भारत का हर नागरिक एक हिंदू है। बुद्धिमान मुस्लिम नेताओं को हठधर्मियों के विरुद्ध मजबूती से खड़ा होना चाहिए। वहीं, उन्होंने मुस्लिम बुद्धिजीवियों से भी मुलाकात की।

इस दौरान उन्होंने कहा कि भारतीय शब्द जन्मभूमि पूर्वजों और भारतीय संस्कृति के समान था। यह अन्य भावों का तिरस्कार नहीं है। हमें भारतीय प्रभुता प्राप्त करने के बारे में सोचना होगा, न कि मुस्लिम प्रभुत्व के बारे में। उन्होंने कहा कि इस्लाम आक्रमणकारियों के साथ भारत आया। यह वृत्तांत है और इसे ऐसे ही बताया जाना चाहिए। बुद्धिमान मुस्लिम नेताओं को व्यर्थ मसलों का प्रतिरोध करना चाहिए और कट्टरपंथियों के विरुद्ध मजबूती से खड़ा होना चाहिए। जितनी शीघ्र हम ऐसा करेंगे, हमारी संस्था को उतनी ही कम क्षति पहुंचेगी।

उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म के लोग कभी किसी से बैर नहीं रखते। वो सभी का कल्याण सोचते हैं। इसलिए दूसरे के मत का यहां अपमान नहीं हो सकता। जो ऐसा सोचता है, वह धर्म से चाहे कुछ भी हो, वह हिंदू है। भारत महाशक्ति बनेगा, लेकिन वो किसी को डराएगा नहीं। भारत विश्वगुरु के रूप में महाशक्ति बनेगा। संघ प्रमुख भागवत ने कहा कि जो लोग देश को तोड़ना चाहते हैं, वे यह कहने का प्रयास करते हैं कि ‘हम एक साथ नहीं हैं, हम अलग हैं’। ऐसे लोगों के भड़कावे में कभी नहीं आना चाहिए और किसी के जैसा नहीं बनना चाहिए। हम एक राष्ट्र हैं। हम एक राष्ट्र के रूप में संगठित रहेंगे। 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities