ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट के इस जज ने नूपुर शर्मा को सुनाई खरी-खरी, याचिका खरिज कर कहा टीवी में जाकर देश से मांगे माफी‘चायवाले’ ने पवार के ‘पॉवर’ और ठाकरे के ‘इमोशन’ का निकाला तोड़, ‘ऑटो चालक’ को इस वजह से बनाया महाराष्ट्र का चीफ मिनीस्टरउदयपुर घटना को लेकर कानपुर के मुस्लिम संगठन के साथ अन्य लोगों में उबाल, कन्हैयालाल के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलवाए ‘सरकार’महाराष्ट्र में फिर से बड़ा उलटफेर, शिंदे के साथ फडणवीस लेंगे शपथBIG BREAKING – देवेंद्र फडणवीस नहीं, एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, शाम को अकेले लेंगे शपथशिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहींPanchang: आज का पंचांग 30 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयMonsoon Update: गाजियाबाद और आसपास के जिलों को करना होगा बारिश का इंतजार, पूर्वी यूपी में हल्की बारिश शुरूउदयपुर हिंसा का सायां यूपी तक पहुंचा, यूपी के मेरठ जोन में अलर्ट, सोशल मीडिया पर खाास नजरCorona Update: कोरोना ने बढ़ाई देश की टेंशन, एक ही दिन में बढ़ 25 फीसदी मरीज बढ़े, 30 लोगों की मौत

गाजियाबाद में पिता ने ईंट ढोकर बच्चे को पढ़ाया, अब बेटा बना 10वीं टॉपर, पिता का सिर गर्व से हुआ उंचा

यूपी बोर्ड दसवीं में गाजियाबाद टॉप करने वाले छात्र विकास कुमार के पिता राकेश मजदूरी (बेलदारी) करते हैं। कोरोना महामारी से पहले वो दर्जी का काम करते थे, लेकिन लॉकडाउन लगने के कारण उनका काम चौपट हो गया। परिवार की आर्थिक स्थिति को संभालने के लिए उन्होंने मजदूरी शुरू कर दी। आज वो सिर पर ईंट-गारा ढोते हैं। कई बार ऐसा भी होता है जब उन्हें काम नहीं मिल पाता। इसके बावजूद वो हिम्मत न हारकर अपने एक बेटे और दो बेटियों को पढ़ा रहे हैं।

महर्षि दयानंद इंटर कॉलेज के छात्र विकास ये कहने में जरा भी शर्म महसूस नहीं करते कि उनके पिता चिनाई मजदूर हैं। विकास की इच्छा पुलिस सब इंस्पेक्टर बनने की है। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। इसलिए उन्होने कभी ट्यूशन का भी नहीं सोचा। स्कूल के अलावा घर पर ही खुद से पढ़ाई की। स्कूल में छात्रों की अटेंडेंस को लेकर स्कूल मैनेजमेंट सख्त रहता है, इसलिए स्कूल मिस करने का कभी सवाल ही नहीं उठा।

विकास के मुताबिक कोरोना में जब स्कूल बंद हो गए तो उन्हें पढ़ाई की दिक्कत आई। मोबाइल खरीदने के लिए पैसे नहीं थे। पिता से कहा तो उन्होंने जैसे-तैसे पुराना एंड्राइड फोन खरीदकर विकास को दिया। जिसके बाद उसकी ऑनलाइन पढ़ाई चालू हो पाई। मोबाइल को बच्चे गेम्स के रूप में यूज करते हैं, लेकिन उन्होंने इसको अपनी पढ़ाई का हथियार बना लिया। गूगल और यूट्यूब की मदद से हर विषय पर अपनी पकड़ बनाई। कुछ नोट्स ऑनलाइन देखे और उनका रिवीजन किया।

यूपी बोर्ड हाईस्कूल के रिजल्ट में जब विकास जिले का टॉपर बना तो उस वक्त उसके पिता राकेश कुमार एक घर में मजदूरी कर रहे थे। विकास ने फोन करके पिता को खबर दी तो उनकी खुशी की ठिकाना नहीं रहा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities