ब्रेकिंग
Auraiya: बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, अधेड़ हुआ घायलAuraiya: सवारियों से भरी बस खाई में गिरी, 20 यात्री हुए घायलAgra: बेटों ने नहीं दिया सम्मान तो पिता ने संपत्ति की डीएम के नामHamipur: हाईवे पर हुई दो दुर्घटनाएं, तीन लोग हुए घायलHamirpur: ट्रक ने बाइक सवार पिता-पुत्र को रौंदा, मौके पर हुई मौतHamirpur: विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरु, जनपद को नौ जोन और 42 सेक्टर में बांटा गयामहोबा दौरे पर प्रियंका गांधी, प्रतिज्ञा रैली को करेंगी सम्बोधितHamirpur: शहर के बीच जेल तालाब में आग लगने से हड़कंप, बड़ा हादसा टलाJaunpur: पुलिस चौकी में घुसा ट्रक, हादसे में 1 की मौत, एक पुलिसकर्मी घायलडेस्टिनेशन वेडिंग के लिए ये हैं सबसे पॉपुलर स्थान

Mahoba: सहस्त्र श्री गोवर्धन नाथ जी महाराज के परिसर में श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़, महिलाओं ने की परिक्रमा

सौरभ तिवारी, महोबा

महोबा (चरखारी) मेला सहस्त्र श्री गोवर्धन नाथ जी महाराज के परिसर में देवोत्थान एकादशी के अवसर पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। इस दौरान कार्तिक स्नान करने वाली महिलाओं एवं भक्तों ने दिवारी नृत्य का प्रदर्शन किया। वहीं कीर्तनों के माध्यम से कृष्ण और गोपी का हास परिहास के दृश्य के साथ भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं पर हो रही रासलीला और दूसरी तरफ विष्णु महायज्ञ, श्रीमद् भागवत संगीतमय कथा का रसपान कर भक्तों ने आनंद लिया। वहीं कथा व्यास देवी निधि प्रिया कौशिक जी द्वारा निर्मित धार्मिक वातावरण एवं कार्तिक स्नान करने वाली महिलाओं ने कथा सुनी। वहीं लंबी कतारों में भगवान श्री गोवर्धन नाथ जी के साथ 108 श्रीकृष्ण मंदिरो की परिक्रमा कर रही महिलाएं एक अनुपम, अलौकिक, विहंगम और दृश्य जो स्वमेव ही चरखारी नरेश सर मलखान सिंह जूदेव के द्वारा सन 1883 में प्रारंभ किए गए। इस ऐतिहासिक मेले के धार्मिक महत्व का प्रतिपादन करने के साथ इस मेले के प्रति लोगों के धार्मिक आस्था का भी प्रमाण दे रहा है। इस धार्मिक मेले का आयोजन नगर पालिका के द्वारा किया जाता है। भाजपा जिला अध्यक्ष जितेंद्र सिंह सेंगर एवं नगर पालिका अध्यक्ष मूलचंद अनुरागी द्वारा इस मेले के धार्मिक ऐतिहासिक एवं पौराणिक महत्व को बताते हुए बताया गया कि बुंदेलखंड के कश्मीर चरखारी को भगवान श्री कृष्ण के ऐसे वृहद एवं अनुपम धार्मिक आयोजनों की वजह से वृंदावन कहा गया है। बताते हैं कि यह धार्मिक मेला सहस्त्र श्री गोवर्धन नाथ जी विगत 139 वर्ष से लग रहा है। संपूर्ण बुंदेलखंड का यह प्राचीनतम मेला है। इस मेले के प्रति लोगों में अपार उत्साह के साथ धार्मिक आस्था भी जुड़ी हुई है।

 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities