ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

नमाज के बाद प्रयागराज में रिपीट हुआ कानपुर का प्रयोग, फायरिंग में घायल हुए डीएम और फूंका पीएसी का वाहन, उपद्रवियों के कहर से थर्राए कई शहर

प्रयागराज। बीते 3 जून को कानपुर में जबरदस्त हिंसा हुई थी। पुलिस ने कड़ी कार्रवाई करते हुए 55 से ज्यादा दंगाईयों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है तो वहीं आज शुक्रवार को पूरे शहर को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। यही वजह रही कि, यहां महौल शांतिपूर्ण रहा, जबकि प्रयागराज में उपद्रव हुआ। यहां पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो गलियों में नाबालिगों के ढाल बनाकर ठीक वैसे ही बवाल किया गया जैसे कानपुर में किया गया था। पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ती रही और गोली मारने की चेतावनी देती रही लेकिन उपद्रवी पत्थरबाजी करते रहे। इस दौरान डीएम और एडीजी प्रेम प्रकाश का गनर पत्थर लगने से घायल हो गए।

डीएम संजय कुमार खत्री और एसएसपी अजय कुमार जुमे की नमाज से पहले ही चौक जामा मस्जिद के बाहर पहुंच गए थे। इसके बाद भी अटाला चौराहे से बवाल शुरू हो गया। अटाला चौराहे पर प्रदर्शन के बाद पुलिस ने लाठी लेकर खदेड़ा तो गली से कुछ लड़कों ने पत्थर फेंके। अधिकारियों ने खुद पत्थरबाजों को रोकने के लिए आगे आए। इसमें डीएम, आईजी राकेश सिंह और आरपीएफ के इंस्पेक्टर मनीष कुमार के साथ ही एडीजी प्रेम प्रकाश क गनर घायल हो गए।

आला अधिकारियों के पहुंचने के बाद भी उपद्रवी नहीं मानें और आगजनी कर दी। ट्राली को पलटकर आग के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने उपद्रवियों को रोकने के लिए हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले छोड़े। डीएम, एसएसपी और मीडियाकर्मियों को भी पत्थर लगे हैं। डेढ़ घंटे से अधिक समय तक पत्थरबाजी होती रही। ऐसा लग रहा था कि पहले से छतों पर पत्थर रखे गए थे। पुलिस अधिकारियों के अनुसार बवाल करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। वीडियो से पहचान कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

प्रयागराज में प्रदर्शनकारियों ने पीएसी का ट्रक फूंक डाला। कई जगहों पर हालात काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इसके अलावा यूपी के सहारनपुर, बाराबंकी, मुरादाबाद, उन्नाव, देवबंद समेत कई शहरों में जुमे की नमाज के बाद प्रदर्शन हुए। वहीं कानपुर में महौल शांत रहा। जुमे की नमाज के बाद लोग अपने-अपने घर चले गए। यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। पांच हजार से ज्यादा पुलिसबल के जवानों को तैनात किया गया था। द्रोन से भी नजर रखी जा रही थी।

दिल्ली में जामा मस्जिद में जुमे की नमाज के लिए करीब 1500 लोग जमा हुए थे। नमाज के बाद करीब 300 लोग बाहर आए और नूपुर शर्मा के खिलाफ नारेबाजी की। जामा मस्जिद के शाही इमाम ने कहा कि हमारी तरफ से प्रोटेस्ट का कोई कॉल नहीं था। नमाजी नमाज पढ़कर बाहर निकले और अचानक प्रदर्शन करने लगे। हम नहीं जानते कि विरोध करने वाले कौन है। मुझे लगता है कि वे एआईएमआईएम के सदस्य हैं या ओवैसी के आदमी हैं।

कर्नाटक के बेलगावी में शुक्रवार को फोर्ट रोड पर एक मस्जिद के पास बिजली के तार से भाजपा की नूपुर शर्मा का पुतला लटका मिला। उन्होंने कहा कि जैसे ही इस मुद्दे ने लोगों में आक्रोश पैदा किया, पुलिस ने नगर निगम के साथ मिलकर इसे तुरंत हटा दिया।

कश्मीर के श्रीनगर और कई अन्य शहरों में नूपुर शर्मा की टिप्पणी के खिलाफ नारेबाजी की गई। यहां भी प्रदर्शन नमाज के बाद ही शुरू हुए। कई पोस्टर भी दिखे, जिसमें पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने वाले का सिर काटकर लाने की बात भी कही गई।

कोलकाता और हावड़ा में प्रदर्शनकारियों ने सड़कों पर जमकर नारेबाजी की। लोगों ने कहा कि पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाला का बुरा हश्र करना चाहिए। भीड़ में शामिल लोगों ने दुकानों को बंद कराने को लेकर बवाल भी किया। जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस के गोले बरसाने पड़े। हालांकि, प्रदर्शन उग्र होता गया। प्रदर्शनकारियों को संभालने के लिए पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी।

मध्यप्रदेश में भी नमाज के बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने नूपुर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर नारेबाजी और प्रदर्शन किया। नूपुर शर्मा को मिल रही धमकियों पर सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा है कि भारत हिंदुओं का है। उन्होंने कहा- इन अविश्वासियों ने हमेशा ऐसा ही किया है। इनका कम्युनिस्ट इतिहास है। जैसे कमलेश तिवारी ने कुछ कहा तो वह मारा गया, किसी और (नूपुर शर्मा) ने कुछ कहा और उन्हें धमकी मिली। भारत हिंदुओं का है और सनातन धर्म यहां जिंदा रहेगा और यह हम लोगों की जिम्मेदारी है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities