बड़ी ख़बरें
एक दुनिया का सबसे बड़ा ग्लोबल लीडर तो दूसरा देश का सबसे पॉपुलर पॉलिटिशियन, पर दोनों ‘आदिशक्ति’ के भक्त और 9 दिन बिना अन्न ‘दुर्गा’ की करते हैं उपासना, जानें पिछले 45 वर्षों की कठिन तपस्या के पीछे का रहस्यअब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कप

जम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’

जम्मू। आतंकवाद पर जम्मू-कश्मीर सरकार ने अब तक का सबसे बड़ा प्रहार किया है। कश्मीर में हिन्दुओं की हत्या में शामिल आतंकवादी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है। इनमें कश्मीर यूनिवर्सिटी के दो प्रोफेसर भी शामिल हैं। सरकार ने ये कार्रवाई भारतीय संविधान के 311 के तहत की है।

जम्मू-कश्मीर में जहां सेना का ऑपरेशन ऑलआउट जारी है तो वहीं सरकार भी देश विरोधी तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करनी शुरू कर दी है। सरकार को खुफिया एजेंसियों और कानूनी व्यवस्था बनाने वाली एजेंसियों की तरफ से बताया गया था कि ये कर्मचारी राज्य सुरक्षा के लिए खतरा हैं और राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पाए गए हैं। ऐसे में सरकार ने इन्हें नौकरी से बर्खास्त कर दिया।

सरकारी सेवा से बाहर किए गए लोगों में कश्मीर विश्वविद्यालय के कंप्यूटर साइंस विभाग में वैज्ञानिक डॉ मुहीत अहमद भट, कश्मीर विश्वविद्यालय के मैनेजमेंट स्टडी विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर माजिद हुसैन कादरी, जम्मू-कश्मीर उद्यमिता विकास संस्थान में प्रबंधक आइटी सैयद अब्दुल मुइद और ग्रामीण विकास निदेशालय कश्मीर में डीपीओ असबा-उल-अरजामंड खान शामिल हैं।

खूफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के बाद सरकार ने 30 जुलाई 2020 को एक कमेटी का गठन किया था। कमेटी की टीम ने बर्खास्त किए कर्मचारियों की जांच की। जांच में पाया गया कि, ये सभी लोग आतंकवादियों को मदद करते थे। जिसमें आतंकवादी बिट्टा कराटे की पत्नी असबा का भी नाम था। बिट्टा कराटे की पत्नी असबा ने पासपोर्ट हासिल करने के लिए गलत जानकारी दी।

असबा का विदेशी लोगों के साथ संपर्क रहा, जो भारतीय सुरक्षा के लिए खतरा थे। वे लोग आईएसआई के पेरोल पर काम कर रहे थे। असबा भारत विरोधी गतिविधियों को जम्मू-कश्मीर में चलाने के लिए धनराशि जुटाने का काम भी करती थी। असबा पर पुलिस के अलावा सेना के खूफिया एजेंसियां नजर बनाए हुए थीं। असबा के खिलाफ जांच एजेंसियों के पास पर्यापत साक्ष्य मिजे हैं।

इसी तरह से मुहीत अहमद भट कश्मीर विश्वविद्यालय में अलगाववादी-आतंकवादी एजेंडा चला रहे थे और पाकिस्तान प्रायोजित कट्टरवाद के लिए विद्यार्थियों को प्रोत्साहित कर रहे थे। मुहीत अहमद भट, युवाओं के अंदर भारत के खिलाफ अलगाव पैदा कर रहे थे। इसके अलावा मुहीत अहमद भट पाकिस्तानी आतंकवादियों की एक स्लीपर सेल की तरह काम कर रहे थे। जल्द ही पुलिस मुहीत अहमद भट के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सकती है।

कश्मीर विश्वविद्यालय में माजिद हुसैन कादरी जो सीनियर असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर तैनात थे, का संबंध लंबे समय तक आतंकी संगठनों के साथ रहा है, जिसमें लश्कर-ए-तैयबा भी शामिल है। उनके खिलाफ जन सुरक्षा कानूनी के तहत मुकदमा दायर किया गया था और विभिन्न आतंकी संबंधी मामलों में अलग-अलग धाराओं के तहत एफआईआर भी दर्ज हैं।

जम्मू कश्मीर उद्यमिता विकास संस्थान में प्रबंधक आईटी सैयद अब्दुल मुइद की भूमिका पांपोर के सेमपोरा में संस्थान कांपलेक्स पर हुए हमले में भी रही है। संस्थान में रहते हुए उनकी अलगाववादी ताकतों के साथ हमदर्दी भी थी। अब्दुल पर खूफिया एजेंसियों की कई वर्षों से नजर थी। उनकी हर गतिविधि पर एजेंसियां नजर बनाए हुए थीं। एजेंसियों ने इनके खिलाफ साक्ष्य एकत्र किए और सरकार के सौंपी।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities