ब्रेकिंग
सुप्रीम कोर्ट के इस जज ने नूपुर शर्मा को सुनाई खरी-खरी, याचिका खरिज कर कहा टीवी में जाकर देश से मांगे माफी‘चायवाले’ ने पवार के ‘पॉवर’ और ठाकरे के ‘इमोशन’ का निकाला तोड़, ‘ऑटो चालक’ को इस वजह से बनाया महाराष्ट्र का चीफ मिनीस्टरउदयपुर घटना को लेकर कानपुर के मुस्लिम संगठन के साथ अन्य लोगों में उबाल, कन्हैयालाल के हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दिलवाए ‘सरकार’महाराष्ट्र में फिर से बड़ा उलटफेर, शिंदे के साथ फडणवीस लेंगे शपथBIG BREAKING – देवेंद्र फडणवीस नहीं, एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, शाम को अकेले लेंगे शपथशिंदे बने मराठा राजनीति के ‘बाहुबली’ जानिए देवेंद्र भी ‘समंदर’ से क्यों कम नहींPanchang: आज का पंचांग 30 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयMonsoon Update: गाजियाबाद और आसपास के जिलों को करना होगा बारिश का इंतजार, पूर्वी यूपी में हल्की बारिश शुरूउदयपुर हिंसा का सायां यूपी तक पहुंचा, यूपी के मेरठ जोन में अलर्ट, सोशल मीडिया पर खाास नजरCorona Update: कोरोना ने बढ़ाई देश की टेंशन, एक ही दिन में बढ़ 25 फीसदी मरीज बढ़े, 30 लोगों की मौत

jaunpur: निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज के निर्माण का कार्य बजट के अभाव में हुआ बंद

बिरेंन्द्र सिंह, जौनपुर

jaunpur: निर्माणाधीन उमानाथ सिंह राजकीय मेडिकल कॉलेज का निर्माण कार्य बंद हो गया। जिसमें श्रमिकों का करोड़ों रुपए का पारिश्रमिक भुगतान नहीं किया गया। उधर शासन की आरे से स्वीकृति 80 करोड़ रूपये का बजट भी जिम्मेदारों की लापरवाही से अधर में लटक गया है। बजट के अभाव में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज के निर्माण बंद होने से एडमिन भवन, ऑडिटोरियम, टीचिंग रूम, एकेडमिक, प्लेग्राउंड, गेस्ट हाउस, जूनियर सीनियर रेजिडेंस बॉयज एंड गर्ल्स हॉस्टल समेत 32 भवन आधे अधूरे बने पड़े हैं।

श्रमिकों ने करोड़ों रुपए पारिश्रमिक बकाया होने के चलते काम का बहिष्कार कर दिया है। श्रमिक भुगतान के लिए निर्माण एजेंसी के अफसरों पर चक्कर लगा रहे हैं और ठेकेदार कंक्रीट के बकाए के भुगतान के लिए निर्माण एजेंसी के जिम्मेदारों से नोकझोंक भी किया। विगत महीने शासन ने मेडिकल कालेज के निर्माण के लिए 80 करोड़ रूपये का बजट स्वीकृत की थी, लेकिन कालेज निर्माण एजेंसी का कहना है कि यह बजट अभी तक प्राप्त नहीं हो सका है, जिसके चलते श्रमिकों व ठेकेदारों का भुगतान करोड़ों रुपए लटका हुआ है। निर्माण कार्य बन्द होने से भवन अधर में लटक गया है।

बता दें कि चुनावी आचार संहिता लगते ही पूरी तरह से काम बन्द हो गया। निर्माण इकाई राजकीय निर्माण निगम ने टेन्डर टोकन पर टाटा निर्माण एजेंसी को निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी थी, लेकिन टाटा निर्माण एजेंसी को भुगतान नहीं मिला। जिसके चलते वह भी श्रमिकों के भुगतान में हाथ खड़े कर दिए। जिसके कारण श्रमिकों के खाने के लाले पड़ गए। उधर निर्माण कार्य पूरी तरह से ठप होने से ठेकेदारो ने आक्रोश जताते हुए धरने की चेतावनी दी। आरके सिंह एई, राजकीय निर्माण निगम ने बताया कि बजट नहीं मिलने के चलते निर्माणाधीन मेडिकल कालेज का निर्माण कार्य बंद हुआ है। शासन ने 80 करोड़ का बजट स्वीकृत किया था, लेकिन प्रधानाचार्य की लापरवाही से वह अभी तक नहीं मिल पाया है। बजट नहीं मिलने से टाटा निर्माण एजेंसी ने श्रमिकों का भुगतान नहीं किया है, जिसके चलते समस्या खड़ी हो गई।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities