ब्रेकिंग
खनन माफिया हाजी इकबाल और उसके बहनोई दिलशाद पर योगी सरकार ने कसा शिकंजा, बुलडोजर और संपत्ति पर एक्शन के बाद पुलिस ने किया अब तक का सबसे बड़ा ‘प्रहार’5 लाख की सुपारी लेकर इन खूंखार शूटर्स ने मध्य प्रदेश की पूजा मीणा का किया मर्डर, पति ने हत्या की पूरी फिल्मी कहानी बयां की तो ये चार लोग गदगदडेढ़ करोड़ के जेवरात मैंने नहीं किए पार प्लीज छोड़ दे ‘साहब’ पर नहीं माना थानेदार और थाने में मजदूर की दर्दनाक मौतAzadi ka Amrit Mahotsav : मरी नहीं जिंदा है दूसरा ’जलियां वाला बाग’ की गवाह ‘इमली’ जिस पर एक साथ 52 क्रांतिकारियों को दी गई थी फांसीSawan Special Story 2022 : यूपी के इस शहर में भू-गर्भ से प्रकट हुए नीलकंठ महादेव, महमूद गजनवी ने शिवलिंग पर खुदवा दिया ‘लाइलाह इलाल्लाह मोहम्मद उर रसूलल्लाह‘बीजेपी नेता बीएल वर्मा के जन्मदिन पर पीएम मोदी ने खास अंदाज में दी बधाईजनिए किस मामले में मंत्री राकेश सचान पर कोर्ट ने फैसला किया सुरक्षित, सपा ने ट्वीटर पर क्यों लिखा ‘गिट्टी चोर’देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़, वकालत से लेकर सियासत तक जाट नेता का ऐसा रहा सफरबीच सड़क पर आपस में भिड़े पुलिसवाले और एक-दूसरे को जड़े थप्पड़ ‘खाकीधारियों के दगंल’ की पिक्चर हुई रिलीज तो मच गया हड़कंपनदी के बीच नाव पर पका रहे थे भोजन तभी फटा गैस सिलेंडर, बालू के अवैध खनन में लगे पांच मजदूरों की जलकर दर्दनक मौत

‘40 कसाईयों’ से पाकिस्तान से ऑनलाइन ली थी गला काटने की ट्रेनिंग, 300 नूपुर समर्थकों का सिर धड़ से अलग का मिला था टारगेट

उदयपुर। कन्हैयालाल की हत्या के बाद एनआईए को अहम जानकारी मिली है। जांच में पता चला है कि हत्या के पीछे पाकिस्तानी संगठन दावत-ए इस्लामी का हाथ था। एजेंसी को कट्टरपंथ के जरिए ब्रेनवाश कर हत्या की साजिश रचने के सबूत मिल रहे हैं। साथ ही पाकिस्तान से बैठकर वहां के आतंकवादियों ने 40 लोगों की एक टीम भी तैयार की थी, ताकि नूपुर शर्मा का समर्थन करने वाले लोगों का सिर कलम किया जा सके। इन्हें 300 लोगों का सिर धड़ अगल करने का टारगेट दिया गया था।

टेलर का गला रेतकर की थी हत्या
28 जून को उदयपुर में आरोपी रियाज और गौस ने टेलर कन्हैयालाल की हत्या कर दी थी। कन्हैया का हत्या करने के बाद फरार हुए आरोपियों ने पहले वीडियो बनाकर वायरल किया और फिर अजमेर की ओर भागे। उन्हें रास्ते में राजसमंद में गिरफ्तार किया गया। एनआईए की टीम उनसे जयपुर में पूछताछ कर रही है। हत्याकांड में शामिल कुछ और लोगों को दबोचा गया है और पूरे नेटवर्क को खंगाला जा रहा है। एनआईए की जांच में सामने आया है कि, पाकिस्तानी संगठन दावत-ए-इस्लामी अजमेर में आपत्तिजनक धार्मिक किताबों की बिक्री भी करवा रहा था। वहीं, व्हाट्सऐप के जरिये लोगों को तालिबानी तरीके से सिर कलम करने की ट्रेनिंग दी जाती थी।

इस तरह से हुआ खुलासा
एनआईए और एटीएस ने यह खुलासा आतंकी रियाज और गौस की मोबाइल से मिले पाकिस्तान के 10 लोगों के नंबरों की जांच के बाद किया है। एनआईए की प्रारंभिक जांच में यह बात भी सामने आई है कि पाकिस्तान के संगठन दावत-ए-इस्लामी ने राजस्थान के छह जिलों में नूपुर शर्मा के समर्थकों को सबक सिखाने का मिशन तय किया था। इन हत्याओं के जरिए पूरे देश में खौफ पैदा करने की साजिश थी। सूत्रों की मानें तो एनआईए की जांच में सामने आया है कि, 40 कसाईयों के टारगेट में 300 लोग थे, जिनका सिर कमल करने का इन्हें काम सौंपा गया था।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities