ब्रेकिंग
गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकीEmergency Landing: दिल्ली एयरपोर्ट पर स्पाइस जेट के विमान की इमरजेंसी लैंडिंग, प्लेन में भरा धुआं

कानपुर हिंसा का ये निकला मास्टरमाइंड, यूपी एसटीएफ ने किया अरेस्ट

कानपुर। जुमे की नमाज के बाद कानपुर में हिंसा भड़क गई थी। उपद्रवियों ने जमकर पथराव के साथ ही फायरिंग की और बमबाजी कर पूरे इलाके में सनसनी मचा दी। पुलिस ने आरोपियों को खदेड़ते हुए कईयों को दबोच लिया था। बेकनगंज पुलिस ने हिसा के मास्टरमाइंड हयात जफर हाशमी समेत 40 पर मुकदमा दर्ज करते हुए 36 लोगों को धरदबोचा। हयात जफर हाशमी को यूपी एसटीएफ ने लखनऊ से अरेस्ट किया है। हालांकि कानपुर कमिश्नरेट के अधिकारी अभी उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं कर रहे हैं।

कौन है हयात जफर हाशमी
हयात जफर हाशमी मौलाना मोहम्मद अली (एमएमए) जौहर फैंस एसोसिएशन का अध्यक्ष है। बताया जा रहा है कि, बीजेपी प्रवक्ता की तिपण्णी के बाद आरोपी ने शुक्रवार को बंद का आव्हन किया था। कई इलाकों में पोस्टर लगवाए थे। आरोप है कि, जुमे की नमाज के बाद हयात जफर हाशमी ने लोगों को भड़काया। जिसके चलते शहर में हिंसा भड़की। बवाल के बाद से वह फरार हो गया था और पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। यूपी एटीएफ की टीम ने शातिर को लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया है।

सीएए-एनआरसी में आया था नाम
बीते वर्षों में कानपुर में एनआरसी और सीएए को लेकर बवाल में भी उसकी भूमिका सामने आई थी। 21 अक्टूबर को उसने मूलगंज से मेस्टन रोड, शिवाला बाजार, रामनारायण बाजार होते हुए फूलबाग तक जुलूस ए मोहम्मदी निकाला था, जिसमें उसपर मुकदमा भी दर्ज हुआ था। बताया जा रहा है कि सीएए के खिलाफ हयात जफर हाशमी ने महिलाओं को भड़काया और पार्क में धरने पर बैठाया था। पुलिस ने तब हयात जफर हाशमी पर कार्रवाई की थी।

मां और बहन को उकसाकर डीएम कार्यालय भेजा
कुछ साल पहले उसने मकान खाली कराने के लिए अपनी मां और बहन को उकसाकर डीएम कार्यालय भेजा था, जहां उसके कहने पर मां-बेटी ने मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली थी। दोनों को गंभीर हालत में एलएलआर अस्पताल लाया गया था। उपचार के दौरान मां-बेटी की मौत हो गई थी। हयात जफर हाशमी घर पर राशन कोटे की दुकान चलाता है और इंटरनेट मीडिया के सोशल प्लेटफार्म पर सक्रिय रहता है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities