बड़ी ख़बरें
नहीं रहे शेयर मार्केट किंग झुनझुनवाला, 5 हजार की रकम से खड़ा किया था करोड़ों का साम्राज्य10 साल की बेटियों ने लिखी गुमनाम नायिका पर किताब, सीएम शिवराज ने किया विमोचनजेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाश

लखनऊ एयरपोर्ट से दबोचा गया कानपुर हिंसा का आरोपी, 20 साल के अंदर हाजी वसी इस तरह से बना अरबपति

कानपुर। तीन जुन को कानपुर में हुई हिंसा के आरोपी हाजी वसी को पुलिस ने लखनऊ एयरपोर्ट से दबोच लिया। फंडिंग में आने के बाद से हाजी व उसका बेटा फरार चल रहे थे। पुलिस ने बेटे को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। सटीक सूचना पर शातिर को दबोच लिया। वसी 20 साल के अंदर अरबों का मालिक बन गया था। उसने गैर कानूनी तरीके से शहर में इमारतें खड़ी करवाई और खादी की मदद से पैसों से अपनी तिजोरी भरी।

उपद्रवियों ने किया था पथराव और आगजनी
जुमे की नमाज के बाद कानपुर के नई सड़क, चंद्रेश्वर हाते में उपद्रवियों ने हिंसा की थी। उपद्रवियों ने पुलिस के अलावा आमलागों पर पत्थरबाजी, फायरिंग और बमबाजी की थी। जिसके चलते पुलिस समेत कई लोग घायल हुए थे। पुलिस ने हिंसा पर किसी तरह से काबू किया और बेकनगंज थाने में तीन एफआईआर दर्ज की। हिंसा के मुख्य आरोपी हयात आसमी समेत 40 से ज्यादा लोगों को जेल भेजा। इसके अलावा बाबा बिरयानी का नाम भी हिंसा में आया तो उसे भी पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा।

हिंसा के लिए क्राउड फंडिंग की थी
हिंसा की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया था। एसआईटी को साक्ष्य मिले की हिंसा भड़काने के लिए बिल्डर हाजी वसी और उसके बेटे अब्दुल रहमान ने आरोपियों को फंडिंग की थी। दोनों ने हिंसा के लिए क्राउड फंडिंग की थी। इसके बाद पुलिस वसी और उसके बेटे के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। केस दर्ज होने के बाद दोनों अंडरगाउंड हो गए थे। दो दिन पहले पुलिस ने आरोपी के बेटे को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसके साथ ही हाजी वसी के घर कुर्की करने की प्रक्रिया शुरू करते हुए कोर्ट से एनबीडब्ल्यू लिया था।

दिल्ली के मरकज में छिपा हुआ वसी
हाजी की तलाश में लगी सर्विलांस टीम ने मंगलवार सुबह लखनऊ एयरपोर्ट के पास से हाजी वसी को गिरफ्तार कर लिया। जांच में पता चला कि कानपुर से भागने के बाद वह दिल्ली के मरकज में छिपा हुआ था। इसके बाद अगल-अलग ठिकाने बदलता रहा और फोन स्विच ऑफ कर लिया था। कानपुर पुलिस ने लखनऊ पुलिस की मदद से वसी को दबोच लिया। पुलिस उसे लेकर कानपुर आ रही है और उससे पूछताछ कर हिंसा के राज उगलवाएगी।

कम समय में अकूत संपत्ति का मालिक बन गया
हाजी वसी ने अवैध इमारतें खड़ी करके अकूत संपत्ति कमाई है। आज से 20 साल पहले हाजी वसी सामान्य घर से था, लेकिन महज 20 साल में ही अरबों का मालिक बन गया। बिल्डर हाजी वसी ने कानपुर के चमनगंज, बेकनगंज, नई सड़क समेत अन्य मुस्लिम इलाके में सैकड़ों बिल्डिंगें बनाई हैं। करीब एक दर्जन से ज्यादा बिल्डिंगों में काम चल रहा है। मानकों के विपरीत और बगैर नक्शा पास कराए यह सभी बिल्डिंगें खड़ी करके कम समय में अकूत संपत्ति का मालिक बन गया।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities