ब्रेकिंग
नवाबगंज पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत तो पिता ने बेटे की खुद शुरू की पड़ताल, सीसीटीवी फुटेज देकर थाना प्रभारी से ‘घर के चिराग’ को बचाने की लगाई फरियाद, पर लाश मिली ‘सरकार’गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकी

Kanpur Violence : हयात ने सूफियान-जावेद के साथ मिलकर रची हिंसा की साजिश, पुलिस के हत्थे लगा रोमा ग्राफिक प्रिंटिंग प्रेस का मालिक

कानपुर। 3 जून से पहले कानपुर हिंसा का मास्टरमाइंड हयात जफर हाशमी और उसके साथी सूफियान और जावेद ने बैठक की थी। तीनों ने मिलकर  ब्रह्मनगर स्थित रोमा ग्राफिक प्रिंटिंग प्रेस से पोस्टर व पर्चे छपवाए थे। पोस्टर में बंद के अलावा अन्य बातें लिखी गई थीं। पुलिस ने इसे नियम विरूद्ध मानते हुए प्रेस के मालिक को गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार को पुलिस आरोपी को जेल भेजेगी।

ऐसे सामने आया साजिश वाला राज
हयात जफर हाशमी के संगठन एमएमए जौहर फैंस एसोसिएशन की तरफ से तीन जून को बाजार बंदी का आह्वान किया गया था। बंदी को लेकर प्रमुख बाजारों व इलाकों में पोस्टर लगाने के साथ पर्चे बांटे गए थे। हिंसा के बाद जब पुलिस ने जांच शुरू की तो बड़े पैमाने पर पोस्टर व पर्चे बरामद किए। पुलिस की जांच में पता चला कि रोमा ग्राफिक प्रिंटिंग प्रेस से ये छपवाए गए थे।

पकड़ा गया प्रेस का मालिक
डीसीपी पूर्वी प्रमोद कुमार ने बताया कि प्रेस मालिक शंकर को हिरासत में लिया गया है। पूछताछ में पता चला कि हयात के करीबी व साजिश में शामिल सूफियान व जावेद ने प्रेस पहुंचकर पोस्टर छापने का ठेका दिया था। ज्यादा पैसे की लालच में आकर शंकर ने पर्चे व पोस्टर छाप दिए। जो कि नियम और कानून के विरूद्ध है। पुलिस ने प्रेस मालिक को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस को सूचना देनी चाहिए
डीसीपी का कहना है कि इस तरह के आंदोलन व बाजार बंदी के पोस्टर आदि छापने से पहले स्थानीय पुलिस को सूचना देनी चाहिए। क्योंकि यह कानून-व्यवस्था से जुड़ा मसला है। इसलिए शंकर के खिलाफ कार्रवाई की गई है। वहीं शंकर के परिवारवालों का कहना है ि कवह बेगुनाह है। उसे फंसाया गया है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities