Notice: Undefined property: AIOSEO\Plugin\Common\Models\Post::$options in /home/customer/www/astitvanews.com/public_html/wp-content/plugins/all-in-one-seo-pack/app/Common/Models/Post.php on line 104
dir="ltr" lang="en-US" prefix="og: https://ogp.me/ns#" > Kanpur Violence : कानपुर दंगे का सबसे विस्फोटक खुलासा, जानें किसने शहर को क्यों जलाया - Astitva News
बड़ी ख़बरें
Mainpuri Exit Poll : शिवपाल यादव के ‘खेला’ से बदल गई एक्जिट पोल की तस्वीर, मैनपुरी लोकसभा सीट पर नेता जी के चेले से आगे निकलीं ‘डिप्पल बहू’कौन है वो Nukush Fatima जिसकी एक गुहार में Cm Yogi ने प्रशासन की लगा दी क्लास और 24 घंटे में वो कर दिया जो 20 सालों में नही हो पाया !अब फातिमा का परिवार Yogi को दे रहा है दुआएं !आज पूरा देश #RohiniAcharyaको कर रहा है सलाम,Lalu की बेटी ने अपनी किडनी देकर पिता को दी नई जान !Gujrat के बेटे ने बदल दी सियासी बाजी ,सातवीं बार फिर गुजरात में खिलेगा कमल Congress के बयानवीरों ने फिर डुबोई कांग्रेस की लुटिया !Irfan Solanki News : कानून के शिकंजे से घबराए इरफान सोलंकी ने भाई समेत किया सरेंडर, पुलिस कमिश्नर आवास के बाहर फूट-फूट कर रहे विधायक, जानें किन धाराओं में दर्ज है FIRPM Modi Roadshow : गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रचंड मतदान के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का मेगा रोड शो, 3 घंटे में 50 किमी से अधिक की दूरी के साथ ‘नमो’ का विपक्ष पर ‘हल्लाबोल’‘बाहुबली’ पायल भाटी ने ‘बदलापुर’ के लिए रची हैरतअंगेज कहानी, हेमा का कत्ल करने के बाद पुलिस से इस तरह बचती रही बडपुरा गांव की ‘किलर लेडी’Gujarat Assembly Election 2022 : गुजरात में है आजाद भारत का ऐसा पोलिंग बूथ, जहां सिर्फ एक वोटर जो 500 शेरों के बीच करता वोट, लोकतंत्र के त्योहार की बड़ी दिलचस्प है स्टोरीगुजरात में किस दल की बनेगी ‘सरकार’ को लेकर जारी है मदतान, रवींद्र जडेजा की पत्नी समेत इन 10 दिग्गज चेहरों के साथ मोरबी हादसे में नायक बनकर उभरे इस नेता पर सबकी नजरGujarat Assembly Election : गुजरात में भी है मिनी अफ्रीका, जहां पहली बार मतदान कर रहे मतदाता, बड़ी दिलचस्प है यहां की गाथा

Kanpur Violence : कानपुर दंगे का सबसे विस्फोटक खुलासा, जानें किसने शहर को क्यों जलाया

कानपुर। 3 जून की दोपहर जुमे की नमाज के बाद नई सड़क पर एकाएक भीड़ जमा हो गई और नारेबाजी करनी शुरू कर दी। लोग कुछ समझ पाते, उससे पहले उपद्रवी शहर को दंगे की आग में झोंकने पर अमादा हो गए। पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद दंगाईयों पर काबू पाया। पुलिस ने घटना के बाद 28 उपद्रवियों को गिरफ्तार करने के साथ 40 नामजद और 1 हजार अज्ञात लोगों पर गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया है। पुलिस की शुरुआती जांच में सामने आया है कि, उपद्रवियों व असामाजिक तत्वों ने मुस्लिम युवकों को धर्म का वास्ता देकर भड़काया। पूरी घटना में एमएमए जौहर फैंस और पापुलर फंड आफ इंडिया (पीएफआई) का कनेक्शन भी सामने आया है। साथ ही कुछ अपराधियों के नाम भी सामने आए हैं। जिसकी जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है।

पीएफआई का नाम आया सामने
कानपुर में 3 जून को हिंसा भड़की और आधा दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए। उपद्रवियों ने तीन घंटे से ज्यादा समय तक तांडव किया। पथराव के साथ ही फायरिंब व बमबाजी कर पुलिस को बैकफुट में भेज दिया। पुलिस ने एक्शन लेते हुए उपद्रवियों पर लाठी भांजी और 28 शातिरों को दबोच लिया। जबकि मास्टरमाइंड हयात जफर हाशमी को पुलिस ने 24 घंटे के अंदर लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, इस मामले में हाशमी का पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से जुड़े होने के अहम साक्ष्य मिले हैं। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। मामले में छह मोबाइल भी मिले हैं जिनकी जांच की जा रही है।

पीएफआई से जुड़ी चार संस्थाओं के दस्तावेज बरामद
पुलिस को मुख्य आरोपी हयात जफर हाशमी के पास से पीएफआई पापुलर फ्रंट आफ इंडिया से जुड़ी चार संस्थाओं के दस्तावेज भी मिले हैं। हाशमी के पास एआइसीसी, एसडीपीआई, सीएफआई और आरआईएफ जैसी संस्थाओं के कई दस्तावेज मिले हैं। यह सभी पीएफआई से जुड़ी हैं। पीएफआई इन सभी संस्थाओं को पहले भी फंडिंग करता रहा है। वहीं पुलिस को पूरी आशंका है कि हयात जफर हाशमी भी पीएफआई से जुड़ा हुआ था। इसकी संस्था को भी पीएफआई समेत अन्य जगह से फंडिंग की जा रही थी। पुलिस जल्द ही मामले की जांच पूरी होते ही बड़ा खुलासा करेगी।

एसआईटी का गठन
इस मामले में मुख्य आरोपित जफर हाशमी के पीएफआई लिंक की छानबीन के लिए एसआईटी का गठन किया गया है। पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने एसआईटी गठित करने की जानकारी दी है। कमिश्नर का कहना है कि हाशमी के पास पीएफआई से जुड़ी कई संस्थाओं के दस्तावेज बरामद हुए है, जिसके आधार पर जांच की जाएगी। सीपी ने कहा कि आरोपियों को कोर्ट से पुलिस रिमांड पर लेगी और पूछताछ करेगी। साथ ही आरोपियों के खिलाफ पुलिस गैंगस्टर एक्ट और रासुका के तहत कार्रवाई करेगी।

पुलिस ने पीएफआई के सदस्यों को दबोचा था
केरल के चरमपंथी संगठन पीएफआई का नाम शहर में सीएए को लेकर बवाल के दौरान सामने आया था। पुलिस ने इसके पांच सदस्यों को उपद्रव में शामिल होने के आरोपों में गिरफ्तार किया था। तब से यह चर्चा है कि मुस्लिम क्षेत्रों में यह संगठन तेजी से पैर पसार रहा है। अब एमएमए जौहर फैंस एसोसिएशन पर भी सवाल है कि वह कानपुर में पीएफआई के इशारे पर काम करता है। बंद के आह्वान दोनों ने एक ही दिन क्यों किया, जांच का विषय है। पुलिस आयुक्त दोनों संगठनों के आर्थिक स्रोतों की जांच के लिए भी कह चुके हैं।

डी-टू गैंग के गुर्गे पकड़े गए
जिन लोगों को नामजद किया गया है या पकड़ा गया है, उनमें शामिल इसराइल, आदिल और इमरान कालिया पर डी-टू गैंग के लिए काम करने का आरोप है। डी-टू गैंग का सबसे खास शूटर अफजाल दस दिनों पहले जेल से छूटा है। उसके भी इस उपद्रव में शामिल होने की आशंका है। टी-गैंग पहले सिमी के लिए काम करता था। इस गैंग के संबंध दाउद से भी बताए जा रहे हैं। हलांकि डी-टू गैंग की कमर पुलिस ने कई दशक पहले तोड़ दी थी। मोनू पहाड़ी, रईस बनारसी की मौत के बाद टॉयसन भी सलाखों के पीछे है।

भूमाफिया कुछ आपराधिक तत्वों से भी जुड़े
नई सड़क व दादा मियां का हाता क्षेत्र, जहां शुक्रवार को बवाल हुआ, वहां भी आसपास बड़ी संख्या में शत्रु संपत्तियां हैं। जो एफआइआर घायल मुकेश की ओर से दर्ज कराई गई है, उसमें भी कहा गया है कि यहां शत्रु संपत्तियों पर केडीए के अफसरों के आंख मूंदने की वजह से ऊंची-ऊंची अवैध इमारतें तन गईं। यही ऊंची इमारतें अब पथराव और गोलीबारी का केंद्र बन गई हैं। शत्रु संपत्तियों की जांच के दौरान यह भी सामने आया कि इससे जुड़े भूमाफिया कुछ आपराधिक तत्वों से भी जुड़े हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities