ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

भगवान परशुराम सभी धर्म के भगवान – अवंतिका शर्मा

भगवान परशुराम सभी धर्म के भगवान – अवंतिका शर्मा अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा ( र) की दिल्ली इकाई ने आज, नोएडा में  भगवान परशुराम के जीवन के ऊपर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमे मुख्य अतिथि के रूप मैं वरिष्ठ समाजसेविका श्रीमती अवंतिका शर्मा जी ने भगवान परशुराम के जीवन से जुड़ी कई चीजों पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि भगवान सभी वर्ग और धर्म के होते हैं तो ये कहना गलत होगा कि वो सिर्फ ब्राह्मणों के देवता हैं।

श्रीमती शर्मा ने कहा कि भगवान परशुराम एक महान शिक्षक थे उन्होंने भीष्म पितामह, गुरु द्रोणाचार्य एवं कर्ण को शिक्षित किया था , उन्हें शस्त्र और शास्त्र की शिक्षा दी थी  इसलिए वे इन सभी महानुभाव के गुरु कहे जाते हैं. और उनके ये सभी शिष्य उन्हें अपना गुरु यानि भगवान मानते थे,

श्रीमती शर्मा ने बतया की परशुराम शिवजी के उपासक थे. उन्होनें सबसे कठिन युद्धकला “कलारिपायट्टू” की शिक्षा शिवजी से ही प्राप्त की. शिवजी की कृपा से उन्हें कई देवताओं के दिव्य अस्त्र-शस्त्र भी प्राप्त हुए थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री शांतनु शुक्ला जी ने भी श्री परशुराम जी के जीवन पर चर्चा की ,अंत में कार्यक्रम के आयोजक श्री अजय मिश्रा जी ने संगोष्ठी में आय सभी लोगों को धन्यवाद दिया और संघटन के विस्तार के बारे में चर्चा की।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities