ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

मिलन : पिता की चिता को नहीं दे पाए थे मुखाग्नि, मां से मिलकर कुछ इस तरह से बोले ‘महाराज जी’

 

 
माँ का जाना हाल चाल
माँ का जाना हाल चाल

Faheem Tanha Dehradun : 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पांच साल के बाद मंगलवार को अपने गांव पंचूर पहुंचे। यहां उनका परिवार के साथ ग्रामीणों ने भव्य स्वागत किया। घर की देहरी पर मां ने अपने महाराज को गले लगाया तो उन्होंने भी आर्शीवाद लिया। बताया जा रहा है कि बेटे को देख कर मां सवित्री रो पड़ीं। मां को बगल पर बैठकर योगी ने आंसू पोंछे और हाल-चाल जाना

गांव में योगी का भव्य स्वागत
मंख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने तीन दिवसीय यात्रा के दौरान मंगलवार को अपनी मां सावित्री से मिलने के लिए पैतृक गांव पंचूर पहुंचे। इस मौके पर परिवार के अन्य सदस्यों के अलावा ग्रामीण भी मौजूद थे। योगी आदित्यनाथ ने अपनी मां का आर्शीवाद लिया और उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा। करीब पांच साल के बाद घर आए ‘महाराज जी’ को देखकर मां की आंख में आंसू भर आए। मां और बेटे ने अकेले में बात की।

दो साल पहले पिता का हुआ था निधन
बतादें, दो वर्ष पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता का देहांत हो गया था। कोरोना के कारण जारी लॉकडाउन में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के मकसद से सीएम योगी अपने पिता के अंतिम दर्शन के लिए नहीं गए थे। इस बारे में सीएम योगी ने कहा था कि दो महीने में कई बार कोशिश कि बीमार पिता को देख आऊं लेकिन समय नहीं मिला। मैं जाता तो सोशल डिस्टेंसिंग तार-तार हो जाती। कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मैंने देश को प्राथमिकता दी। उन्होंने यह भी कहा कि जब हम कोरोना से जीत जाएंगे, तभी अपने पिता को सच्ची श्रद्धांजलि दे पाऊंगा।

28 साल के बाद पहली बार घर में बिताएंगे रात
मुंख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संन्यास के 28 साल बाद पहली बार घर में रात बिताएंगे। योगी से मिलने के लिए उनकी तीन बहनें पहले ही घर पहुंच चुकी हैं। वहीं, उनके तीनों भाई भी घर पर हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, योगी आदित्यनाथ के छोटे भाई के बेटे के मंडन का कार्यक्रम है। जिस पर योगी आदित्यनाथ शामिल होंगे। रात को घर पर रूकेंगे और भोजन करेंगे

सीएम योगी भावुक हो गए
इससे पहले पंचूर से दो किमी दूर बिथ्याणी में योगी ने महायोगी गुरु गोरखनाथ राजकीय महाविद्यालय में गुरु अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण किया। गुरु को याद करते हुए सीएम योगी भावुक हो गए। उन्होंने कहा, “आज गुरु की मूर्ति का अनावरण करने और अपने स्कूली गुरुओं का सम्मान करने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ। मैं 35 साल बाद अपने गुरुओं से मिल पा रहा हूं। मैं आज जो कुछ भी हूं माता-पिता और गुरु अवेद्यनाथ की वजह से हूं।

योगी ने माँ के छुए पैर
योगी ने माँ के छुए पैर

महाराज जी को पहाड़ी चटनी पसंद
फिलहाल सीएम योगी अपने परिवारजनों से मुलाकात की। गांव में उन्होंने परिवार के सभी सदस्यों से मुलाकात की।योगी के स्वागत के लिए पूरे गांव में उत्साह का माहौल देखा गया। योगी के लिए घर पर तरह-तरह के व्यंजन बनाये गये हैं। उनकी बड़ी बहन ने सोमवार को बताया था कि उन्हें पहाड़ी चटनी पसंद है उसे भी बनाया जाएगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities