ब्रेकिंग
Auraiya: राजा भैया ने किया रोड शो, विधानसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं में भरा जोशइस शहर को कहा जाता है विधवा महिलाओं की घाटीAgra: बच्चों से भरी वैन के गड्ढे में गिरने से हुआ हादसाJhansi: युवा मोर्चा की जिला झाँसी महानगर कार्यसमिति की बैठक हुई सम्पन्नHamirpur: NH34 पर अतिक्रमण हटाने पहुंची कंपनी, विधायक ने मांगी मोहलतAyodhya: पांचवे दीपोत्सव को भव्य बनाने के लिए अवध यूनिवर्सिटी में तैयारी शुरूEtah: 100 प्रतिशत टीकाकरण करवा कर ग्रामीणों ने की मिसाल कायमMahoba: झाड़ियों में लावारिस पड़ा मिला नवजात शिशु, गांव में एक साल के अंदर यह दूसरी घटनाMahoba: सिंचाई विभाग का अजब कारनामा, मृतक किसानों के खिलाफ पुलिस को दी तहरीरएटा को मिली बड़ी सौगात, पीएम मोदी ने किया मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण

पीएम मोदी ने NHRC के स्थापना दिवस के मौके पर दी बधाई

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग National Human Rights Commission के 28वें स्थापना दिवस के अवसर पर पीएम मोदी ने आयोजित कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंसिंग के द्वारा संबोधित किया। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में अमित शाह भी मौजूद रहें। मोदी ने अपने संबोधन में सबसे पहले सभी को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के 28वें स्थापना दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी। साथ ही कहा कि ये आयोजन आज ऐसे समय हो रहा है, जब हमारा देश अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में बिना किसी का नाम लिए विपक्षी पर्टियों पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि मानवाधिकार के नाम पर कुछ  लोग देश में राजनिति कर रहे हैं।  लेकिन हमें इसके प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है। मोदी ने कहा कि एक समय ऐसा था, जब पूरा विश्व युद्ध की हिंसा में झुलस रहा था, भारत ने पूरे विश्व को ‘अधिकार और अहिंसा’ का मार्ग सुझाया। हमारे बापू को भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया मानवाधिकारों और मानवीय मूल्यों के प्रतीक के रूप में देखता है। इसी के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज देश ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ के मूल मंत्र पर चल रहा है। ये एक तरह से मानव अधिकार को सुनिश्चित करने की ही मूल भावना है। बीते सालों में देश ने अलग-अलग भागों में, अलग-अलग स्तर पर हो रहे अन्याय को भी दूर करने की कोशिश की है। सालों से मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक के खिलाफ कानून की मांग कर रही थीं। हमने ट्रिपल तलाक के खिलाफ कानून बनाकर, मुस्लिम महिलाओं को नया अधिकार दिया है। बीती सालों में बेटियों की सुरक्षा के लिए अनेक कानूनी कदम उठाए गए हैं। देश के 600 से ज्यादा जिलों में वन स्टाप सेंटर चल रहे हैं। जहां एक ही जगह पर महिलाओं को पुलिस सुरक्षा, मेडिकल सहायता, कानूनी सहायता और अस्थाई आश्रय दिया जाता है।

 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities