ब्रेकिंग
खनन माफिया हाजी इकबाल और उसके बहनोई दिलशाद पर योगी सरकार ने कसा शिकंजा, बुलडोजर और संपत्ति पर एक्शन के बाद पुलिस ने किया अब तक का सबसे बड़ा ‘प्रहार’5 लाख की सुपारी लेकर इन खूंखार शूटर्स ने मध्य प्रदेश की पूजा मीणा का किया मर्डर, पति ने हत्या की पूरी फिल्मी कहानी बयां की तो ये चार लोग गदगदडेढ़ करोड़ के जेवरात मैंने नहीं किए पार प्लीज छोड़ दे ‘साहब’ पर नहीं माना थानेदार और थाने में मजदूर की दर्दनाक मौतAzadi ka Amrit Mahotsav : मरी नहीं जिंदा है दूसरा ’जलियां वाला बाग’ की गवाह ‘इमली’ जिस पर एक साथ 52 क्रांतिकारियों को दी गई थी फांसीSawan Special Story 2022 : यूपी के इस शहर में भू-गर्भ से प्रकट हुए नीलकंठ महादेव, महमूद गजनवी ने शिवलिंग पर खुदवा दिया ‘लाइलाह इलाल्लाह मोहम्मद उर रसूलल्लाह‘बीजेपी नेता बीएल वर्मा के जन्मदिन पर पीएम मोदी ने खास अंदाज में दी बधाईजनिए किस मामले में मंत्री राकेश सचान पर कोर्ट ने फैसला किया सुरक्षित, सपा ने ट्वीटर पर क्यों लिखा ‘गिट्टी चोर’देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे जगदीप धनखड़, वकालत से लेकर सियासत तक जाट नेता का ऐसा रहा सफरबीच सड़क पर आपस में भिड़े पुलिसवाले और एक-दूसरे को जड़े थप्पड़ ‘खाकीधारियों के दगंल’ की पिक्चर हुई रिलीज तो मच गया हड़कंपनदी के बीच नाव पर पका रहे थे भोजन तभी फटा गैस सिलेंडर, बालू के अवैध खनन में लगे पांच मजदूरों की जलकर दर्दनक मौत

जानें रिटायरमेंट के बाद कहां रहेंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, क्या मिलेंगी सुविधाएं और कैसा होगा सुरक्षा काफिला, इतने रुपये प्रतिमाह मिलेगी पेंशन

नई दिल्ली। देश के 15वें राष्ट्रपति के लिए बुधवार को मतों की गिनती की कार्य शुरू हुआ और देरशाम तक नतीजे आ जाएंगे। एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू और विपक्ष की ओर से प्रत्याशी यशवंत सिन्हा के बीच फैसला होगा। इसके बाद देश को नया राष्ट्रपति मिल जाएगा। वहीं वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो आ रहा है। रिटायरमेंट के बाद रामनाथ कोविंद का नया पता क्या होगा। उन्हें कितनी पेशन मिलेगी। साथ ही उनके पास सुरक्षा का कैसा काफिला होगा, इनसब के बारे में हम आपको अपनी इस स्टोरी के जरिए बताने जा रहे हैं।

24 जुलाई को रिटायर हो जाएंगे कोविंद
21 जुलाई की देरशाम देश को 15वां राष्ट्रपति मिल जाएगा। वर्तमान राष्ट्रपति 24 जुलाई को रिटायर हो जाएंगे। 23 जुलाई को रामनाथ कोविंद के सम्मान में उप राष्ट्रपति वैंकैया नायडू संसद भवन स्थित सेंट्रल हॉल में विदाई समारोह का आयोजन कर रहे हैं। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सभी केंद्रीय मंत्री और सांसद इस कार्यक्रम का हिस्सा होंगे। कार्यकाल खत्म होने से दो दिन पहले यानी 22 जुलाई को ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का पूरा सामान नए बंगले में शिफ्ट हो जाएगा। हालांकि, आधिकारिक तौर पर राष्ट्रपति भवन से कोविंद की विदाई 25 जुलाई को होगी, जब नए राष्ट्रपति शपथ लेंगे।

12 जनपथ स्थित बंगला आवंटित
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दिल्ली के 12 जनपथ स्थित बंगला आवंटित हुआ है। पहले इस बंगले में पूर्व मंत्री रामविलास पासवान रहा करते थे। पासवान इस बंगले में दो दशक से ज्यादा समय तक रहे। उनके निधन के बाद परिवार ने इसे खाली कर दिया था। अब ये बंगला रामनाथ कोविंद के नाम एलाट कर दिया गया है। बंगले को पूरी तरह से नया रूप दिया जा चुका है। राष्ट्रपति की बेटी स्वाति कोविंद ने बंगले के रेनोवेशन का काम देखने के लिए आई थीं। बंगला पूरी तरह से सज-धज कर तैयार है।

एक लाख 50 हजार रुपये प्रतिमाह मिलेगी पेंशन
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को रिटायर के बाद एक लाख 50 हजारी रुपये प्रतिमाह पेंशन मिलेगा। इसके अलावा 60 हजार रुपये प्रतिमाह सेक्रेटेरियल स्टाफ और आफिस खर्च के लिए दिया जाएगा। साथ ही सरकार की तरफ से दिए गए बंगले का किराया भी फ्री होगा। पूर्व राष्ट्रपति के तौर पर कोविंद को दो लैंडलाइन, मोबाइल फोन, ब्रॉडबैंड और इंटरनेट कनेक्शन भी दिया जाएगा। इसके अलावा बिजली और पानी का बिल भी नहीं देना पड़ेगा। कोविंद को ड्राइवर और कार भी दी जाएगी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ट्रेन और हवाई यात्रा मुफ्त होगी। पांच लोगों का पर्सनल स्टाफ होगा। दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी दी जाएगी। दो सचिव भी होंगे।

12 जनपथ या गांव कहां जाएंगे राष्ट्रपति कोविंद
देश के मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पांच साल राष्ट्रपति भवन में रहने के बाद अब विदाई की तैयारी कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से जो खबर मिल रही है, उसके मुताबिक रिटायरमेंट के बाद राष्ट्रपति कोविंद अपने गृह नगर कानपुर नहीं जाएंगे। वे राष्ट्रीय राजधानी के 12 जनपथ के बंगले में रहेंगे। वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के गांव परौंख के ग्रामीणों का कहना है कि, रिटायर्ड होने के बाद हमारे ‘राम’ यहीं रहेंगे। ग्रामीणों ने बताया कि, बीतेदिनों वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ परौंख आए थे। कहा था कि, मेरे दिल में मेरा गांव बसता है। जब भी समय मिलगा, मैं अपनी मातृभूमि को चूमने के लिए आऊंगा।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities