ब्रेकिंग
नवाबगंज पुलिस ने नहीं सुनी शिकायत तो पिता ने बेटे की खुद शुरू की पड़ताल, सीसीटीवी फुटेज देकर थाना प्रभारी से ‘घर के चिराग’ को बचाने की लगाई फरियाद, पर लाश मिली ‘सरकार’गोकश और पुलिस के बीच फायरिंग की तड़तड़ाहट से थर्राया घाटमपुर, गोली लगने से इंस्पेक्टर समेत दो घायल’अग्निपरीक्षा’ में पास हुए एकनाथ शिंदे, महाराष्ट्र की नवनियुक्त सरकार ने जीता विश्वास मत, जानें कांग्रेस-एनसीपी के आठ विधायक वोटिंग से क्यों रहे दूरदोस्ती पर भारी पड़ गया ‘नफरत’ वाला खंजर’, गला काटने के बाद अंतिम संस्कार में शामिल हुआ ‘जल्लाद’…हैलो मैं अल कायदा का सदस्य बोल रहा हूं, ‘महामंडलेश्वर आपके साथ गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी को बम से उड़ा दूंगा’राजीव नगर में अतिक्रमण हटाने पहुंचे नगर निगम के दस्ते पर हमला, एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल, 17 जेसीबी के साथ दो हजार जवानों ने 70 घरों को ढहायाSpecial story on anniversary of bikru case – ऐसा था विकास दुबे कानपुर वाला, 2 जूलाई को बहाया ‘खाकी के खून का दरिया’उदयपुर केस में सामने आई सनसनीखेज साजिश, दरिंदों ने 2013 में खरीदी ‘2611’ वाली तारीखISIS स्टाइल में उदयपुर के बाद अमरावती में हत्या, दरिंदों ने चाकू से दवा कारोबारी का गला काटाउदयपुर के कन्हैया हत्याकांड में शामिल थे 5 आतंकी, अपने साथियों को बचाने के लिए दुकान के पास खड़े थे दो आतंकी

राजस्थान सरकार ने राजस्व मंडल के प्रस्ताव को दी सैद्धांतिक मजूरी, फाइल वित्त विभाग को भेजी

जमीन विवाद की सबसे बड़ी अदालत राजस्व मंडल को लेकर राजस्थान सरकार अब गंभीर हो गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्व मंडल अध्यक्ष से राजस्व अदालतों में लम्बित लाखों मुकदमों के त्वरित निस्तारण के लिए चर्चा करते हुए राजस्व मंडल अध्यक्ष के प्रस्ताव को सैद्धांतिक सहमति दे दी है। साथ ही इस पर कार्रवाई के लिए प्रस्ताव को वित्त विभाग के पास भेजा है। यहां बता दें कि पांच महीने पहले सीएम के निर्देश पर राजस्व मंडल के अध्यक्ष ने मंडल में लम्बित करीब 65 हजार मुकदमों और अधीनस्थ राजस्व अदालतों में लम्बित करीब 5 लाख मुकदमों के त्वरित निस्तारण के लिए एक्शन प्लान मांगा था। मगर, इसे बजट और अनुपूरक बजट में शामिल नहीं किया गया था। इसके लिए कोई अतिरिक्त बजट भी नहीं दिया गया था।
आपको बता दें कि राजस्व मंडल में स्वीकृत 20 सदस्यों पर केवल 11 सदस्य ही काम कर रहे हैं। जबकि सदस्यों के 9 पद खाली चल रहे हैं। इनमें आरएएस कोटे के 7 और आईएएस कोटे के 2 पद हैं। इससे मुकदमों की सुनवाई में दिक्कत हो रही है। साथ ही जिलो में लगने वाली सर्किट बेंचों पर भी इसका असर पड़ रहा है। सरकार जल्द ही आरएएस कोटे के चार सदस्यों को नियुक्ति देगी इसके लिए प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। सदस्यों के लिए सरकार ने आरएएस अधिकारियों से आवेदन मांगे थे। इनमें से चार नामों पर सहमति बन चुकी है।
एक्शन प्लान बनाने के लिए इसी साल जनवरी में सरकार के निर्देश पर उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, पंजाब और उत्तराखंड के रेवन्यू बोर्डों की कार्य प्रणाली का अध्य्यन किया गया था। जिसके बाद राजस्व मंडल ने एक्शन प्लान तैयार कर सरकार को भेजा था।

Related posts

1 comment

sakshi singh May 9, 2022 at 10:40 am

keep it up bhai true news and first new from other youtube channel

Reply

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities