बड़ी ख़बरें
एक दुनिया का सबसे बड़ा ग्लोबल लीडर तो दूसरा देश का सबसे पॉपुलर पॉलिटिशियन, पर दोनों ‘आदिशक्ति’ के भक्त और 9 दिन बिना अन्न ‘दुर्गा’ की करते हैं उपासना, जानें पिछले 45 वर्षों की कठिन तपस्या के पीछे का रहस्यअब सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई देगी निरहुआ के असल जिंदगी के अलावा उनकी रियल लव स्टोरी की ‘एबीसीडी’, शादी में गाने-बजाने वाला कैसे बना भोजपुरी फिल्मों का सुपरस्टार के साथ राजनीति का सबसे बड़ा खिलाड़ीटीचर की पिटाई से छात्र की मौत के चलते उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव के साथ जीप और वाहनों में लगाई आग, अखिलेश के बाद रावण की आहट से चप्पे-चप्पे पर फोर्स तैनातकुंवारे युवक हो जाएं सावधान आपके शहर में गैंग के साथ एंट्री कर चुकी है लुटेरी दुल्हन, शादी के छह दिन के बाद दूल्हे के घर से लाखों के जेवरात-नकदी लेकर प्रियंका चौहान हुई फरारअपने ही बेटे के बच्चे की मां बनने जा रही ये महिला, दादी के बजाए पोती या पौत्र कहेगा अम्मा, हैरान कर देगी MOTHER  एंड SON की 2022 वाली  LOVE STORYY आस्ट्रेलिया के खिलाफ धमाकेदार जीत के बाद भी कैप्टन रोहित शर्मा की टेंशन बरकरार, टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार समेत ये क्रिकेटर टीम इंडिया से बाहरShardiya Navratri 2022 : अकबर और अंग्रेजों ने किया था मां ज्वालाजी की पवित्र ज्योतियां बुझाने का प्रयास, माता रानी के चमत्कार से मुगल शासक और ब्रिटिश कलेक्टर का चकनाचूर हो गया था घमंडबीजेपी नेता का बेटे वंश घर पर अदा करता था नमाज, जानिए कापी के हर पन्ने पर क्यों लिखता था अल्हा-हू-अकबर17 माह तक एक कमरे में पति की लाश के साथ रही पत्नी, बड़ी दिलचस्प है विमलेश और मिताली के मिलन की लव स्टोरी‘शर्मा जी’ ने महेंद्र सिंह धोनी के 15 साल पहले लिए गए एक फैसले का खोला राज, 22 गज की पिच पर चल गया माही का जादू और पाकिस्तान को हराकर भारत ने जीता पहला टी-20 वर्ल्ड कप

Raksha Bandhan Special Story 2022: रक्षा बंधन पर्व पर इन तीन बहनों का अनोखा गिफ्ट, किडनी दान कर बचाई अपने भाईयों की जान

सीकर। रक्षा बंधन का पर्व भाई और बहन के अद्भुत प्रेम का प्रतीक माना जाता है। बहन अपने भैया की जिंदगी बचाने को लेकर एक दीवार की तरह खड़ी रहती हैं तो वहीं राखी की डोर बंधवाने के बाद भाई भी उनकी रक्षा का संकल्प लेते हैं। इस पावन पर्व पर हम आपको उन तीन बहनों से रूबरू कराने जा रहे हैं, जिन्होंने रक्षा के गिफ्ट के तौर पर भाईयों को अपनी किडनी दान कर उनकी जान बचा ली। खास बात ये है कि तीनों बहनों ने शादी के बाद ये कदम उठाया और तीन महिलाओं के साथ उनके पतियों और ससुराल वालों ने दिया।

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद ही बचेगी भाई की जान
रक्षा बंधन का पर्व पूरे देश में धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। तय मुहुर्त पर बहनें अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा का डोर बांधकर अपनी रक्षा का उनसे संकल्प लेंगी। पर कुछ ऐसी भी बहनें हैं, जो अपनी जान को दांव में लगाकर भाईयों की जिंदगी बचा रही हैं। इन्हीं में से झुंझुनूं की खेतड़ी निवासी 49 वर्षीय गुड्डी देवी हैं। जिन्होंने पिछले साल ही रक्षाबंधन पर भाई को किडनी देकर जीवन दान की सौगात दी। गुड्डी देवी ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि, भाई सुंदरसिंह की दोनों किडनी खराब हो गई थी। तबीयत बिगडने पर उसे दिल्ली के अपोलो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। आराम नहीं मिलने पर डॉक्टर्स ने किडनी ट्रांसप्लांट की बात कही।

गुड्डी देवी ने भाई को दी किडनी
बीमार सुंदर सिंह के माता-पिता की किडनी देने योग्य नहीं थे। संकट में घिरे परिवार के सामने बहन गुड्डी ने किडनी के पेशकश की। जो सारी औपचारिकता पूरी करने के बाद राखी से चार दिन पहले 19 अगस्त को गुड्डी ने भाई का डोनेट कर दी। भाई बहनों ने रक्षाबंधन का त्योहार भी अस्पताल में मनाया। किडनी ट्रांसप्लांट होने के बाद भाई को नया जीवन मिल गया। गुड्डी देवी बताती हैं कि, जब हमने किडनी देने का फैसला लिया तो पति के अलावा ससुरालवालों ने भी हमारा साथ दिया। अब हमारा भैया पूरी तरह से ठीक है और राखी के पर्व पर वह घर आकर रक्षा की डोर बंधवाएगा।

सुनीता कंवर के गिफ्ट से बची भाई की जान
ऐसी ही एक और बहन हैं, जिसने अपने भाई को किडनी देकर उसकी जान बचा ली। सीकर के नाथूसर निवासी महाल सिंह के बेटे विश्वदीप सिंह की दो साल पहले दोनों किडनी खराब हो गई थी। कई अस्पतालों में इलाज व डायलिसिस के बाद भी रोग में फायदा नहीं हुआ। डॉक्टर्स ने किडनी ट्रांसप्लांट करने की बात कही। जिसकी जानकारी 46 वर्षीय बहन सुनीता कंवर को हुई तो वह भाई को जीवनदान देने के लिए तुरंत तैयार हो गई। नागौर निवासी अपने ससुराल वालों को सहमत कर उसने बेझिझक अपनी एक किडनी भाई विश्वदीप को दे दी। अब दोनों भाई बहन स्वस्थ जीवन जी रहे हैं। रक्षा बंधन पर्व पर बहन खुद अपने भाई के घर जाकर राखी बांधेगी।

सुमन की किडनी से जिंदा है भाई
झुंझुनूं के पिलानी में बिशनपुरा सेक्टर का निवासी 32 वर्षीय शिव कुमार भी लंबे समय से पेट के दर्द से पीड़ित था। जब आसपास के डॉक्टर्स के इलाज से फायदा नहीं हुआ तो उसने बीकानेर मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर्स को दिखाया। जहां जांच में उसकी दोनों किडनी खराब पाई गई। डॉक्टर्स ने जल्द किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह दी। ऐसे में बड़ी बहन सुमन ने हिम्मत दिखाई और अपने ससुराल वालों को तैयार कर अपनी किडनी इसी साल मार्च महीने में भाई को दान कर उसकी जिंदगी बचा ली। दो बच्चों की मां होने पर भी भाई के लिए अपनी जान जोखिम में डालने वाली इस बहन के इस जज्बे को हर किसी ने सराहा। बच्चों की मां हैं। शिव के माता-पिता भी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities