बड़ी ख़बरें
Yogi Adityanath के एक फैसले ने विपक्ष की उम्मीदों को किया ध्वस्त,अब मोदी की हैट्रिक कोई नही रोक सकता !देव भूमि पर फिर मंडराया तबाही का साया ! तुर्की से भी बड़ी आएगी उत्तराखंड में तबाही देवभूमि में मिलने लगी भूकंप की आहट ! देवभूमि में बज गई खतरे की घंटी आने वाली है महा तबाही ..अपनी सुनहरी आवाज से Bollywood को हैरान करने वाले Amarjeet Jaykar को मुंबई से आया बुलावा ,रानू मंडल की ही तरह है अमरजीत जयकर की कहानी ,सोशल मीडिया में रातो रात छा गया था मजदूरी करने वाला एक अमरजीत !जडेजा के “कलाई जादू” से पस्त हो गए मेहमान फिरकी के फेर में फंसे कंगारू नागिन डांस करने को मजबूर! भारत तीनों फॉर्मेट में बना नंबर वन!GlobalInvestorSummit:एमएसएमई कैबिनेट मंत्री राकेश सचान डकार कर बैठे 72 प्लाटों का आवंटनGeneralElection2024:BJP इंटरनल सर्वे ने उड़ाई सांसदों की नीद 100 से ज्यादा सांसदों का होगा पत्ता साफ!GeneralElection2024:अखिलेश ने किया भाजपा को आम चुनाव में पटकनी देने का प्लान तैयार , जातीय जनगणना की मांग से देंगे धारMayawatiOnYogi:बीजेपी ने उठाया हिंदू राष्ट्र का मुद्दा,बसपा को सताई दलितों के वोट कटने की चिंता !DelhiMcdFight:Bjp का दिल्ली में मेयर बनाने का सपना हो गया चकनाचूर !मेयर की महाभारत में अब लग गया विराम!ElectionCommissionDecision:शिव सेना पर कब्जे की लड़ाई में जीते मुख्यमंत्री शिंदे उद्धव को मशाल जलाने की मजबूरी पार्टी पर कब्जे की लड़ाई में EC का फैसला शिंदे के पक्ष में

Raksha Bandhan 2022 : इस वर्ष रात में भाईयों की कलाई पर सजेगी राखी, जानें इसके पीछे की इनसाइड स्टोरी

कानपुर। कोरोना महामारी के चलते पिछले दो वर्षों में कई त्योहर फीके रहे, लेकिन 2022 में रक्षा बंधन को लेकर बाजार गुलजार हैं। बहनें अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा का धागा बांघने के लिए खरीदारी कर रही हैं तो वहीं भाई भी बहन के लिए गिफ्ट खरीद रहे हैं। इसके अलावा रक्षा बंधन के शुभ मुहुर्त को लेकर पंडितों के पास जाकर जानकारी ले रहे हैं। ऐसे में अस्तित्व न्यूज आपको राखी बांधने का समय समेत अन्य जानकारियों से रूबरू कराने जा रहा है। प्रोफेसर बलराम तिवारी बताते हैं कि, यह पर्व सावन पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार तिथियों के फेर से सावन दो दिन मिल रहा है, लेकिन शास्त्रीय मान-विधान के तहत रक्षा बंधन 11 अगस्त को मनाया जाएगा।

रात 8.26 बजे से रात 11.43 बजे तक मनाना ठीक रहेगा
प्रोफेसर बलराम तिवारी बताते हैं, सावन पूर्णिमा 11 अगस्त की सुबह 9.35 बजे लग रही है जो 12 अगस्त की सुबह 7.18 बजे तक रहेगी। हालांकि 11 की सुबह 9.35 बजे पूर्णिमा लगने के साथ ही भद्रा भी लग जा रहा है जो रात 8.26 बजे तक रहेगा। पंडित बलराम तिवारी के मुताबिक, इस स्थिति को देखते हुए रक्षा बंधन रात 8.26 बजे से रात 11.43 बजे तक मनाना ठीक रहेगा। ऐसे में बहनों को अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा का धागा इसी समय बांधना होग।

अन्य शुभ कार्य वर्जित
प्रोफेसर तिवारी बताते हैं कि, पूर्णिमा पर आधे काल में भद्रा रहता ही है जो इस बार रात तक रहेगा। भद्रा में राखी बांधने के साथ ही अन्य शुभ कार्य वर्जित हैं। हालांकि 12 अगस्त की सुबह पूर्णिमा जरूर मिल रही है लेकिन यह प्रतिपदा से युक्त है। अतः 11 को ही रक्षाबंधन मनाया जाएगा। रही बात रात में समय मिलने की तो रक्षा बंधन उत्सव में बेला का निषेध नहीं है। इसमें समय-काल का निषेध नहीं। भद्रा मुक्त पूर्णिमा में रक्षा बंधन मनाया जा सकता है।

12 तारीख रहेगी शुभ
रक्षा बंधन का त्यौहार 12 तारीख शुक्रवार को ही मनाना श्रेष्ठ रहेगा। कोई रक्षाबंधन पर सुण जिमाने का कार्य 11 तारीख रात्रि काल को करता है तो कर सकता है, लेकिन रात 8ः53 के बाद इस कार्यक्रम को भी करना लाभदायक नहीं होगा। उदया तिथि पूर्णिमा 12 अगस्त शुक्रवार को प्रातः 7ः15 बजे तक ही है 12 अगस्त शुक्रवार को 7ः30 बजे तक रक्षाबंधन और सुन जिमाने का अपने घर का सगुण करके उदया तिथि के हिसाब से दिन भर रक्षाबंधन का कार्य चलता रहेगा। शास्त्रों में यही कहा गया है कि जो उदया तिथि है उसी का मान दिन भर रहेगा। अतः मांगलिक कार्य पूरे दिन मानाया जाएगा।

इस वजह से भद्रकाल पर नहीं बांधे राखी
बलराम तिवारी बताते हैं कि, रक्षाबंधन पर भद्राकाल में राखी नहीं बांधनी चाहिए। इसके पीछे एक पौराणिक कथा भी है। बताते हैं, लंकापति रावण की बहन ने भद्राकाल में ही उनकी कलाई पर राखी बांधी थी और एक वर्ष के अंदर उसका विनाश हो गया था। भद्रा शनिदेव की बहन थी। भद्रा को ब्रह्मा जी से यह श्राप मिला था कि जो भी भद्रा में शुभ या मांगलिक कार्य करेगा, उसका परिणाम अशुभ ही होगा।

इंद्राणियों ने देवराज इंद्र का रक्षाबंधन किया
बलराम तिवारी ने रक्षा बंधन पर एक कथा का जिक्र करते हुए बताया कि वैदिक काल में एक बार देव-असुरों में भयंकर युद्ध हुआ। लगातार 12 साल तक देवता पराजित होते चले गए। इसे देखते हुए देव मंत्री गुरु बृहस्पति की अनुमति से युद्ध रोकने के साथ इंद्राणियों ने देवराज इंद्र का रक्षाबंधन किया। इसके प्रभाव से इंद्र असुरों का संहार करने में सफल हुए। देवताओं को विजय प्राप्त हुई। विजय की यह तिथि सावन की पूर्णिमा थी। उसी समय से ही सनातन धर्मावलंबियों में रक्षाबंधन पर्व उत्सव की तरह मनाने के परंपरा चली आ रही है।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities