ब्रेकिंग
Panchang: आज का पंचांग 25 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 24 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयPanchang: आज का पंचांग 23 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयकानपुर हिंसा का पाकिस्तान कनेक्शन आया सामने, सर्विलांस पर लगे मोबाइलों से हुआ बड़ा खुलासाबाँदा में प्राधिकरण और निबंधन की मिलीभगत से प्लाटिंग के नाम पर हो रही है खुली डकैती ,आप भी हो जाइए सावधान!Panchang: आज का पंचांग 22 जून 2022, जानें शुभ मुहूर्त और राहुकाल का समयशिवसेना में लगातार बढ़ रही है बागी विधायकों की संख्या, अब तक 42 MLA ने ठाकरे के खिलाफ मोर्चा खोलाऑटो रिक्शा चलाने और रिवॉल्वर-पिस्टल रखने वाले इस नेता ने ठाकरे को दी चुनौती, महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार गिरने की शुरू हुई उल्टी गिनतीएक ‘महिला मस्साब’ कैसे चुनीं गईं एनडीए के राष्ट्रपति की उम्मीदवार, पीएम नरेंद्र मोदी ने इन बड़े नामों के बजाए द्रौपदी पर क्यों लगाया दांवअंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सीएम योगी का दिखा अनोखा अंदाज, तस्वीरों में देखें कैसे दिया स्वस्थ जीवन का संदेश

भारत में है दुनिया का सबसे अमीर गांव, हर ग्रामीण के खाते में जमा एक करोड़ से ज्यादा की रकम, प्रधानमंत्री के मंत्र के बाद जैगुवार से चलेंगे और विला में रहेंगे परौंख के नागरिक

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कानपुर देहात के परौंख गांव आए थे। इस मौके पर उन्होंने कहा था कि भारत की आत्मा गांव में बसती है। हमसब को मिलकर अपने गांवों का विकास कर उन्हें नई बुलंदियों तक ले जाना है। उन्होंने कहा था कि, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की जन्मभूमि को भी विकास के पंख लगेंगे और ये गांव अमीरों की सूची में जल्द शामिल होगा। उनका इशारा विश्व के सबसे अमीर गांव गुजरात के मदपार की तरफ था। जिसे वर्ल्ड का सबसे रईस विलेज कहा जाता है। यहां ग्रामीणों की इनकम लाखों में है और सभी आलीशान मकानों में रहते हैं। हर ग्रामीण के बैंक अकाउंट में एक करोड़ से ज्यादा रुपये जमा हैं।

कच्छ जिले में है गांव
गुजरात के कच्छ जिले में स्थित मधापार नाम का यह गांव बैंक जमा के मामले में दुनिया के सबसे अमीर गांवों में से एक है। यहां हर ग्रामीण के खाते में एक करोड़ से ज्यादा की रकम जमा है। मदपार गांव में 7600 से ज्यादा मकान है और सभी पक्के बने हुए है। मधापार गांव में 17 बैंक है। यहां रहने वाले हर आदमी के बैंक अकाउंट में करीब पांच करोड़ रुपए जमा है। यानी इस गांव का हर शख्स करोड़पति है। यहां पर आपको हर सुविधा मिलेगी। इस गांव में बैंकों के अलावा स्कूल, कॉलेज, झील, पार्क, अस्पताल और मंदिर भी बने हैं। गांव में एक अत्याधुनिक गौशाला भी है।

ऐसे अमीर बनें ग्रामीण
मधापार गांव के ज्यादा लोग एनआरआई हैं। उनके रिश्तेदार विदेशों में बिजनेस करते है। इसमें यूके, अमेरिका, अफ्रीका के अलावा गल्फ के देश भी शामिल हैं। ये लोग पैसे कमाकर गांव की तरक्की में सहयोग करते और पैसा इकट्ठा करते हैं। ग्रामीण चंदे एकत्र कर गांव को विकसित करते हैं। ग्रामीण जागुआर और महंगी से महंगी लग्जरी कार से चलते हैं। हरघर पर एक नहीं, कम से कम चार से पांच लग्जरी कारें हैं। गोशाला में अच्छी नस्ल की गायों को पालते हैं और पूरा गांव इन्हीं गायों से निकले दूघ का इस्तेमाल करता है।

गांव का मुख्य व्यवसाय कृषि
मधापार गांव में ज्यादातर आबादी पटेल की है। इनमें से 65 प्रतिशत से ज्यादा लोग एनआरआई हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक़, 1968 में मदपार विलेज एसोसिएशन का गठन लंदन में किया गया था, ताकि विदेश में लोग एक जगह मीटिंग कर सके। एक ऑफिस मदपार में भी खोला गया। जिससे लोगों को एक-दूसरे से जोड़े रहे। विदेशों में रहने के बावजूद भी उनकी जड़ें अपने गांव में है। आपको यह जानकर हैरानी होगा कि आज भी इस गांव का मुख्य व्यवसाय कृषि ही है। ग्रामीण आधुनिक खेती करते हैं और हरवर्ष लाखों रूपए कमाते हैं।

लंदन से खास है नाता
साल 1968 में लंदन में मदपार विलेज एसोसिएशन की स्थापना की गई थी। लंदन में मदपार के काफी संख्या में लोग रहते हैं जिसकी वजह से इसका गठन किया गया। एक दूसरे से लोगों को जोड़ने के लिए एसोसिएशन बनाया गया था। अभी भी इस गांव के लोग अधिक संख्या में विदेशों में रहते हैं। विदेशों में रहने वाले लोग अपने परिवार को मोटा पैसा भेजते हैं। इसकी वजह से यहां के लोगों के खातों में 15-15 लाख रुपये हैं।

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities