बड़ी ख़बरें
जेम-टीटीपी के आतंकी को मिला था नूपुर को फिदायीन हमले से मारने का टॉस्क, सैफुल्ला ने इंटरनेट के जरिए वारदात को अंजाम देने की दी थी ट्रेनिंग, पढ़ें टेररिस्ट के कबूलनामें की ‘चार्जशीट’मध्य प्रदेश में नहीं रहेगा अनाथ शब्द, शिवराज सिंह ने तैयार किया खास प्लानजम्मू-कश्मीर की सरकार का आतंकियों के मददगारों पर बड़ा प्रहार, आतंकी बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार को नौकरी से किया बर्खास्त, पैसे की व्यवस्था के साथ वैज्ञानिक चलाते थे आतंक की ‘पाठशाला’होर्ल्डिंग्स से हटाया सीएम का चेहरा, तिरंगे की शान में सड़क पर उतरे योगी, यूपी में 4.5 करोड़ राष्ट्रीय ध्वज फहराने का लक्ष्यबांदा में नाव पलटने की घटना में 6 और शव मिले, अब तक 9 की मौतपहले फतवा जारी और अब लाइव प्रोग्राम में सलमान रुश्दी पर चाकू से किए कई वार14 साल के बाद माफिया के गढ़ में दाखिल हुआ डॉन, भय से खौफजदा मुख्तार और बीकेडी ‘पहलवान’पुलिस के पास होते हैं ‘आन मिलो सजना’ ‘पैट्रोल मार’ ‘गुल्ली-डंडा’ और ‘हेलिकॉप्टर मार’ हथियार, इनका नाम सुनते ही लॉकप में तोते की तरह बोलने लगते हैं चोर-लुटेरे और खूंखार बदमाशखेत के नीचे लाश और ऊपर लहलहा रही थी बाजरे की फसल, पुलिस ने बेटों की खोली कुंडली तो जमीन से बाहर निकला बुजर्ग का कंकाल, दिल दहला देगी हड़ौली गांव की ये खौफनाक वारदातबीजेपी के चाणक्य को देश की इस पॉवरफुल महिला नेता ने सियासी अखाड़े में दी मात, पीएम मोदी से नीतीश कुमार की दोस्ती तुड़वा बिहार में बनवा दी विपक्ष की सरकार

Russia-Ukraine War: रूस ने यूक्रेन की स्वास्थ्य सुविधाओं को बनाया निशाना, अब तक किए 72 हमले

यूक्रेन और रूस में छिड़ी जंग खत्म होने की वजह दिन पर दिन बढ़ती जा रही है और आज 31वें दिन भी लड़ाई जारी है। रूस लगातार यूक्रेन के रिहायशी इलाके पर गोलाबारी कर रहा है। इस बीच एक खबर की पुष्टि हुई है कि रूसी सेना यूक्रेन की स्वास्थ्य सुविधाओं को भी खत्म करने में लगी हुई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 24 फरवरी से शुरू हुए इस युद्ध में रूस ने यूक्रेनी स्वास्थ्य सुविधाओं को निशाना बनाकर कुल 72 हमले किए हैं।

सूत्रों के अनुसार, रूसी सेना जानकर यूक्रेनी स्वास्थ्य सुविधाओं पर हमला कर रही है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, अभी तक 72 हमले में जिन चीजों पर बमबारी की है उसमें 11 परिवहन, 16 कर्मचारी, 58 अस्पताल, 10 मरीज, आठ आपूर्ति और एक गोदाम शामिल है। बता दें कि इन हमलों के परिणामस्वरूप कुल 71 मौतें और 37 लोग घायल हुए हैं और इनमें डाक्टर और मरीज दोनों शामिल हैं।

आपको बता दें कि रूस-यूक्रेन युद्ध एक अंतरराष्ट्रीय सशस्त्र संघर्ष है जिसपर जिनेवा संधि (कन्वेंशन) लागू होती है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जिनेवा कन्वेंशन ने नागरिकों और सैन्य कर्मियों के मूल अधिकारों को निर्धारित किया था और घायलों और बीमारों के लिए सुरक्षा स्थापित करने का नियम बनाया गया था। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, 1954 में तत्कालीन सोवियत संघ द्वारा इसकी पुष्टि भी की गई थी। कन्वेंशन (Geneva Conventions) के अनुच्छेद 18 के तहत, नागरिक अस्पताल पर किसी भी परिस्थिति में हमले नहीं हो सकते हैं। और इस नियम के उल्लंघन की बात आने पर इसकी जांच अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय द्वारा की जा सकती है और युद्ध अपराधी पाए जाने पर मुकदमा चलाया जा सकता है और उन्हें दंडित किया जा सकता है।

 

Related posts

Leave a Comment

अपना शहर चुने

Top cities